ब्लॉग » स्वास्थ्य ब्लॉग » क्रेडी सर्जरी क्लिनिक » Piles Treatment In Hindi – पाइल्स का सरल और आसान इलाज

Piles Treatment In Hindi – पाइल्स का सरल और आसान इलाज

बवासीर को पाइल्स या हेमोराइड के नाम से भी जाना जाता है अनस या गुदा और अनल केनाल के आस पास और अन्दर सूजन आ जाती है। पाइल्स में मलाशय से खून आता है और मल त्यागने में परेशानी होती है हेमोरोइड्स वयस्कों के बीच एक आम स्थिति है जो इलाज (Piles Treatment in Hindi) न किए जाने पर दर्द और असुविधा का एक बड़ा कारण बन सकती है। खूनी बवासीर बहुत दर्दनाक और भयानक होते हैं।पाइल्स अक्सर 45 की उम्र के बाद होते हैं और पुरुषों में महिलाओं की अपेक्षा अधिक होते हैं। इस लेख में हम पाइल्स के कारणों, लक्षणों और इसके इलाज (Piles Treatment in Hindi) के बारे में जानेंगे और यह भी बताएंगे की पाइल्स का घरेलू इलाज (Piles Treatment at Home in Hindi) किस प्रकार किया जा सकता है।

Piles Causes, Symptoms and Treatment in Hindi – पाइल्स के कारण,लक्षण और इलाज

पाइल्स को बवासीर के नाम से भी जाना जाता है और यह अनस की ब्लड वेसल्स पर ज्यादा दबाव के कारण होता है। जिस व्यक्ति को पाइल्स होता है उसके अनस में सूजन आ जाती है और जगह जगह छोटे छोटे मस्से हो जाते हैं। इस बीमारी में होने वाला दर्द बहुत ही भयंकर और दर्ददायक होता है, बहुत बार मरीज को उठने बैठने में भी परेशानी होने लगती है। पाइल्स मुख्य रूप से 2 तरह का होता है-

  • अंदरूनी पाइल्स: इंटरनल पाइल्स व्यक्ति की गुदा में अंदर की तरफ कुछ दूरी पर होते हैं। इस प्रकार के पाइल्स में नसों की सूजन दिखाई नहीं देती पर महसूस बहुत होती है। गुदा से खून आना इसका मुख्य लक्षण होता है और इसको 4 ग्रेड्स में बाँटा गया है- ग्रेड्स I, II, III, IV ।
  • बाहरी पाइल्स: बाहरी बवासीर में यह सूजन गुदा के बिलकुल बाहर दिखती है। बवासीर को पहचानना बहुत ही आसान है। मलत्याग के समय मलाशय में अत्यधिक पीड़ा और इसके बाद रक्तस्राव, खुजली – Khujli ke upay Aur ilaj इसका लक्षण है। इसके कारण गुदा में सूजन हो जाती है।

Causes of Piles in Hindi – पाइल्स के कारण

इंटरनल पाइल्स होने का कारण गुदा के अंदर रक्त वाहिकाओं में सूजन आ जाना होता है और बाहरी रक्तचाप करने के लिए दबाव डालने के दौरान शौचालय, खांसी, छींकने, उल्टी, और मोटापा, गर्भावस्था- Symptoms of Pregnancy in Hindi, बैठे रहने या लंबे समय तक खड़े होने के कारण बढ़ते दबाव के कारण एक्सटर्नल पाइल्स होता है। इसके अलावा पाइल्स होने के कुछ कारण इस प्रकार हैं-

कभी कभी पाइल्स अनुवांशिक होते हैं, आहार में फाइबर की कमी, अपर्याप्त तरल पदार्थ का सेवन, खराब जीवन शैली, तनाव, मल त्यागते समय तनाव, कब्ज और दस्त- Diarrhoea Meaning in Hindi, लंबे समय तक लगातार बैठे या खड़े रहना, शौचालय में लंबे समय तक बैठे रहना, अनल संभोग, प्रेगनेंसी, लगातार भारी सामान उठाने से, मोटापे से ग्रस्त होने की वजह से, रीढ़ की हड्डी की चोट जो मूत्राशय और रेक्टल डिसफंक्शन, ये सभी कंडीशंस पाइल्स का कारण बन सकते है।

Symptoms of Piles in Hindi – पाइल्स के लक्षण

पाइल्स के मुख्य लक्षण (Symptoms of Piles in Hindi) इस प्रकार हैं- अनस से चटख लाल रंग का खून आना, बोवेल मूवमेंट के दौरान दर्द, दर्दनाक सूजन या गुदा के पास एक गांठ बन जाना, गुदा में खुजली होना, गुदा से चिपचिपा पदार्थ का निकलना, गुदा के चारों ओर कठिन गांठ,गुदा के आसपास का क्षेत्र लाल हो जाता है और दर्द होता है।

Piles Treatment in Hindi – पाइल्स का इलाज

पाइल्स का इलाज (Piles Treatment in Hindi) दवाइयों, सर्जरी और कुछ घरेलू उपायों (Piles treatment at Home in Hindi) की सहायता से किया जा सकता है इसके इलाज के बारे में और विस्तार से निचे दिया गया है।

