ब्लॉग » स्वास्थ्य ब्लॉग » Hiccups Meaning in Hindi – जानिये क्यों आती हैं हिचकी और उसे ठीक करने के कारगर इलाज

Hiccups Meaning in Hindi – जानिये क्यों आती हैं हिचकी और उसे ठीक करने के कारगर इलाज

हिक! हिक! आपने अवश्य ही हिचकी (Hiccups Meaning in Hindi) का अनुभव तो किया ही होगा? यह बहुत ही आम समस्या है। जब किसी को हिचकी आती है तो हमारे भारत में कहा जाता है कि शायद आपको कोई याद कर रहा होगा और अपने प्रियजनों का नाम लेने से या नाम केवल सोच लेने से हिचकी चली जायेगी। पर संभवतः उस इंसान का ध्यान भटकाने के लिए यह सिर्फ एक तरीका हो सकता है।

जाहिर सी बात है किसी के याद करने से हिचकी नहीं आती इसके पीछे मेडिकल कारण होते हैं।दरअसल हिचकी आने का मुख्य कारण डायाफ्राम में परेशानी आ जाना होता है और इसे आसानी से सही भी किया जा सकता है। हिचकी आने का सही कारण और किस तरह से हिचकियों को रोका जाये इस सभी के बारे में इस लेख में बताया गया है, आइये जानते हैं हिचकी का मतलब क्या होता है और इसको कैसे रोका जा सकता है?

Hiccups Meaning in Hindi – हिकप का मतलब हिंदी में

हिकपस को हिंदी में हिचकी (Hiccups Meaning in Hindi) कहते हैं, जो लगभग प्रत्येक मनुष्य को कभी न कभी आ ही जाती है क्योंकि ये बहुत ही आम समस्याओं में से एक है। हिचकी आने का कारण आपके डायाफ्राम में अवरोध उत्त्पन्न होना होता है। डायाफ्राम आपकी छाती के नीचे और पेट के ऊपर एक गुंबद के आकार की मांसपेशी होती है, और सभी हिचकी यहीं से शुरू होती हैं। डायाफ्राम हमेशा लगभग पूरी तरह से काम करता है। जब आप साँस लेते हैं, तो यह हवा फेफड़ों में अंदर जाती है और बाहर आती है, जब हम सांस अंदर की ओर लेते हैं तो यह हवा को नीचे खींचता है। और जब आप साँस छोड़ते हैं तो, डायाफ्राम आराम करता है और नाक और मुंह की सहायता से हवा फेफड़ों से बाहर चली जाती है।

लेकिन कभी-कभी आपका डायाफ्राम परेशान हो जाता है। जब ऐसा होता है, तो यह एक झटके से नीचे खींचता है, जिससे अचानक से आपके गले में हवा चली जाती है। जब यह हवा आपके वॉयस बॉक्स को हिट करती है, तो आपके मुखर तार अचानक बंद हो जाते हैं और आपको एक बड़ी सी हिचकी आती है।

कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

  • हिचकी आने का सटीक कारण अभी अस्पष्ट है, लेकिन पुरानी हिचकी, स्ट्रोक और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल जैसे मेडिकल समस्याओं से जुड़ी हो सकती हैं।
  • ज्यादातर मामलों के इलाज के बिना यह सही हो जाती है, लेकिन लंबे समय तक हिचकी से अनिद्रा और अवसाद जैसी जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है।
  • यदि हिचकी 48 घंटों से अधिक समय तक चलती है, तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए, जो मांसपेशियों में आराम पहुँचाने के लिए आपको दवाई दे सकता है।
  • अल्कोहल का सेवन न करें और बहुत जल्दी खाने से हिचकी से बचा जा सकता है।

हिचकी आने का कारण

वैसे तो हिचकी आने का मुख्य कारण डायाफ्राम में परेशानी होना ही होता है, परन्तु कुछ अंतर्निहित स्थितियों की एक विस्तृत श्रृंखला पुराने या लगातार हिचकी को ट्रिगर कर सकती है। हिचकी के छोटे छोटे खटकों के लिए तो परेशान होने की जरूरत नहीं है पर कुछ कारक ऐसे होते हैं जो इसके जोखिम को बढ़ा सकते हैं। हिचकी से जुड़े कुछ कारक इस प्रकार हैं-

