ब्लॉग » गर्भावस्था » Pregnancy Diet Chart in Hindi – प्रेगनेंसी डाइट चार्ट 

Pregnancy Diet Chart in Hindi – प्रेगनेंसी डाइट चार्ट 

यदि आप एक महिला हैं तो आपको पता ही होगा की प्रेगनेंसी आपके जीवन में कितनी महत्वपूर्ण होती है, यही नहीं किसी पुरुष के लिए भी पिता बनना बहुत ही उत्साहपूर्ण होता है। यह समय जितना महत्वपूर्ण होता है उतना ही इस समय यह ध्यान रखना अत्यन्त आवश्यक होता है कि क्या करें और क्या न करें, कौन से Pregnancy Diet Chart in Hindi का अनुसरण करें और क्या न खाएं।
इस समय के दौरान एक महिला के शरीर में बहुत से हार्मोनल बदलाव होते हैं जो महिला में मूड स्विंग, भूख और शरीर के चयापचय को प्रभावित करने के रूप में दिखाई देते हैं। ज्यादातर महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान जी मिचलाने की समस्या का काफी बार सामना करना पड़ता है, जो उनके आहार और स्वास्थ्य को प्रभावित करती है। अतः यह आवश्यक है कि भोजन में आयरन, कैल्शियम, फोलिक एसिड और विटामिन हों।

आज हम आपको बताने जा रहें हैं कि प्रेगनेंसी के दौरान किस आहार चार्ट का पालन करें जो पोषण में उच्च हो और पूरे दिन में आपको ऊर्जावान बनाए रखने में मदद भी करे। आइये नजर डालते हैं pregnancy diet in hindi पर।

प्रेगनेंसी डाइट प्लान

महिला के गर्भ में पलने वाले बच्चे को आवश्यक पोषक तत्व महिला से प्राप्त होते हैं, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि महिला अपने स्वास्थ्य का अच्छा से ख्याल रखे और संतुलित आहार लें। गर्भावस्था के दौरान वजन बढ़ना चिंता का एक और कारण है, संतुलित आहार चार्ट (Pregnancy Diet Chart in Hindi) का पालन करके एक स्वस्थ वजन प्राप्त किया जा सकता है। यहां प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए डाइट प्लान (Pregnancy Diet in Hindi) दिया गया है जो पोषण से भरपूर है और सही वजन हासिल करने में मदद कर सकता है।

गर्भवती महिलाओं के लिए आहार संबंधी दिशानिर्देश – Pregnancy Diet Chart in Hindi

यदि आप प्रेग्नेंट हैं या प्रेगनेंसी के बारे में सोच रही हैं, तो आपके लिए तुरंत उचित पोषण लेना शुरू करना अत्यंत आवश्यक है। आप प्रेगनेंसी की शुरुआत से 3 महीने तक प्रेगनेंसी डाइट चार्ट (Pregnancy Diet Chart in Hindi) का पालन कर सकती हैं, क्योंकि यह पोषण को रिजर्व करने में मदद करेगा जो आपके बढ़ते बच्चे के लिए सहायक होगा।

स्वस्थ भोजन आपको आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करेगा जो आपके शरीर और आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत करेगा, और आपके चयापचय (मेटाबोलिज्म) को बढ़ाएगा। इससे पहले कि आप प्रेगनेंसी के लिए एक निश्चित डाइट प्लान (Pregnancy Diet Chart in Hindi) का पालन करें, अपने गायनोकोलॉजिस्ट से सलाह अवश्य लें। साथ ही समय किसी डाइट प्लान (Pregnancy Diet in Hindi) का अनुसरण करते समय इन बातों का ध्यान अवश्य रखें:

  • दिन के दौरान खुद को हाइड्रेटेड रखें और कुछ समय के अंतराल पर जितना हो सके उतना पानी या जूस पिएं
  • रोटी, चपाती और नूडल्स जैसे साबुत अनाज से बने खाद्य पदार्थों का सेवन करें
  • दिन में ताजे फल और सब्जियों की 5 सर्विंग का सेवन करें
  • गर्भावधि मधुमेह (gestational diabetes) की संभावना से बचने के लिए प्रेगनेंसी के दौरान चीनी और मीठे व्यंजनों का सेवन कम करें
  • अल्कोहल, पैकेज्ड जूस, और वसा युक्त पदार्थों को पीने से बचें
  • स्वस्थ खाने के अलावा, अपने डॉक्टर द्वारा सुझाए गए आयरन, कैल्शियम, फोलिक एसिड और विटामिन के लिए आवश्यक सप्लीमेंट अवश्य लें। ये बच्चे को प्रभावित करने वाले न्यूरल ट्यूब दोष (neural tube defects) की संभावना से बचने में मदद करते हैं और उसके मस्तिष्क और अन्य अंगों के विकास में सहायता करते हैं।