Piles Treatment in Hindi – पाइल्स का इलाज

पाइल्स या बवासीर के रूप में भी जाना जाने वाला हेमोराइड , अक्सर कुछ हफ्तों में इलाज (Piles treatment in Hindi) के बिना ही अपने आप सही हो जाता है। पर अगर बवासीर अपने आप सही नहीं होता है तो बवासीर के लिए कई उपयोगी घरेलू उपचार (Piles treatment at home in Hindi) हैं, साथ ही साथ कुछ मेडिकल मदद लेकर भी बवासीर का इलाज (Medical Piles treatment in Hindi) किया जा सकता है।

Medical Piles treatment in Hindi – पाइल्स का चिकत्सीय इलाज

यदि बवासीर अपने आप कुछ दिनों में सही नहीं होता है तो तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह लीजिये और इसका इलाज कराएं पाइल्स के लिए कुछ मेडिकल इलाज (Medical Piles treatment in Hindi) इस प्रकार हैं-

लाइफ स्टाइल में बदलाव

डाइट : पाइल्स मुख्य रूप से बोवेल मूवमेंट में ब्लीडिंग होना होता है अगर बहुत ज्यादा स्ट्रैनिंग हो रही है तो इसका यह भी मतलब हो सकता है कि आपको कब्ज- Constipation Meaning in Hindi की शिकायत है इसका इलाज (Piles Treatment in Hindi) है- अपने खाने पीने की आदतों में कुछ बदलाव लाकर आप इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं इसके लिए अपनी डाइट में फाइबर युक्त – Fibre Rich Indian Food फल और सब्जियों को शामिल करें।

आपका डॉक्टर आपको ज्यादा से ज्यादा पानी पीने की सलाह देगा, साथ ही साथ जितना हो सके केफीन के सेवन से बचें।

शारीरिक वजन: वजन घटाकर – How To Lose Weight In Hindi भी आप पाइल्स होने की संभावनाओं को कम कर सकते हैं।

इसके अलावा पाइल्स को रोकने के लिए डॉक्टर आपको एक्सरसाइज करने की सलाह भी देगा क्योंकि पाइल्स के इलाज (Piles Treatment in Hindi) के लिए एक्सरसाइज काफी फ़ायदेमंद होती है।

दवाओं की सहायता से

पाइल्स के रोगियों के लिए पाइल्स के लक्षणों को मैनेज करने के लिए बहुत सारे मेडीसिनल विकल्प मिल जायेंगे।

ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) दवाएं: ये दवाइयां काउंटर या ऑनलाइन आसानी से मिल जाती हैं। इन दवाओं में दर्दनाशक, मलम, क्रीम और पैड शामिल हैं, और गुदा के आसपास लाली और सूजन को शांत करने में मदद कर सकते हैं।

ओटीसी दवाएं पाइल्स का इलाज (Piles Treatment in Hindi) नहीं करती पर इसके लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं। इन दवाओं को लगातार 7 दिन से ज्यादा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए वरना ये उस जगह जलन और त्वचा के पतले होने का कारण बन सकते हैं।

कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स: ये सूजन और दर्द को कम करती हैं।

लक्सेटिव्स: यदि पाइल्स वाले व्यक्ति कब्ज से ग्रस्त हैं तो डॉक्टर लक्सेटिव्स लिख सकता है। इससे व्यक्ति मल को अधिक आसानी से पास कर सकता है और निचले कोलन पर दबाव कम पड़ता है।

सर्जिकल विकल्प

पाइल्स से पीड़ित 10 लोगों में से लगभग 1 को सर्जरी की आवश्यकता होती ही है।

बैंडिंग: इस प्रक्रिया में डॉक्टर पाइल्स की जड़ में एक बैंड रख देता है और जहाँ से ब्लड आ रहा होता है उसे काट देता है। कुछ दिनों के बाद, हेमेरोइड गिर जाता है। यह ग्रेड IV से कम के सभी बवासीर के इलाज (Bawaseer ya Piles Treatment in Hindi) के लिए प्रभावी होता है।

स्क्लेरोथेरेपी: इसमें हेमोराइड को सिकुड़ने के लिए इंजेक्शन दिया जाता है। अंततः हेमोराइड shrivels अप हो जाता है। यह ग्रेड II और III बवासीर के लिए प्रभावी है और बैंडिंग का विकल्प है।

इन्फ्रारेड कोगुलेशन: इसको इन्फ्रारेड लाइट कोगुलेशन के नाम से भी जाना जाता है, इसमें हेमोराइड को जलाने के लिए एक डिवाइस का उपयोग किया जाता है। इस तकनीक का उपयोग ग्रेड I और II बवासीर के इलाज (Bawaseer ya Piles Treatment in Hindi) के लिए किया जाता है।

