ब्लॉग » स्वास्थ्य ब्लॉग » क्रेडी सर्जरी क्लिनिक » Hernia in Hindi – जानिए हर्निया के प्रकार, कारण और इलाज
hernia in hindi, hernia meaning in hindi, what is hernia in hindi, hernia ka ilaj in hindi, hernia symptoms in hindi

Hernia in Hindi – जानिए हर्निया के प्रकार, कारण और इलाज

हर्निया एक बहुत ही आम समस्या है, कई बार आपने लोगों को कहते सुना होगा कि उन्हें हर्निया हो गया है या उनका हर्निया का ऑपरेशन हुआ है। यह समस्या स्त्री या पुरुष, किसी को भी हो सकती है। जब इंसान के पेट की मसल कमजोर हो जाती है या कोई डिफेक्ट पैदा हो जाता है तब हर्निया (Hernia in Hindi) की समस्या होती है।

हर्निया में मनुष्य की पेट की मांसपेशिया कमजोर हो जाती हैं और उनके अंदर से आंतें या कोई कंटेंट बाहर आने लगता है और लेट जाने पर वापस चला जाता है, बहुत बार हर्निया में खड़े होने में, खांसने में या कोई अन्य कार्य करने में परेशानी होने लगती है और लेट जाने पर इससे आराम मिलता है।

यहाँ हम बताएंगे कि हर्निया होता क्या (What is Hernia in Hindi) है, यह कितने प्रकार का होता है, हर्निया के लक्षण क्या हैं और इसके संभव इलाज क्या क्या हो सकते हैं? आइये सबसे पहले जानते हैं की हर्निया क्या होता है।

हर्निया क्या होता है?

हर्निया की समस्या तब उत्त्पन्न होती है जब पेट में से कोई अंग या मांसपेशी या ऊतक किसी छेद की सहायता से बाहर आने लगता है। उदाहरण के लिए, बहुत बार आंत, पेट की कमजोर दीवार में छेद करके बाहर आ जाती हैं। पेट में हर्निया होना सबसे आम हैं, लेकिन यह जाँघ के ऊपरी हिस्से, बीच पेट में और ग्रोइन क्षेत्रों (पेट और जाँघ के बीच का भाग) में भी हो सकता है। इसके लक्षण (Hernia Symptoms in Hindi) आमतौर पर दिखाई नहीं देते हैं पर कभी कभी तीव्रता से दर्द होना हर्निया में काफी सामान्य होता है और इसी से हम पहचान सकते हैं कि हमे हर्निया की समस्या है।

आमतौर पर हर्निया जानलेवा नहीं होता है, लेकिन यह अपने आप सही नहीं होता है। कभी-कभी हर्निया से होने वाली खतरनाक जटिलताओं को रोकने के लिए या समाप्त करने के लिए सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

आइये इस लेख की सहायता से जानते हैं हर्निया के कारण, लक्षण और इलाज क्या होते हैं?

हर्निया के कारण

हर्निया मांसपेशियों की कमजोरी और तनाव के संयोग के कारण होते हैं। इसके कारण के आधार पर, हर्निया तेजी से या लंबे समय तक के लिए विकसित हो सकती है।

मांसपेशियों की कमजोरी के सामान्य कारणों (Hernia Causes in Hindi) में निम्न शामिल हैं:

  • गर्भ में पेट की दीवार ठीक से बंद होने में विफलता, जो एक जन्मजात दोष है
  • आयु
  • पुरानी खांसी
  • चोट या सर्जरी से नुकसान

कुछ ऐसे कारक भी हैं जो आपके शरीर पर दबाब डालते हैं और हर्निया का कारण बन सकते हैं, खासकर यदि आपकी मांसपेशियों कमजोर हैं, तो इसमें शामिल हैं:

  • गर्भवती होने से, जो आपके पेट पर दबाव पड़ता है
  • कब्ज या कॉन्स्टिपेशन होने पर, आपके बोवेल मूवमेंट के समय तनाव बढ़ जाता है
  • भारी वजन उठाने से
  • पेट में मुक्त द्रव होने से
  • अचानक वजन बढ़ जाने से
  • किसी अंग की सर्जरी के कारण
  • लगातार खांसी या छींकने की समस्या के कारण
  • सिस्टिक फाइब्रोसिस
  • बढ़ा हुआ प्रोस्टेट
  • पेशाब करने के लिए तनाव लगाना
  • भारी वस्तुओं को उठाना
  • पेरिटोनियल डायलिसिस
  • खराब पोषण
  • धूम्रपान
  • शारीरिक थकावट
  • अपरिचित टेस्टिकल्स

इसके बारे में भी विस्तार से पढ़ें: Normal Delivery Tips in Hindi – नार्मल डिलीवरी के लिए क्या करें?

हर्निया कई प्रकार का होता है और यह अलग अलग मनुष्यों में अलग अलग तरह से हो सकता है। इसके विभिन्न प्रकारों के बारे में हमने नीचे दिया हुआ है। आइये जानते हैं कितने प्रकार का होता है हर्निया?

हर्निया के प्रकार

हर्निया स्त्री और पुरुष दोनों में ही अलग अलग प्रकार का होता है। उसके आधार पर भी इसे वर्गीकृत किया गया है । हर्निया को इसके किसी अंग से निकलने के आधार पर भी बाँटा गया है आइये जानते हैं इसके कितने प्रकार होते हैं –

  • वेक्षण हर्निया (इंग्वाइनल हर्निया)
  • नाभि हर्निया (अम्बिलाइकल)
  • जघनास्थिक हर्निया (फीमोरल हर्निया)
  • इंसिज़नल हर्निया

वेक्षण हर्निया (इंग्वाइनल – Inguinal Hernia in Hindi)

इंग्वाइनल हर्निया, हर्निया का सबसे आम प्रकार है। ब्रिटिश हर्निया सेंटर (BHC) के अनुसार, हर्निया के सभी प्रकारों में कुल 70% मामलों में इस प्रकार का हर्निया पाया जाता है। ये हर्निया तब होती हैं जब आंत पेट में किसी कमजोर जगह या पेट की निचली दीवार को फाड़कर बाहर निकल आ जाती है, अक्सर इंग्वाइनल केनाल में यह होता है।

इंग्वाइनल केनाल हमारे ग्रोइन में पाया जाता है। इस तरह का हर्निया महिलाओं की तुलना में पुरुषों में होना अधिक आम है। ऐसा इसलिए है क्योंकि जन्म के कुछ ही समय बाद मनुष्य के अंडकोष इंग्वाइनल केनाल से बाहर निकल ते हैं, और केनाल को लगभग पूरी तरह से बंद करना होता है। कभी-कभी, केनाल ठीक से बंद नहीं होता है और हर्निया होने के लिए एक कमजोर क्षेत्र बन जाता है।

नाभि हर्निया (अम्बिलाइकल – Umbilical Hernia in Hindi)

इस तरह का हर्निया बच्चों में, और 6 महीने से कम उम्र के बच्चों को हो सकता है। ऐसा तब होता है जब उनकी आंतें, नाभि के पास वाली पेट की दीवार के माध्यम से बाहर निकल आने लगती हैं। इस तरह के हर्निया में आप अपने बच्चे की नाभि में या उसके आस-पास एक उभर देख सकते हैं, खासकर जब वे रो रहे हों।

अम्बिलइकल हर्निया एकमात्र ऐसा प्रकार है जो अक्सर अपने आप से खत्म हो जाता है क्योंकि आमतौर पर जब बच्चा 1 वर्ष का होता है, पेट की दीवार की माँसपेशियाँ मजबूत हो जाती हैं। यदि हर्निया सही नई होता है, तो इसे ठीक करने के लिए सर्जरी का उपयोग किया जा सकता है।

जघनास्थिक हर्निया (फीमोरल – Familial Hernia in Hindi) 

