ब्लॉग » स्वास्थ्य ब्लॉग » गैस्ट्रोएंटरोलॉजी » जानिये क्या होता है अपेंडिक्स का मतलब, लक्षण और इसके इलाज | Appendix Meaning in Hindi, Lakshan Aur Ilaj

जानिये क्या होता है अपेंडिक्स का मतलब, लक्षण और इसके इलाज | Appendix Meaning in Hindi, Lakshan Aur Ilaj

हम इंडियंस खाने पीने के बहुत शौकीन होते हैं और बहुत बार बाहर का खाना खाने से पहले एक बार भी नहीं सोचते। पर क्या आपको पता है गलत खान पान की आदतों की वजह से हमारे पेट में दर्द, एसिडिटी और पेट की अनेक छोटी मोटी समस्याएं हो सकती हैं। अक्सर एसिडिटी और पेट दर्द जैसी समस्याओं को हम नजरंदाज कर देते हैं परन्तु यदि आप लगातार पेट और पीठ दर्द से पीड़ित हैं तो इसे हल्के में न लें, यह अपेंडिक्स का दर्द भी हो सकता है। Appendix Meaning in Hindi – अपेंडिक्स आँत का ही एक टुकड़ा होता है जो सामन्यतः छोटी आँत और बड़ी आँत के बीच में होता है, यह लगभग चार इंच लंबी एक पतली ट्यूब होती है जो पेट में दायीं ओर नीचे की तरफ होती है। जब व्यक्ति को लम्बे समय तक एसिडिटी, कब्ज या पेट में इन्फेक्शन की समस्या रहती है तो इस आंत में सूजन आ जाती है जो अपेंडिक्सके दर्द का कारण बनती है इसलिए आवश्यक है कि इसके लक्षणों (Appendix Ke Lakshan Hindi Mai) और कारणों के बारे में पता हो ताकि समय से इसका इलाज (Appendix Ka Ilaj) करा सकें। आइये जानते हैं अपेंडिक्स का मतलब क्या होता है, और इसके इलाज के लिए ऑपरेशन (appendix operation in hindi) आवश्यक हैं या नहीं?

अपेंडिक्स का मतलब हिंदी में – Appendix Meaning in Hindi

Appendix Meaning in Hindi: अपेंडिक्स 4 इंच लंबी ट्यूब के समान होता है। यह मनुष्य की बड़ी आंत के पहले भाग से जुड़ा हुआ होता है। वैसे तो अपेंडिक्स का कार्य अज्ञात है परन्तु एक सिद्धांत के अनुसार अपेंडिक्स अच्छे बैक्टीरिया के लिए भंडारगृह के रूप में कार्य करता है, जो डायरिया जैसी बीमारियों के बाद पाचन तंत्र को “रिबूट या पुनः सुचारु रूप से चलने में मदद” करता है। अन्य विशेषज्ञों का मानना ​​है कि अपेंडिक्स हमारे शरीर का एक बेकार अवशेष है जो किसी योग्य नहीं होता।और यदि अपेंडिक्स को सर्जिकल तरीके से हटा दिया जाये तो इससे किसी तरह की कोई स्वास्थ्य समस्याएं नहीं होती हैं।

अपेंडिक्स कंडीशन

  1. एपेंडिसाइटिस: एपेंडिसाइटिस, अपेंडिक्स में सूजन, इन्फेक्शन या टूट फुट के कारण  (Appendix Ke Karan) होता है, जिसमे जी मिचलाना, और उल्टी के साथ पेट के दाहिने निचले हिस्से में तेज दर्द होता है। पुरुषों में एपेंडिसाइटिस का जोखिम लगभग 8.6 प्रतिशत होता है वहीं यदि आप एक महिला हैं तो आपको एपेंडिसाइटिस का जोखिम लगभग 6.7 प्रतिशत होगा।
  2. अपेंडिक्स का ट्यूमर: कार्सिनॉइड ट्यूमर उन रसायनों का स्राव करते हैं जो आवधिक निस्तब्धता, घरघराहट और दस्त का कारण बनते हैं। अपेंडिक्स में एपिथेलियल ट्यूमर की ग्रोथ होती है जो कैंसर हो सकता है। अपेंडिक्स ट्यूमर बहुत ही दुर्लभ हैं।

“इसका इलाज करने के लिए, डॉक्टर ऍपेन्डेक्टमी करके अपेंडिक्स को निकलते हैं।”

अपेंडिक्स के लक्षण – Appendix Ke Lakshan Hindi Mai

अपेंडिसाइटिस आमतौर पर एक जीवाणु संक्रमण या बैक्टीरियल इन्फेक्शन के कारण (Appendix Ke Karan) होता है।इन्फेक्शन आपके पेट में शुरू हो सकता है और अपेंडिक्स में फ़ैल सकता है।

एपेंडिसाइटिस के लक्षण (Appendix Ke Lakshan Hindi Mai) अलग-अलग तरह के हो सकते हैं। इनमे निम्न शामिल हैं:

  • पेट के निचले दाहिने हिस्से में दर्द
  • उल्टी
  • बुखार 
  • जी मिचलाना
  • नाभि के आस पास दर्द
  • कम भूख लगना

Read Also: Are Viral Gastroenteritis & Food Poisoning same?