हेमरॉइडेक्टमी: इस प्रक्रिया में जिन टिस्सुस से ब्लीडिंग हो रही होती हैं उन्हें सर्जरी की सहायता से निकल दिया जाता है। यह विभिन्न तरीकों से किया जा सकता है और इसमें स्थानीय एनेस्थेटिक और sedation, एक रीढ़ की हड्डी एनेस्थेटिक, या एक सामान्य एनेस्थेटिक का संयोजन शामिल हो सकता है। इस प्रकार की सर्जरी पूरी तरह से पाइल्स (Piles Treatment in Hindi) को खतम करने के लिए सबसे प्रभावी है, लेकिन जटिलताओं का खतरा है, जिसमें मल त्यागने के साथ-साथ मूत्र पथ संक्रमण भी शामिल है।

हेमोराइड स्टेपलिंग: इसमें रक्त प्रवाह को हेमोराइड ऊतक से बन्द कर दिया जाता है। यह प्रक्रिया आमतौर पर हीमोराइडोइडॉमी से कम दर्दनाक होती है। हालांकि, इस प्रक्रिया से हीमोराइड पुनरावृत्ति और रेक्टल प्रोलैप्स का बढ़ता जोखिम हो सकता है, जिसमें गुदाशय का हिस्सा गुदा से निकलता है।

Piles Treatment at Home in Hindi – पाइल्स का घरेलू इलाज

कुछ घरेलू उपायों (Piles Treatment at Home in Hindi) को करके भी दर्दनाक और भयंकर बवासीर से छुटकारा पाया जा सकता है, उनमे से कुछ निचे दिए गए हैं-

गर्म स्नान: गर्म पानी के एक टब में बैठना जिसमे आपके पैरों को भिगोने लायक पर्याप्त पानी भरा हो, सूजन को कम करने और बवासीर के कारण जलन को कम करने में मदद कर सकता है।

कुछ लोग पाइल्स के लक्षणों को और भी कम करने के लिए स्नान/ गर्म पानी के तब में अन्य इंग्रीडिएंट्स भी डाल लेते हैं। इन इंग्रीडिएंट्स में एक कप इप्सॉम साल्ट या एप्पल साइडर सिरका भी शामिल है।

विच हैज़ल: बहुत से लोग बाहरी पाइल्स से राहत पाने के लिए विच हेज़ल का उपयोग करते हैं, यह एक एस्ट्रिजेंट होता है जो हेमोरोइड्स में टिस्सुस को श्रिंक करने का काम करता है। एक कॉटन बॉल पर थोड़ा सा विच हेज़ल लगाने से हेमोराइड और उसके कई लक्षणों में राहत मिलती है।

नारियल का तेल: पाइल्स के घरेलू उपायों (Piles Treatment at Home in Hindi) में से एक ये भी है। नारियल का तेल एक प्राकृतिक मॉइस्चराइज़र है, जो हेमोराइड के लक्षणों को काम करने में मदद करता है। नारियल के तेल को लगाने से जलन और सूजन कम हो सकती है।

एलोवेरा: वैसे तो एलोवेरा एक प्राकृतिक और घरेलू औषिधि के रूप में शुमार है और यह हमारे शरीर की कई बीमारियों को कम करने में काम आता है, एलोवेरा – Aloe Vera ke Fayde in Hindi की सहायता से आप पाइल्स का घर में इलाज (Piles Treatment at Home in Hindi) कर सकते हैं। इसके अज्वलनशील गुण के कारण ही इसका उपयोग हेमोरोइड के कई लक्षणों को कम करने के लिए किया जाता है। बवासीर के कारण जलन, खुजली और सूजन से राहत प्रदान करने के लिए एलोवेरा का उपयोग किया जाता है।

आइस पैक के सहायता से: पाइल्स में बर्फ या ठंडे पैक लगाने से दर्द और सूजन से छुटकारा पाने में भी मदद मिल सकती है। जब आप बैठे हुए हों या जब हेमोराइड फ्लेरेस हो तो आइस पैक लगाने से दर्द में और सूजन में अस्थायी रूप से आराम मिलता (Piles Treatment at Home in Hindi) है। त्वचा को नुकसान से बचाने के लिए आइस क्यूब्स को एक छोटे तौलिये में लपेट कर 15 min के लिए लगाना चाहिए और इस प्रक्रिया को प्रति घंटा दोहराएं।

पाइल्स सर्जरी और पाइल्स के इलाज के लिए अपने पास के डॉक्टर (Piles Doctors in Delhi) से अपॉइंटमेंट बुक करें।

पाइल्स के लक्षणों का पता चलते ही उनका इलाज करना चाहिए या आप ऊपर दिए गए घरेलू उपायों (Piles Treatment at Home in Hindi) की सहायता से भी पाइल्स का इलाज कर सकते हैं। बहुत बार इसके लक्षण शुरुआत में दिखाई नहीं देते परन्तु कुछ समय में ये महसूस होने लगते हैं, अगर सही समय पर इलाज (Piles Treatment in Hindi) करा लिया जाये तो आप इसके भयंकर दर्द और पीड़ा से बच सकते हैं।
इसके बारे में भी विस्तार से पढ़ें: Piles meaning in Hindi और Nausea meaning in Hindi