ब्लॉग » स्वास्थ्य ब्लॉग » HIV AIDS In Hindi – जानिये कैसे होता है HIV से AIDS

HIV AIDS In Hindi – जानिये कैसे होता है HIV से AIDS

ह्यूमन इम्यूनोडिफिशिएंसी वायरस (Human immunodeficiency Virus) या HIV, एक प्रकार का वायरस है जो एड्स का कारण बनता है। एड्स HIV (HIV AIDS in Hindi) संक्रमण का अंतिम स्टेज होता है, जब आपका शरीर इस प्रकार के खतरनाक इन्फेक्शन से लड़ नहीं सकता। HIV (HIV in Hindi) हमारे इम्यून सिस्टम पर हमला करता है और हमारे शरीर के इन्फेक्शन और बीमारीयों से लड़ने की क्षमता को कमजोर करता है। HIV के लिए कोई इलाज नहीं है, लेकिन वायरस के साथ अधिकांश लोगों को लंबे और स्वस्थ जीवन जीने में सक्षम बनाने के लिए बहुत से उपचार हैं। एचआईवी को रोकने का सबसे अच्छा तरीका है सेक्स करते समय कंडोम का उपयोग करें और कभी भी इस्तेमाल की हुई सुई या इंजेक्शन का उपयोग न करें। आइये जानते हैं की किस प्रकार HIV से AIDS (HIV kaise hota hai in Hindi) होता है और इसके लक्षण क्या क्या होते हैं?

What is HIV in Hindi? HIV क्या होता है?

(HIV in Hindi) HIV का पूरा नाम ह्यूमन इम्यूनोडिफिशिएंसी वायरस है, जिसका इलाज न किया जाने पर अंतिम स्टेज में जाकर AIDS (HIV AIDS in Hindi)  का कारण बनता है। इलाज के बाद भी अन्य वायरस की तरह HIV से भी छुटकारा नहीं पाया जा सकता परन्तु आप एक लम्बी ज़िंदगी जी सकते हैं। HIV हमारे शरीर के इम्यून सिस्टम पर अटैक करता है। विशेष रूप से CD4 सेल्स जिन्हें T सेल्स के नाम से भी जाना जाता है, जो हमारे इम्यून सिस्टम को इन्फेक्शन से लड़ने में मदद करते हैं। अगर इलाज न किया जाये तो HIV हमारे CD4 सेल्स या T सेल्स को कम करता रहता है और उस व्यक्ति को कैंसर से सम्बंधित और भी कई प्रकार के इन्फेक्शन हो सकते हैं। समय के साथ साथ HIV इन T सेल्स को नष्ट करने लगता हैऔर हमारा शरीर किसी भी प्रकार के इन्फेक्शन से लड़ने की शक्ति खोने लगता है। जब हमारे शरीर में कमजोरी आने लगती है तो कैंसर और अन्य प्रकार के इन्फेक्शन इसका अबसर उठाते हैं और इसकी अंतिम स्टेज में AIDS (HIV AIDS in Hindi) से ग्रसित होने का संकेत देते हैं।

वर्तमान में HIV के लिए कोई प्रभावी इलाज उपलब्ध नहीं है, लेकिन उचित मेडिकल देखभाल के साथ, HIV को नियंत्रित किया जा सकता है। (HIV in Hindi) HIV के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवा को एंटीरेट्रोवायरल थेरेपी या ART कहा जाता है। यदि सही तरीके से लिया जाता है, तो हर दिन, यह दवा चमत्कारिक रूप से HIV से संक्रमित कई लोगों के जीवन को लंबे समय के लिए बढ़ा सकती है, और उन्हें स्वस्थ रख सकती है, और दूसरे व्यक्तियों को संक्रमित करने के मौके को बहुत कम कर सकती है। 1990 के दशक के मध्य में ART की शुरूआत से पहले, HIV से ग्रस्त लोग कुछ ही वर्षों में एड्स (HIV AIDS in Hindi) से पीड़ित हो जाते थे। आज, अगर कोई व्यक्ति HIV से पीड़ित होता है तो कुछ एडवांस इलाजों के साथ उनके लक्षणों को कम किया जा सकता है और वो लोग भी बिना HIV (HIV in Hindi) वाले लोगों के जैसे लम्बा जीवन व्यतीत कर सकते हैं।

What is HIV AIDS in Hindi? HIV AIDS क्या होता है?