इस तरह का हर्निया कुल मामलों में केवल 20% लोगों को ही होता है, जो पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अधिक होता है।यह काफी हर्निया का काफी असमान्य प्रकार होता है। यह कभी कभी जाँघों या ग्रोइन के भीतरी ऊपरी हिस्से में दिखाई देता है। जब आप लेट जाते हैं तो यह उभर वापस चला जाता है, परन्तु खांसी आने पर और किसी तरह के दर्द के कारण यह वापस आ सकता है।

इंसिज़नल हर्निया

पेट की सर्जरी होने के बाद इस तरह का हर्निया हो सकता है। आपकी आंतें चीरे के निशान या आसपास के, कमजोर ऊतक के माध्यम से बाहर निकल की और आ सकती हैं।

हर्निया के प्रकार और इलाज के बारे में इंग्लिश में विस्तार से पढ़ें: Hernia: Types & Causes

हर्निया के लक्षण (Symptoms of Hernia in Hindi)

कई मामलों में, एक हर्निया एक दर्द रहित छोटा सा उभार जैसे होता है जो कोई समस्या जैसा नहीं लगता और उसे तत्काल चिकित्सा ध्यान देने की आवश्यकता भी नहीं होती है। हालांकि, हर्निया कभी कभी असुविधा और दर्द का कारण भी हो सकता है, जिसमें खड़े होने, तनाव के कारण, या भारी वस्तुओं को उठाने के दौरान अक्सर लक्षण के रूप में दर्द हो जाता है। ज्यादातर लोग जो इस प्रकार के उभार या उभार में वृद्धि देखते हैं, अंततः हर्निया के डॉक्टर को दिखाते हैं।

कुछ मामलों में, हर्निया को तत्काल सर्जरी की आवश्यकता होती है, उदाहरण के लिए, जब आंत का हिस्सा एक इंग्वाइनल हर्निया द्वारा बाधित हो जाता है या अवांछित हो जाता है।अगर इंग्वाइनल हर्निया में नीचे दी गयी इन सभी समस्याओं के साथ तीव्र पेट दर्द की शिकायत हो तो तत्काल चिकित्सा ध्यान मांगा जाना चाहिए –

  • दर्द
  • जी मिचलाना (Nausea Meaning in Hindi)
  • उल्टी
  • उभार को वापस पेट में धक्का न दिया जा सके

इन सभी मामलों में सूजन आम तौर थोड़ी कठोर और थोड़ी मुलायम सी होती है जिसे पेट में वापस धकेला नहीं जा सकता।

हर्निया का इलाज (Hernia ka ilaj in Hindi)

आपको हर्निया के इलाज की जरुरत है या नहीं यह आपके हर्निया के आकर और लक्षणों पर निर्भर करता है।आपका डॉक्टर आपके लक्षणों की जटिलता के आधार पर आपके हर्निया की जांच करेगा। हर्निया के इलाज के लिए निम्नलिखित विकल्प हैं –

  • जीवनशैली में परिवर्तन (लाइफस्टाइल में बदलाव)
  • दवाइयों की सहायता से
  • सर्जरी

जीवनशैली में परिवर्तन (लाइफस्टाइल में बदलाव)

आहार में परिवर्तन लेकर आप हाइटल हर्निया के लक्षणों का इलाज कर सकते हैं, पर यह हमेशा के लिए खत्म नहीं होगा। बहुत ज्यादा और हैवी खाना खाने से बचें, खाना खाने के तुरंत बाद लेटे या सोयें नहीं, और अपने शरीर के वजन को सही बनाएं रखें। कुछ तरह के व्यायाम हर्निया की जगह के आसपास की मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करते हैं, जो हर्निया के कुछ लक्षणों को कम कर सकते हैं।

हालांकि, गलत तरीके से व्यायाम करने से उस जगह में दबाव बढ़ सकता है और वास्तव में हर्निया को और अधिक बढ़ाने का कारण बन सकता है। इसके लिए जरूरी है कि अपने डॉक्टर से सलाह ले ली जाये की कौन सा व्यायाम करें और कौन सा नहीं।

