ब्लॉग » स्वास्थ्य ब्लॉग » क्रेडि रोबोट सर्जरी » Endoscopy Meaning in Hindi | एंडोस्कोपी क्या है, कैसे और क्यूँ करते हैं?
endoscopy meaning in hindi - endoscopy kyun karte hain - endoscopy kaise karte hain

Endoscopy Meaning in Hindi | एंडोस्कोपी क्या है, कैसे और क्यूँ करते हैं?

Endoscopy meaning in hindi: आज कल के दौर में जब भी कोई किसी भी गंभीर बीमारी से पीड़ित होता है और डॉक्टर के पास जाता है तोह डॉक्टर द्वारा उहने एक ख़ास तरह की झाँच करवाने के लिए कहा जाता है, जिससे हम मेडिकल भाषा में एंडोस्कोपी (Endoscopy in hindi) कहा जाता है। आइये जानते हैं इस लेख के माद्यम से हम यह जानने की कोशिश करते हैं कि एंडोस्कोपी क्या होता है, एंडोस्कोपी क्यों करते है (endoscopy kyun karte hain) और किन परिस्थितियों में की जाती है (endoscopy kaise karte hain)।

एंडोस्कोपी क्या है ? – Endoscopy Meaning in Hindi

एंडोस्कोपी (गुहान्त्दर्शी – Endoscopy meaning in Hindi) शब्द का सीधा मतलब है “अन्दर देखना” । अगर चिकित्सीय भाषा में समझाया जाये तो यह एक गैर-शल्य प्रक्रिया है जिसमें डॉक्टर द्वारा खास तरह के उपकरणों का इस्तेमाल कर रोगी के शरीर के अंदरूनी अंगों को देखकर उनका इलाज किया जाता है।

एंडोस्कोपी कैसे करते हैं ? (Endoscopy kaise karte hain)

endoscopy kya hai - endoscopy kyun karte hain - endoscopy meaning in hindi

इस प्रक्रिया में एक लम्बी और पतली नली का इस्तेमाल किया जाता है जिसमे कैमरा लगा होता है जिसके द्वारा डॉक्टर मरीज़ के अंदरूनी अंगों को देख पता है । आमतौर पर यह नली मुंह अथवा गुदा के द्वारा शरीर के अन्दर पहुंचाई जाती है, पर कभी- कभार डॉक्टर द्वारा छोटा सा चीरा लगा कर भी इसे शरीर के अन्दर प्रवेश करवाया जाता है ।

और पढ़िए: Dialysis Meaning in Hindi.

एंडोस्कोपी क्यूँ करते हैं ? (Endoscopy kyun karte hain in hindi)

एंडोस्कोपी ख़ास लक्षणों के देखें जाने पर कि जाती है, जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं :

  • पेट में अलसर/ छाले
  • पाचन तंत्र से खून का बहना
  • आंतों के सूजने पर
  • लंबे समय से कब्ज की समस्या होने पर (Constipation in Hindi)
  • पित्ताशय की पथरी
  • रसौली
  • अगराशय शोध
  • पेशाब में खून का आना
  • ग्रासनली में रूकावट

एंडोस्कोपी (Endoscopy Meaning in Hindi) की मदद से डॉक्टर किसी भी प्रकार के असामान्य लक्षण को सही ढंग से समझ पाते हैं | यहाँ तक की विशेष परिस्थितियों में उतक का अंश लेकर , उसका विश्लेषण करने के लिए लैब में भेजा जाता है।

“भारत में एंडोस्कोपी करने की कॉस्ट जानने के लिए यहाँ क्लिक करें – भारत में एंडोस्कोपी टेस्ट की कॉस्ट”

एंडोस्कोपी के प्रकार – Types Of Endoscopy in Hindi

एंडोस्कोपी (endoscopy meaning in hindi) का वर्गीकरण शरीर के किस हिस्से में किया जा रहा है, इस आधार पर की जाती हैं उनमें से मुखेयतः इस प्रकार हैं :

1. लार्यन्गोस्कोपी (Laryngoscopy):

इसमें कन्ठनली(larynx) का निरीक्षण किया जाता है | स्कोप को नासिकाओ या मुंह द्वारा शरीर के अन्दर भेजा जाता है। यह प्रक्रिया जिन विशेषज्ञ डॉक्टर द्वारा की जाती है, उने otolaryngologist कहा जाता है ।

2. थोरैकोस्कोपी/प्लेरोस्कोपी (Thoracoscopy/Pleuroscopy):

इसमें फुफ्फुसीय रोग विशेषज्ञ (pulmonologist) द्वारा छाती में छोटा सा चीरा लगाकर स्कोप को अन्दर भेजा जाता है ताकि छाती के आसपास के हिस्सों को देखा जा सके ।