HIV AIDS In Hindi: एड्स का पूरा नाम अक्वायर्ड इम्यूनोडिफिशिएंसी सिन्ड्रोम (Acquired immunodeficiency syndrome) है। एड्स, HIV (HIV AIDS in Hindi)इन्फेक्शन की सबसे खतरनाक और अंतिम स्टेज होती है। जो लोग एड्स से पीड़ित होते हैं उनके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता लगभग समाप्त हो जाती है और वो बहुत प्रकार के गंभीर इन्फेक्शन्स का शिकार हो जाते हैं। जब आपकी CD4 या T सेल्स की संख्या ब्लड के 200 क्यूबिक मिलीमीटर (200 कोशिकाओं / मिमी 3) से नीचे गिरती है, तो आपको एड्स से ग्रसित माना जाता है। (एक स्वस्थ इम्यून सिस्टम वाले किसी व्यक्ति में, CD4 की मात्रा 500 और 1,600 सेल्स / मिमी 3 के बीच होती है।) यदि आप अपनी CD4 गिनती के बावजूद एक या अधिक अवसरवादी बीमारियों को विकसित करते हैं तो आपको एड्स (HIV AIDS in Hindi) का शिकार माना जा सकता है।

Connection Between HIV and AIDS – HIV और AIDS में सम्बन्ध

एक व्यक्ति एड्स से पीड़ित तभी हो सकता है जब वह पहले से HIV इन्फेक्शन से ग्रस्त हो परन्तु HIV (HIV in Hindi) वाले व्यक्ति को एड्स (HIV AIDS in Hindi) हो यह बिलकुल भी जरूरी नहीं होता।

HIV का विकास मुख्यतः 3 स्टेज में होता है, वो इस प्रकार हैं-

स्टेज 1: यह सबसे तीव्र स्टेज होती है जो वायरस के संचरण के बाद पहले कुछ हफ्तों में होती है।

स्टेज 2: यह स्टेज नैदानिक ​​विलंबता, या पुरानी स्टेज होती है।

स्टेज 3: यह अंतिम स्टेज होती है और अगर इलाज न किया जाये तो व्यक्ति एड्स (HIV AIDS in Hindi) का शिकार होता है।

HIV कितनी जल्दी एड्स का रूप लेता है यह व्यक्ति व्यक्ति पर निर्भर करता है। अगर इलाज न किया जाये तो यह तब तक रहेगा जब तक रोगी को एड्स नहीं हो जाता। और इलाज के साथ यह वायरस रोगी के शरीर में अनिश्चितकाल के लिए रह सकता है पर वह व्यक्ति सामान्य जीवन व्यतीत कर सकता है। HIV और AIDS एक दूसरे से संबंधित होते हैं पर ये दोनों एक जैसे नहीं होते। आइये जानते हैं इसके होने के कारण (Causes of HIV in Hindi) और लक्षण (Symptoms of HIV in Hindi) क्या क्या हो सकते हैं।

Where Did HIV Come From? HIV की उत्पत्ति कहाँ से हुई?

वैज्ञानिकों ने मनुष्यों में HIV संक्रमण (HIV in Hindi) के स्रोत के रूप में मध्य अफ्रीका के चिम्पैंजी के एक प्रकार की पहचान की थी। उनका मानना ​​था कि इम्यूनोडेफिशियेंसी वायरस (सिमियन इम्यूनोडेफिशियेंसी वायरस, या SIV) का चिम्पांजी वर्जन सबसे अधिक मनुष्यों को संचारित किया गया था और जो HIV में परिवर्तित हो गया था। जब मनुष्यों ने इन चिम्पांजी को मांस के लिए शिकार किया तो उनके इन्फेक्टेड ब्लड से HIV का वायरस मनुष्यों में आ गया। कई अध्ययनों के अनुसार 1800 के दशक के अंत तक यह वायरस इन चिम्पैंजी से मानवों में आ गया था। फिर यह वायरस धीरे धीरे पूरे अफ्रीका में फ़ैल गया और आज इस वायरस ने लगभग संसार के हर देश को अपना शिकार बनाया हुआ है।

HIV Kaise Hota Hai in Hindi? HIV कैसे फैलता है?