यदि इन बदलावों के बाद भी आपको आराम नहीं मिलता है तो, आपको सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। इसके अलावा आप कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों को न खाकर जिनसे आपको एसिडिटी हो या सीने में जलन हो, हर्निया के लक्षणों में सुधार कर सकते हैं। इसके अलावा आप सिगरेट छोड़ कर भी एसिड रिफ्लक्स से बच सकते हैं।

दवाइयों की सहायता से

यदि आपको हाइटल हर्निया है, तो ओवर-द-काउंटर और डॉक्टर द्वारा लिखी गयी दवाएं जो पेट में एसिड को कम करती हैं, आपकी असुविधा से छुटकारा दिला सकती हैं और लक्षणों में सुधार कर सकती हैं।

सर्जरी

यदि आपकी हर्निया लगातार बढ़ रही है या उसमे दर्द बढ़ता जा रहा है, तो आपका डॉक्टर यह तय कर सकता है कि इसे सही करने के लिए क्या सबसे अच्छा है। हर्निया को सही करने के लिए, सर्जरी में आपका डॉक्टर पेट की दीवार में हुए छेद को सिल सकता है। आमतौर पर यह सर्जिकल जाल के साथ छेद को पैच करके किया जाता है।

हर्निया को ओपन या लैप्रोस्कोपिक सर्जरी के साथ सही किया जाता है। लैप्रोस्कोपिक सर्जरी के लिए केवल एक छोटे से कैमरे और कुछ छोटे- छोटे सर्जरीकल यंत्रों का उपयोग करती है। लैप्रोस्कोपिक सर्जरी आसपास के ऊतकों के लिए कम हानिकारक है।

ओपन सर्जरी से यदि हर्निया का इलाज किया जाता है तो सही हीने में काफी समय लग सकता है। ऑपरेशन के बाद आप करीबन छह सप्ताह तक सामान्य रूप से घूमने में असमर्थ हो सकते हैं। लैप्रोस्कोपिक सर्जरी में के बाद सही होने में बहुत कम समय लगता है, लेकिन इसमें हर्निया के वापस होने का खतरा अधिक होता है।

हर्निया से बचाव

आप हमेशा मांसपेशियों की कमजोरी को रोक नहीं सकते हैं । हालांकि, आप अपने शरीर से तनाव को कम कर सकते हैं। इससे आपको हर्निया से बचने में मदद मिल सकती है या मौजूदा हर्निया को और भी खराब न होने में मदद मिल सकती है। इसके लिए रोकथाम के लिए आप इन उपायों को कर सकते हैं –

  • धूम्रपान न करें
  • लगातार खांसी होने या बीमार होने पर अपने डॉक्टर को तुरंत दिखाएँ
  • एक स्वस्थ शरीर के लिए अपने वजन को सही रखें
  • बोवेल मूवमेंट या पेशाब के दौरान तनाव से परहेज करें
  • अपने घुटनों से वस्तुओं को उठायें, पीठ से नहीं
  • बहुत भारी वजन उठाने से बचें

हर्निया के शुरुआती संकेतों और लक्षणों को पहचानना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। इसका इलाज न किए जाने से हर्निया अपने आप से खत्म नहीं होगा। हालांकि, प्रारंभिक चिकित्सा देखभाल या जीवनशैली में परिवर्तन करके, आप बेहतर महसूस कर सकते हैं और इसकी घातक जटिलताओं से बच सकते हैं।

जानिए दिल्ली NCR में हर्निया सर्जरी की कुल लागत और सबसे अच्छे अस्पतालों की लिस्ट

इसके बारे में भी विस्तार से पढ़ें: Immunity Meaning in Hindi

यदि आप हर्निया के इलाज के बारें में जानकारी चाहते है या अच्छे विकल्प की तलाश कर रहे हैं, आज ही भारत के सर्वश्रेष्ठ डॉक्टर  के साथ अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए यहाँ क्लिक करें:

कॉल बैक का अनुरोध करें  

Need Guidance in choosing right doctor?

REQUEST CALLBACK
Subscribe