पूरे दिन के दौरान नाश्ता, दोपहर का भोजन, शाम का स्नेक्स और रात का खाना किस प्रकार और क्या खाएं, आइये जानते हैं

इसके बारे में भी विस्तार से पढ़ें: गर्भावस्था के लक्षण – Symptoms of Pregnancy in Hindi

सुबह सवेरे का भोजन – Morning Breakfast

मॉर्निंग सिकनेस प्रेगनेंसी का एक अहम हिस्सा और एक प्रकार से तोहफा होता है। सुबह यह अवश्य सुनिश्चित करें कि आपके पास एक गिलास गाय का दूध हो क्योंकि यह आपको मॉर्निंग सिकनेस से राहत देने में मदद करता है। आप एक गिलास नारियल का दूध या नींबू पानी भी पी सकती है क्योंकि यह कब्ज और हार्टबर्न को कम करने में मदद करेगा।

Pregnancy Diet Chart in Hindi, pregnancy diet in hindi, Pregnancy Tips in Hindi

सुबह का नाश्ता दिन का सबसे आवश्यक भोजन होता है।यह सभी मनुष्य जनों के लिए अत्यंत आवश्यक होता है कि वे सुबह अच्छे से नाश्ता करें और यदि आप प्रेग्नेंट हैं तब यह आपके लिए अति अनिवार्य है। यदि आप नाश्ता छोड़ती हैं तो यह आपको पूरे दिन के दौरान आपको थका हुआ और सुस्त महसूस करा सकता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आपको रातभर भूखी होती हैं और इसके कारण आपका ब्लड शुगर लेवल गिर जाता है। आप अपने दिन की शुरुआत नीचे दिए गए पौष्टिक नाश्ते से कर सकते हैं जैसा कि नीचे बताया गया है:

  • ताजे फलों के साथ 1 कटोरी दलिया – इनमें महत्वपूर्ण विटामिन और फाइबर होते हैं
  • 1 प्लेट रवा उपमा या पोहा या सब्जियों के साथ सेंवई – ये आपको बहु पोषक तत्वों और फाइबर के साथ पोषण प्रदान करते हैं
  • मक्खन और आमलेट के साथ व्होले ग्रेन ब्रेड टोस्ट के 2 स्लाइस
  • 1 ग्लास लो-फैट दूध या बटर मिल्क या फोर्टिफाइड ऑरेंज जूस
  • एक आमलेट या वेजिटेबल सैंडविच – यह प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत होता है
  • 2 दाल, आलू, गाजर, पालक के परांठे दही के साथ या मिक्स वेज के साथ – यह फाइबर, कैल्शियम और विटामिन प्रदान करते हैं

दोपहर का भोजन

दोपहर के भोजन के समय एक संतुलित आहार ग्रहण करें। आप दाल, सरील्स, साबुत अनाज, नट और ताजी सब्जियों का उपयोग करके अपने लिए व्यंजनों की एक सारणी (लिस्ट) बना सकते हैं। ये आपको सही मात्रा में विटामिन, फाइबर और खनिज प्रदान करेंगे। खाना पकाने के लिए केवल स्वस्थ तेलों जैसे चावल की भूसी का तेल, कुसुम का तेल या जैतून का तेल का ही उपयोग करें।

Pregnancy Diet Chart in Hindi, pregnancy diet in hindi, Pregnancy Tips in Hindi

दोपहर के भोजन से पहले आप सब्जियों की सलाद या एक कटोरी सूप ले सकती हैं। यदि आप मांसाहारी भोजन खाती हैं, तो आप चिकन और मछली को शामिल कर सकती हैं क्योंकि वे अच्छी मात्रा में कंसन्ट्रेटेड प्रोटीन, ओमेगा -3 और स्वस्थ वसा प्रदान करते हैं।ये लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने में भी मदद करते हैं।