HIV किसी को भी हो सकता है और ये मुख्यतः व्यक्ति के शरीर के तरल में होता है जैसे-

  • ब्लड में
  • वीर्य/सीमेन में
  • वेजिनल और रेक्टल तरल पदार्थ में
  • स्तन के दूध में

कुछ आम कारण जिनकी वजह से आपको HIV हो सकता है, वो इस प्रकार हैं-

  • वेजिनल या अनल सेक्स के द्वारा – इस प्रकार HIV (HIV in Hindi) का संचरण सबसे आम तरह का होता है, विशेषरूप से पुरुषों में जो पुरुषों के साथ सेक्स करते हैं
  • किसी दवाई को लेने के लिए अगर बहुत से लोग एक ही सुई या सीरिंज का इस्तेमाल करते हैं तो
  • टैटू बनवाने के यंत्र को बिना धोये इस्तेमाल करने से
  • प्रेगनेंसी – Pregnancy Test in Hindi, लेबर पैन के दौरान या जन्म के समय महिला के द्वारा उसके बच्चे को HIV का संचरण किया जा सकता है
  • स्तनपान के दौरान
  • “पूर्व-मास्टिकेशन” के माध्यम से, या उन्हें खिलाने से पहले एक बच्चे के भोजन चबाने के माध्यम से
  • HIV से ग्रसित व्यक्ति के खून के माध्यम से, जैसे सुई स्टिक के माध्यम से

Signs and Symptoms of HIV in Hindi – HIV के लक्षण

HIV से पीड़ित बहुत सारे लोगों में इसके लक्षण कई महिनों तक बल्कि कई सालों तक नहीं दिखाई देते। हालांकि करीबन 80% लोगों में HIV के लक्षण सामान्य फ़्लू के जैसे होते है जो वायरस से इन्फेक्टेड होने के 2-3 हफ्ते बाद दिखने लगते हैं। HIV के कुछ सामान्य और प्रारम्भिक लक्षण (Symptoms of HIV in Hindi) इस प्रकार हैं-

HIV in Hindi, HIV AIDS in Hindi, HIV Kaise Hota Hai in Hindi

  • बुखार – Fever Meaning in Hindi
  • ठंड लगना
  • जोड़ों का दर्द
  • मांसपेशियों के दर्द
  • गले में खराश
  • पसीना (विशेष रूप से रात में)
  • ग्रंथियां बढ़ जाना
  • लाल चकते हो जाना
  • थकान – Fatigue meaning in Hindi
  • दुर्बलता
  • अचानक वजन घटना – How to lose Weight in Hindi
  • छाले हो जाना

यहां पर यह ध्यान रखना अत्यंत आवश्यक है की ये सभी लक्षण तब दिखाई देते हैं जब आप केवल HIV (HIV in Hindi) ही नहीं बल्कि बहुत तरह के वायरस से लड़ रहें हों। अगर आप इनमें से बहुत सारे लक्षणों को महसूस कर रहे हैं और आपको लग रहा है कि आप HIV से संक्रमित हो सकते हैं तो आपको डॉक्टर के पास जाकर टेस्ट अवश्य करना चाहिए।

Test for Diagnose HIV – HIV के निदान के लिए टेस्ट

HIV के निदान के लिए बहुत सारे टेस्ट उपलब्ध हैं जिनका प्रयोग करके आप पता कर सकते हैं कि आप HIV से इन्फेक्टेड हैं कि नहीं। इसके लिए आपका डॉक्टर निर्धारित करेगा कि आपको कौन सा टेस्ट कराना चाहिए। HIV (HIV in Hindi) के लिए कुछ टेस्ट नीचे दिए गए हैं-

एंटीबाडी/एंटीजन टेस्ट: यह सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाला टेस्ट होता है। शुरुआती रूप से HIV का अनुबंध करने के बाद वे 18-45 दिनों के भीतर सकारात्मक परिणाम दिखा सकते हैं।

एंटीबाडी टेस्ट: ये टेस्ट पूरी तरह से एंटीबॉडी के लिए हमारे ब्लड की जांच करते हैं। संचरण के बाद 23 से 90 दिनों के बीच, अधिकांश लोग पता लगाने योग्य HIV एंटीबॉडी विकसित कर लेते हैं, जो रोगी के ब्लड या लार में पाए जा सकते हैं।