लाइफस्टाइल कारक

निम्नलिखित कारक हिचकी को ट्रिगर कर सकते हैं-

  • गर्म या मसालेदार भोजन जो अग्निमय तंत्रिका (phrenic nerve) को परेशान कर सकता है
  • पेट में गैस बनना, जिस कारण डायाफ्राम दब सकता है
  • बहुत ज्यादा खाना या पेट फूलना
  • सोडा, गर्म तरल पदार्थ, या अल्कोहॉल का सेवन, विशेष रूप से कार्बोनेटेड पेय पीने से
  • तनाव के कारण या कभी कभी भावनात्मक समस्याओं के कारण
  • कुछ दवाएं, जैसे ओपियेट्स, बेंजोडायजेपाइन, एनेस्थेसिया, कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स, बार्बिटेरेट्स और मेथिलोडापा भी हिचकी का कारण बनती हैं।

मेडिकल स्थितियाँ

हिचकी अक्सर अप्रत्याशित से होती है और न ही रोगी और न ही डॉक्टर इसके संभावित कारणों की पहचान कर सकते हैं। हालाँकि, बहुत सारी पुरानी मेडिकल कंडीशन की वजह से आपको हिचकी आ सकती है जो इस प्रकार हैं-

  • गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्थितियां, जिनमें इन्फ्लैमटॉरी बोवेल डिसीज (IBD), एक छोटा आंत्र बाधा, या गैस्ट्रोसोफेजियल रीफ्लक्स डिसीज (GERD) शामिल है।
  • श्वसन की स्थिति, जैसे डायाफ्राम, निमोनिया, या अस्थमा की फुफ्फुस
  • अधिक मात्रा में अल्कोहल का सेवन करना या पीने की आदत होना
  • ऐसी स्थिति जो सेंट्रल नर्वस सिस्टम(CNS) को प्रभावित करती हैं, जिसमें एक दर्दनाक मस्तिष्क की चोट (TNI), एन्सेफलाइटिस, ब्रेन ट्यूमर या स्ट्रोक
  • ऐसी परिस्थितियां जो वेगस नर्व को परेशान करती हैं, जैसे मेनिनजाइटिस, फेरींगिटिस, या गोइटर
  • मनोवैज्ञानिक प्रतिक्रियाएं, जिनमें दुःख, उत्तेजना, चिंता, तनाव, हिंसक व्यवहार, या सदमा शामिल हैं
  • हाइपरग्लिसिमिया, हाइपोग्लाइसेमिया, या डायबिटीज सहित मेटाबोलिज्म को प्रभावित करने वाली स्थितियां
  • लिवर और किडनी की समस्याएं
  • कैंसर, की स्थिति के कारण या उपचार के दुष्प्रभाव के कारण।
  • ऑटोनोमिक नर्वस सिस्टम की स्थितियां, जो सांस लेने, पसीना, दिल की धड़कन, हिचकी, और खांसी को भी प्रभावित करती हैं

कुछ अन्य मेडिकल परिस्थितियां जैसे मूत्राशय की जलन, लिवर कैंसर, अग्नाशयशोथ, गर्भावस्था, सर्जरी, ट्यूमर, और घाव और हेपेटाइटिस भी हिचकी आने का कारण हो सकती हैं।

हिचकी को कैसे रोकें?

How to stop Hiccups in Hindi: वैसे तो हिचकी के अधिकांश मामले बिना चिकित्सा इलाज के कुछ मिनट या घंटों के बाद चले जाते हैं। अगर वे काफी देर तक बने रहतें हैं, तो अपने डॉक्टर को अवश्य दिखाएँ । यहां हमने कुछ असरदार इलाजों के बारे में बताया है जो आपके प्रश्न “हिचकी को कैसे रोकें – How to stop Hiccups in Hindi?” का बड़े ही आसान शब्दों में उत्तर देंगे-

