आयुष मंत्रालय द्वारा दिए गए इम्युनिटी बूस्टिंग उपाय

आयुष मंत्रालय द्वारा इम्यूनिटी (रोग प्रतिरोधक शक्ति) बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाय और कोरोनावायरस के खिलाफ निवारक देखभाल

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने कुछ सरल उपाय जारी किए हैं जो लोगों को उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली यानि इम्युनिटी को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं और COVID -19 के प्रकोप से आपका बचाव कर सकते हैं। वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए, ये दिशानिर्देश जो देश भर के प्रख्यात वैद्यों द्वारा अनुशंसित किये गए हैं और श्वसन स्वास्थ्य को ध्यान में रखकर जारी किए गए हैं।

शायद आपको पता न हो, हमारे शरीर की प्राकृतिक रक्षा प्रणाली जिसे इम्युनिटी भी कहते हैं, हमारे अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। जैसा की आप सभी को पता होगा कि कोरोनावायरस या COVID-19 के लिए अभी तक कोई ज्ञात इलाज नहीं, इससे बचने का एकमात्र उपाय है इसका निवारण। इस प्रक्रिया में हमारी इम्युनिटी मुख्य भूमिका निभा सकती है, यदि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली या इम्युनिटी मजबूत होगी तो आप इस महामारी से बच सकते हैं।

आयुर्वेद के माध्यम से, आप प्रकृति के उपहारों का उपयोग करके अपने स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं। यह संयंत्र आधारित विज्ञान दो अवधारणाओं का प्रचार करता है – ‘दिनचर्या’ और ‘ऋतुचर्या’। ‘दिनचर्या’ का अर्थ है दैनिक शासन यानि की आपका डेली रूटीन और ऋतुचर्या ’का अर्थ है मौसमी शासन। सभी आयुर्वेद प्रेरित इम्युनिटी बढ़ाने के उपाय और निवारक युक्तियाँ इन दो अवधारणाओं पर ही आधारित हैं। इन उपायों को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाकर, आप अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली में काफी सुधार और मजबूती ला सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस से लड़ने के लिए इम्युनिटी कैसे बढ़ाएं?

आयुष मंत्रालय द्वारा दिए गए सामान्य उपाय

  • केवल गर्म पानी पियें
  • अपने दैनिक खाना पकाने में हल्दी, धनिया, जीरा और लहसुन जैसे मसाले शामिल करें
  • योग, श्वास अभ्यास (’प्राणायाम’), और प्रतिदिन कम से कम आधे घंटे के लिए ध्यान का अभ्यास अवश्य करें

आयुष मंत्रालय द्वारा इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक उपाय

  • प्रतिदिन सुबह 1 चम्मच च्यवनप्राश खायें। जो लोग डायबिटिक हैं वे शुगर-फ्री च्यवनप्राश का सेवन करें।
  • गरम दूध में आधा चम्मच हल्दी पाउडर मिलाएं। इसे दिन में 1-2 बार लेना चाहिए।
  • हर्बल चाय या तुलसी, दालचीनी, काली मिर्च, सूखी अदरक और किशमिश का काढ़ा बनाकर दिन में 1-2 बार पियें। इसमें आप अपनी पसंद के अनुसार ताजा नींबू का रस या गुड़ मिला सकते हैं।

आयुष मंत्रालय द्वारा इम्युनिटी बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक प्रक्रिया

  • आयल पुल्लिंग (तेल से कुल्ला करना) – इसके लिए 1 बड़ा चम्मच नारियल तेल या तिल का तेल लें। इसे अपने मुंह में लें, और बिना निगले, अपने मुंह में तेल को 2-3 मिनट के लिए रखे। फिर इसे बाहर थूक दें और गर्म पानी के साथ कुल्ला करे। आप इसे दिन में 1-2 बार कर सकते हैं। यह प्रक्रिया आपकी इम्युनिटी बढ़ाने में बहुत सहायक होती है।
  • नाक का अनुप्रयोग – अपने दोनों नासिका छिद्रों में नारियल का तेल, घी, या तिल का तेल लगाएँ। आप इसे दिन में दो बार कर सकते हैं।

आयुष मंत्रालय द्वारा सूखी खांसी/गले में खराश के लिए उपाय

  • लौंग के पाउडर को गुड़/शहद के साथ मिलाएं। गले में जलन या सूखी खांसी को शांत करने के लिए इस मिश्रण को दिन में 2-3 बार लिया जा सकता है।
  • स्टीम इनहेलेशन को दिन में एक बार पुदीने की पत्तियों या अजवाईन के साथ किया जा सकता है।

इन उपायों से संभवतः सूखी खांसी और गले में खराश का इलाज किया जा सकता है। हालांकि, यदि खांसी एक समय से अधिक समय तक बनी रहती है, तो आपको डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए। आप क्रेडीहेल्थ के माध्यम से देश भर के प्रमुख डॉक्टरों के साथ ऑनलाइन वीडियो या टेलीफोनिक परामर्श बुक कर सकते हैं।

इम्यून सिस्टम में वृद्धि के लिए आयुर्वेद का उपयोग करना हमारे लिए वास्तव में एक प्रकृति का उपहार है, और नियमित रूप से इनमें से कुछ चरणों का अभ्यास करना आपके शरीर को कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ने में मदद कर सकता है । किन्तु ये उपाय COVID-19 के इलाज के लिए पर्याप्त नहीं हो सकते हैं, लेकिन वे निश्चित रूप से वायरस से लड़ने में आपकी मदद करेंगे, अगर यह आपके शरीर में प्रवेश करता है।

इसके साथ ही गैर-विश्वसनीय स्रोतों से आने वाली आपकी इम्म्युनिटी में सुधार पर जानकारी के साथ बहुत सतर्क रहना भी महत्वपूर्ण है। उन्हें अपने दैनिक शासन का हिस्सा बनाने से पहले प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के तरीकों पर सभी मिथकों को जानना अत्यन्त आवश्यक है।

इसे भी पढ़ें: कोरोनावायरस से जुडी ये बातें, जानिए सच है या झूठ : Coronavirus Myths And Facts

कोरोना वायरस के बारे में अधिक सलाह और जानकारी के लिए, हमारे चिकित्सा विशेषज्ञ से बात करें। क्रेडीहेल्थ द्वारा सही विशेषज्ञ चिकित्सक और क्लिनिक चुनने में सहायता प्राप्त करें, विभिन्न अस्पतालों से उपचार लागत की तुलना और समय पर चिकित्सा पायें।

कॉल बेक का अनुरोध करें

blank
blank