अपेंडिक्स के लिए टेस्ट – Appendix Ke Test

यदि आपको लगता है कि आपको एपेंडिसाइटिस है तो तुरंत अपने डॉक्टर के पास जायें। डॉक्टर आपकी स्थिति का निदान करने के लिए, आपसे आपके लक्षणों (Appendix Ke Lakshan) के बारे में पूछेंगे और एक फिजिकल टेस्ट करेंगे, इसके अलावा आपका डॉक्टर निम्न टेस्ट करने का भी आदेश दे सकते हैं –

  • चिकित्सा परीक्षा और मेडिकल टेस्ट: यह एपेंडिसाइटिस के लिए मैन परीक्षण होता है, यह पेट का एक सरल टेस्ट होता है जो एपेंडिसाइटिस का निदान करने का महत्वपूर्ण तरीका है। पेट की परीक्षा में परिवर्तन डॉक्टरों को यह बताने में मदद करता है कि क्या एपेंडिसाइटिस प्रगति कर रहा है या नहीं।
  • सीटी स्कैन (कंप्यूटेड टोमोग्राफी): इसमें सीटी स्कैनर एक्स-रे और एक कंप्यूटर की सहायता से अपेंडिक्स का विस्तृत चित्र बनाता है। एपेंडिसाइटिस में, सीटी स्कैन सूजन वाले परिशिष्ट को दिखा सकता है, और चाहे वह टूट गया हो।
  • अल्ट्रासाउंड: अल्ट्रासाउंड एपेंडिसाइटिस के संकेतों का पता लगाने के लिए ध्वनि तरंगों का उपयोग करता है, जैसे कि सुजा हुआ अपेंडिक्स।
  • कम्पलीट ब्लड काउंट (सीबीसी): सफेद रक्त कोशिकाओं की बढ़ी हुई संख्या – इन्फेक्शन और अपेंडिक्स में सूजन का संकेत – अक्सर रक्त परीक्षण के दौरान एपेंडिसाइटिस पर देखा जाता है।
  • अन्य इमेजिंग टेस्ट: जब अपेंडिक्स में दुर्लभ ट्यूमर का संदेह होता है, तो इमेजिंग टेस्ट इसका पता लगा सकती है। इनमें एमआरआई, पॉज़िट्रॉन एमिशन टोमोग्राफी (पीईटी) , और सीटी स्कैन शामिल हैं ।

अपेंडिक्स का इलाज – Appendix Ka Ilaj

अपेंडिक्स का इलाज (Appendix Ka Ilaj) करने के लिए अधिकतर डॉक्टर सर्जरी या ऑपरेशन (Appendix Operation in Hindi) करते हैं परन्तु आधुनिक तकनीकों की वजह से इसका इलाज मात्र एंटीबायोटिक्स दवाओं के लेने से भी संभव हो चुका है। इसके इलाज (Appendix Ka Ilaj) निम्न प्रकार हैं-

एपेन्डेक्टॉमी

एपेंडिसाइटिस के लिए सर्जरी ही एकमात्र इलाज (Appendix Ka Ilaj) है। डॉक्टर पारंपरिक तकनीक (एक बड़ी कटौती) या लैप्रोस्कोपी (कई छोटे कटौती और एक कैमरा का उपयोग करके अंदर देख सकते हैं) का उपयोग कर सकते हैं। अपेंडिक्स के ट्यूमर को हटाने के लिए भी सर्जरी की ही जरूरत होती है। यदि ट्यूमर बड़ा है, तो बृहदान्त्र के हिस्से को हटाने के साथ अधिक आक्रामक सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

Read Also: Laparoscopic Surgery FAQs

एपेन्डेक्टॉमी करने के लिए, डॉक्टर न्यूनतम इनवेसिव सर्जरी, या लेप्रोस्कोपी करते हैं। न्यूनतम इनवेसिव सर्जरी करने के लिए, आपका डॉक्टर आमतौर पर एक लंबे चीरे के बजाय दो या अधिक छोटे चीरों का उपयोग करके ऑपरेशन (Appendix Operation in Hindi) करता है। पारंपरिक “ओपन” सर्जरी की तुलना में, इसका परिणाम आमतौर पर बेहतर होते हैं जैसे:

  • कम समय के लिए अस्पताल में रहना
  • कम दर्द
  • जल्दी ठीक होना
  • जटिलताओं की कम दर

एंटीबायोटिक्स

यद्धपि एंटीबायोटिक्स किसी भी संभावित संक्रमण का इलाज (Appendix Ka Ilaj) करते हैं जो लक्षणों (Appendix Ke Lakshan Hindi Mai) का कारण हो सकता है परन्तु सामान्य तौर पर, अकेले एंटीबायोटिक्स एपेंडिसाइटिस का प्रभावी इलाज (Appendix Ka Prbhavi Ilaj) नहीं कर सकते हैं।

यदि एपेंडिसाइटिस उतना खतरनाक नहीं है तो सर्जरी के बजाय एंटीबायोटिक्स का उपयोग करने से जटिलताओं का खतरा कम से कम 31 प्रतिशत तक कम हो जाता है। यह कम खतरनाक एपेंडिसाइटिस के लिए एक सुरक्षित और प्रभावी विकल्प होता है।

For severe gastric and bloating problems, don’t hesitate and visit  Gastroenterologist near you.