हिचकी से छुटकारा पाने के उपाय

  • बर्फ के ठंडे पानी को धीरे-धीरे पियें या बहुत ठंडे पानी से गरारे करें।
  • थोड़ी देर के लिए अपनी सांस रोकें, फिर सांस छोड़ें, इसे फिर से तीन या चार बार करें, और हर 20 मिनट में ऐसा करें।
  • निगलते समय अपनी नाक पर कोमल दबाव बनाएं।
  • अपने डायाफ्राम पर थोड़ा दबाव डालें।
  • नींबू चाटें।
  • थोड़ी दानेदार चीनी खाएं।
  • थोड़ा सा सिरका चाट लें।
  • एक पेपर बैग में सांस अंदर और बाहर लें, लेकिन कभी भी प्लास्टिक के थैले का प्रयोग न करें और कभी भी बैग में अपने सिर को न डालें।
  • थोड़े समय के लिए जितना संभव हो सके अपने सीने के करीब अपने घुटनों को ले जाकर जोर से घुटनों को बाँहों से जकड लें।
  • वैकल्पिक उपचार में एक्यूपंक्चर और हिप्नोसिस की सहायता से आप इससे छुटकारा पा सकते हैं।
  • धीरे-धीरे जीभ खींचे।
  • आंखों को रगड़ें।
  • एक गैग रिफ्लेक्स ट्रिगर करने के लिए अपनी अंगुली को अपने गले में डालें।

ये सभी उपाय बहुत ही आम हैं और पीढ़ी दर पीढ़ी एक दूसरे को बताये भी जाते हैं। ये कारगर भी होते हैं परन्तु अगर ये असर न करें तो तुरंत अपने डॉक्टर को दिखाएँ।

गंभीर मामलों में इलाज

हिचकी (Hiccups Meaning in Hindi) के कुछ गंभीर मामलों में आपको दवाइयों की भी जरुरत पड़ सकती है, इन गंभीर मामलों के लक्षण और दवाइयां इस प्रकार हैं-
इस प्रकार की दवाइयाँ केवल तभी निर्धारित की जायेंगी जब पीड़ित को-

  • खाने में परेशानी होने लगे और उसका वजन घटने लगे
  • यदि उसके सोने के पैटर्न में बदलाव आ जाये या उसे नींद आना बंद हो जाये
  • यदि उसे मानसिक तनाव होने लगे और वह क्लीनिकल डिप्रेश का शिकार होने लगे

बहुत से डॉक्टर केवल फिजिशियन से परामर्श करने के बाद इन दवाओं को लेने की सलाह देते हैं-

  • गैबैपेन्टिन: इसका उपयोग मिर्गी या न्यूरोपैथिक दर्द और हिचकी (Hiccups in Hindi) के इलाज के लिए किया जाता है।
  • बाकलोफेन: यह मांसपेशियों में आराम पहुँचाने वाली एक प्रकार की दवा है जो परेशान होने पर आराम के लिए डायाफ्राम को मदद करता है।
  • हैलोपेरिडोल: इसका उपयोग एंटीसाइकोटिक दवा के रूप में किया जाता है।
  • क्लोरप्रोमेज़ीन: यह एक एंटीसाइकोटिक दवा भी है।
  • मेटोक्लोपामाइड: कई लोग हिचकी के दौरान जी मिचलाने की समस्या को भी महसूस करते हैं उसमेयह दवा मदद कर सकती है।

आप हिचकी को कैसे रोक सकते हैं?

आपके डायाफ्राम में परेशानी की वजह से आपको हिचकी आती है, इन परेशानियों से परहेज करके हिचकी होने के खतरे को कम किया जा सकता है। यहां हम बताएंगे कि किन किन तरीकों से हिचकी को रोक सकते हैं।

हिचकी को रोकने के 4 तरीके

  • दोपहर का खाना या रात का खाना खाने के दौरान बहुत से लोगों को जल्दी जल्दी खाना खाने की आदत होती है। हिचकी को टालने के लिए पहला काम ये करें कि खाना धीरे धीरे खाएं।
  • अपने डायाफ्राम को परेशान करने से बचने का दूसरा तरीका अल्कोहल लेने से बचना है।
  • कभी-कभी बहुत मसालेदार भोजन खाने से भी हिचकी आ सकती है। मसालेदार भोजन खाने से आपके डायाफ्राम में सूजन हो जाती है।
  • धूम्रपान और सिगरेट से बचें।

इन सभी बातों का ध्यान रखें और हिचकी को अलविदा कहें।

हिचकी के बारे में इंग्लिश में भी पढ़ें: What Are Hiccups & How To Get Rid Of Hiccups

Need Guidance in choosing right doctor?

REQUEST CALLBACK