3. मीडियासतीनोसकोपी (Mediastinoscopy):

थोरेसिक सर्जन द्वारा छाती की हड्डी के ऊपर चीरा लगाकर स्कोप को अन्दर भेजा जाता है । इसमें फेफड़ो के बीच वाले हिस्सों का निरीक्षण किया जाता हैं

4.ब्रोंकोस्कोपी (श्वसनीदर्शन)(bronchoscopy):

यह प्रक्रिया pulmonologist  डॉक्टर द्वारा फेफड़ो के नरीक्षण के लिए की जाती है।

5. आर्थोस्कोपी (Arthroscopy):

यह प्रिक्रिया जोड़ों पर की जाती है। हड्डियों के सर्जन इस प्रक्रिया के दौरान जोड़ के पास चीरा लगाकर स्कोप के लिए रास्ता बनाते है।

6. लेप्रोस्कोपी (Laparoscopy):

सर्जन द्वारा पेल्विक अथवा पेट के आसपास चीरा लगाकर स्कोप को अन्दर भेजा जाता है।

7. कोलोनोस्कोपी (Colonoscopy) (बृहदांत्रदर्शन):

इस प्रक्रिया को गस्त्रोएन्तेरोलोजिस्ट (gastroenterologist) डॉक्टर के द्वारा किया जाता हैं। स्कोप को गुदा के रास्ते अन्दर पहुँचाया जाता है ताकि colon का इलाज किया जा सके । (इसे भी पढ़ें: कोलन कैंसर के कारण और लक्षण)

8. एन्तेरोस्कोपी (Enteroscopy):

यह प्रक्रिया छोटी आंत के के लिए की जाती है, स्कोप को मुँह अथवा गुदा के द्वारा अन्दर पहुँचाया जाता है ।

9. सिस्टोस्कोपी (Cystoscopy):

स्कोप को मूत्रमार्ग (urethra) से मुत्राशय (bladder) तक यूरोलॉजिस्ट (urologist) डॉक्टर द्वारा पहुंचाया जाता है जिससे bladder से संबंधित लक्षणों को समझा जा सके ।

10. हैस्टेरोस्कोपी (Hysteroscopy) (गर्भाशयदर्शन):

इसमें स्त्रीरोग विशेषज्ञ (Gynecologist) द्वारा गर्भाशय (uterus) को जांचने के लिए स्कोप को योनी से अन्दर भेजकर गर्भाशय की जांच की जाती है।

11. अपर गस्त्रोइन्तेस्तिनल एंडोस्कोपी (ऊपरी आंत्र) (upper gastrointestinal endoscopy):

ग्रासनली (esophagus) और ऊपरी आंत्र पथ (upper intestinal tract) की जाँच के लिए यह प्रक्रिया की जाती है, डॉक्टर मुह के रास्ते स्कोप को अन्दर भेजता है।

12. सिग्मोइडोस्कोपी (Sigmoidoscopy) (अवग्रहान्त्रदर्शन):

इस प्रक्रिया को करने वाले डॉक्टर को proctologist कहते हैं, इसमें गुदा से नली को मलांत्र (rectum) और बड़ी आंत के निचले हिस्सों तक पहुँचाया जाता है, जिसे sigmoid colon (अवग्रह बृहदांत्र) भी कहा जाता है।

13. युरेटेरोस्कोपी (Ureteroscopy):

यह प्रक्रिया यूरोलॉजिस्ट डॉक्टर  द्वारा किया जाता है । इसमें युरेटर (ureter) का नरीक्षण किया जाता है

और पढ़िए: Symptoms of Heart Attack in Hindi और Madhumeh Ke Lakshan.

एंडोस्कोपी (endoscopy in hindi) करने से पहले डॉक्टर मरीज़ के लक्षणों को समझने की कोशिश करता है और कभी-कभार रोगी को रक्त परीक्षण (blood test) कराने के लिए भी कहा जाता है । इस सारी प्रक्रिया से डॉक्टर को रोग को समझने में मदद मिलती है और यह भी सुनिश्चित किया जाता है की रोग का निवारण बिना एंडोस्कोपी ( endoscopy Meaning in hindi ) अथवा सर्जरी के किया जा सकता है यह नहीं। (इसे भी पढ़ें: Use Endoscopy to find out cause of digestive disorders)

Also Read abut Endoscopy FAQs Here.

क्या आप गैस्ट्रोएंट्रोलॉजिस्ट की तलाश कर रहे हैं, भारत के सर्वश्रेष्ठ गैस्ट्रोएंट्रोलॉजिस्ट के साथ अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए यहाँ क्लिक करें-

कॉल बैक का अनुरोध करें  

Need Guidance in choosing right doctor?

REQUEST CALLBACK
Subscribe