दोपहर के भोजन के लिए कुछ विचार इस प्रकार हैं-

  • दाल के साथ 2 रोटियां, एक कटोरी दही या आप किसी भी सब्जी जैसे मिक्स वेज, कोफ्ता, पनीर इत्यादि के साथ रोटियां खा सकती हैं।
  • चावल की कोई भी डिश जैसे कि जीरा और मटर के चावल, सब्जी के साथ बने चावल, खिचड़ी या लेमन राइस के साथ रायता या सादा दही का सेवन कर सकती है।
  • रोटी के साथ 1 कटोरी चिकन करी और चावल।
  • 1 कटोरी पालक पनीर रोटी या चावल के साथ। पालक फोलिक एसिड और आयरन से भरपूर होता है और गर्भवती महिलाओं के लिए आयरन का अच्छा स्त्रोत होता है।

स्नैक्स

जब आप प्रेग्नेंट होते हैं तो बार-बार भूख लगना आम बात होती है। क्योंकि आपके भीतर एक नया जीवन पल रहा होता है और आपका शरीर दिन-रात काम कर रहा होता है। इसलिए आपको निश्चित रूप से अधिक ऊर्जा और अधिक भोजन की आवश्यकता होगी ही। इसलिए आपको दिन में 3 बड़े भोजन के बजाय पूरे दिन के दौरान छोटे और लगातार भोजन करने की आदत डालनी चाहिए। शाम के लिए यहां कुछ स्नैक आइडिया इस प्रकार हैं:

Pregnancy Diet Chart in Hindi, pregnancy diet in hindi, Pregnancy Tips in Hindi

  • ताजे फल या फ्रूट स्मूदी
  • मुट्ठी भर अखरोट, बादाम या खजूर
  • अपने आप को हाइड्रेटेड रखने के लिए ताज़े फलों से तैयार जूस पिएं
  • साबुत अनाज और कम चीनी वाले ग्रेनोला बार भी एक अच्छा विकल्प है
  • सब्जी या पालक की इडली सेहतमंद होती हैं और जल्दी पेट भरने में सहायक होती है
  • पनीर, मकई या सब्जी सैंडविच स्वादिष्ट और पौष्टिक होते हैं
  • गुड़ या कम चीनी से बना गाजर या लौकी का हलवा
  • एक कप गर्म ग्रीन टी आरामदायक होती है
  • सब्जियों के साथ दलिया या उत्तपम एक पूर्ण मिनी-भोजन के समान होता है
  • भुना हुआ चना फाइबर में उच्च होता है और कब्ज के लिए एक उपयुक्त इलाज है

रात का खाना

ऐसी सलाह दी जाती है कि आप रात में जितना हल्का और जल्दी खाना खाएं उतना ही आपके स्वास्थ्य के लोए अच्छा होता है। यह स्वस्थ आदत आपके भोजन के उचित पाचन में सहायता करेगी और आपको रात में अच्छी नींद लेने में मदद करेगी। रात के खाने के लिए, आप दोपहर के भोजन से विचारों को दोहरा सकते हैं। रात के भोजन में आप निम्न को शामिल कर सकते हैं:

Pregnancy Diet Chart in Hindi, pregnancy diet in hindi, Pregnancy Tips in Hindi

  • दाल के साथ रोटी, या अपनी पसंद की कोई भी सब्जी, सलाद, और दही
  • वेजिटेबल रायता के साथ वेजिटेबल पुलाव या चिकन राइस
  • छाछ के साथ सादा परांठा
  • ज्वार / बाजरे की रोटी, घी और रायते के साथ – ये अनाज पचाने में आसान होते हैं
  • सब्जी के साथ मिश्रित दाल खिचड़ी और दही
  • चुकंदर और गाजर की खीर – यह हीमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाता है और विटामिन ए और अन्य पोषक तत्वों से भरपूर होता है

निष्कर्ष

एक ऐसा डाइट प्लान चुनें जो आपके और आपके बच्चे के लिए सर्वोत्तम पोषक तत्वों को प्रदान करे। साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि आप किसी विशिष्ट आहार (Pregnancy Diet Chart in Hindi) का पालन करने से पहले अपने गायनोकोलॉजिस्ट या डायटीशियन से सलाह ले लें, ताकि आपको एक स्वस्थ प्रेग्नन्सी हो और आपका बच्चा भी स्वस्थ पैदा हो।

इसके बारे में भी विस्तार से पढ़ें: Pregnancy in Hindi

अपने स्वस्थ्य से जुडी किसी भी समस्या और मुफ़्त व्यक्तिगत मार्गदर्शन के लिए, क्रेडीहेल्थ मेडिकल एक्सपर्ट से बात करने के लिए यहाँ क्लिक करें-

कॉल बैक का अनुरोध करें

Need Guidance in choosing right doctor?

REQUEST CALLBACK