न्यूक्लिक एसिड टेस्ट (NAT): यह टेस्ट थोड़ा महंगाहोता है जो सामान्य स्क्रीनिंग के लिए उपयोग नहीं किया जाता है। यह उन लोगों के लिए है जिनमें HIV के शुरुआती लक्षण दिखाई देते हैं। यह टेस्ट एंटीबॉडी ढूढ़ने के लिए नहीं किया जाता है; बल्कि यह वायरस की तलाश के लिए किया जाता है। इसकी सहायता से ब्लड में HIV का पता लगाने में 5 से 21 दिन लगते हैं।

HIV Prevention in Hindi – HIV से बचाव

हालांकि HIV को रोकने के लिए अभी तक कोई वैक्सीन उपलब्ध नहीं है पर कुछ सबधानियाँ बरत कर HIV से बचा जा सकता है। HIV से बचाव (Prevention of HIV in Hindi)के कुछ उपाय नीचे दिए गए हैं, वो इस प्रकार हैं-

सुरक्षित सेक्स

HIV फैलने का सबसे आम तरीका कंडोम के बिना अनल या वेजिनल सेक्स होता है। इस रिस्क को पूरी तरह से समाप्त नहीं किया जा सकता जब तक कि सेक्स पूरी तरह से टाला नहीं जाता है, लेकिन कुछ सावधानी बरतकर इन रिस्क को कम किया जा सकता है। HIV के जोखिम के बारे में चिंतित व्यक्ति को यह करना चाहिए-

HIV in Hindi, HIV AIDS in Hindi, HIV Kaise Hota Hai in Hindi

  • HIV के लिए परीक्षण करें: यह सबसे महत्वपूर्ण है कि आप अपनी और अपने साथी की HIV की स्थिति के बारे में जानें।
  • एसटीआई (STI) के लिए परीक्षण करें: यदि यह सकारात्मक टेस्ट होता है, तो इसका इलाज करना चाहिए, क्योंकि STI होने से HIV होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • कन्डोम का प्रयोग करें: इसमें ध्यान रखें की जभी भी अनल या वेजिनल सेक्स करें हमेशा कंडोम का इस्तेमाल करें। क्योंकि इस बात का ध्यान रखना अति आवश्यक है की सीमेन में ही HIV वायरस होता है और यह एक साथी से दूसरे को संचरित हो सकता है।
  • एक से अधिक लोगों के साथ सेक्स न करें: कोशिश करें कि एक ही साथी के साथ यौन संबन्ध बनायें, ऐसा करके भी HIV से बच सकते हैं।

अन्य बचाव

HIV से बचाव के अन्य उपाय इस प्रकार हैं-

HIV in Hindi, HIV AIDS in Hindi, HIV Kaise Hota Hai in Hindi

  • साफ सुई का इस्तेमाल करें: यदि आप दवाई लेने के लिए सुई या सिरेंज का इस्तेमाल करते हैं तो यह ध्यान अवश्य रखें की यह इस्तेमाल की हुई न हो।
  • यदि आप गर्भवती हैं, तो तुरंत चिकित्सा देखभाल प्राप्त करें: यदि आप एचआईवी पॉजिटिव हैं, तो आप HIV इन्फेक्शन को अपने बच्चे को पास कर सकते हैं। लेकिन अगर आप गर्भावस्था के दौरान इलाज करा लेती हैं, तो आप अपने बच्चे को HIV से बचा सकती हैं।
  • मेल सरकमसिजन पर विचार करें: इस बात का सबूत है कि मेल सरकमसिजन HIV संक्रमण होने के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है।

वर्तमान में HIV (HIV in Hindi) के लिए कोई प्रभावी इलाज मौजूद नहीं है। लेकिन उचित चिकित्सा देखभाल के साथ, HIV को नियंत्रित किया जा सकता है। HIV AIDS (HIV AIDS in Hindi) के लिए उपचार को एंटीरेट्रोवायरल थेरेपी या (ART) कहा जाता है। यदि चिकित्सा देखभाल (HIV Kaise Hota Hai in Hindi) सही तरीके से लिया जाता है, तो एचआईवी से संक्रमित कई लोगों के जीवन को लंबे समय तक बढ़ा सकता है।

HIV के बारे में इंग्लिश में भी विस्तार से पढ़ें: HIV Symptoms in Men

HIV AIDS के इलाज के लिए अपने पास के डॉक्टर (AIDS Doctor in Pune ) से अपॉइंटमेंट बुक करें।