ब्लॉग » स्वास्थ्य ब्लॉग » Early HIV AIDS Symptoms in Hindi – जानिए HIV के लक्षण और AIDS से बचिए

Early HIV AIDS Symptoms in Hindi – जानिए HIV के लक्षण और AIDS से बचिए

अक्वायर्ड इम्मुनोडिफिसिएन्सी सिंड्रोम (AIDS) एक घातक बीमारी है जो HIV (HIV Symptoms in Hindi) के कारण होती है। इस बीमारी में HIV वायरस मनुष्य के इम्यून सिस्टम को नष्ट करके उसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी नष्ट कर देता है, जिससे वह जल्दी जल्दी बहुत सारी प्राणघातक बीमारियों का शिकार होने लगता है। AIDS, HIV के आखिरी स्टेज में होता है, जो इलाज न किये जाने पर होती है, वहीं अगर सही समय पर इसके लक्षणों (HIV ke Lakshan in Hindi) को पहचान कर इलाज करा लिया जाये तो पीड़ित मनुष्य एक अच्छी और लम्बी जिंदगी जी सकता है। HIV एड्स के लक्षण शुरूआती दिनों में सामान्य फ़्लू के समान ही होते हैं परन्तु एक से ज्यादा इन लक्षणों के दिखते ही तुरंत HIV के लिए टेस्ट करना चाहिए। इसके लक्षण महिलाओं और पुरुषों में भी अलग अलग हो सकते हैं और व्यक्ति व्यक्ति में अलग अलग पाए जाते हैं। आइये इस लेख की सहायता से जानते हैं की ये लक्षण(HIV AIDS Symptoms in Hindi) क्या हैं और किस प्रकार इनसे बचा जा सकता है।

Causes and HIV Symptoms in Hindi – HIV के कारण और लक्षण

HIV एक प्रकार का रेट्रोवायरस है जो मनुष्य के इम्यून सिस्टम के महत्वपूर्ण अंगों और सेल्स को प्रभावित करता है। HIV से संक्रमित होने के लिए, इन्फेक्टेड ब्लड, सीमेन या वेजिनल स्राव आपके शरीर में प्रवेश करना चाहिए। इसके कारण और लक्षणों (HIV Symptoms in Hindi) के बारे में विस्तार से बताया गया है, आइये जानते हैं क्या होते हैं इसके लक्षण (HIV ke Lakshan in Hindi) और कारण।

HIV ke Karan in Hindi – HIV के कारण

अगर HIV के फैलने के कारणों की बात की जाये तो इसका मुख्य कारण असुरक्षित सेक्स और इस्तेमाल की हुई सुई का प्रयोग करना होता है। वायरस प्रगति की दर व्यक्तियों के बीच व्यापक रूप से भिन्न भिन्न होती है और कई कारकों पर निर्भर करती है। HIV फैलने के कुछ कारण (HIV ke Karan in Hindi) निम्नलिखित हैं-

सेक्स के द्वारा: यदि आप इन्फेक्टेड व्यक्ति के साथ वेजिनल, अनल या ओरल सेक्स करते हैं जिसका ब्लड, सीमेन या वेजिनल स्राव आपके शरीर में प्रवेश करता है, तो आप भी इन्फेक्टेड हो सकते हैं। HIV वायरस मुंह के घावों के माध्यम से आपके शरीर में प्रवेश कर सकता है जो यौन गतिविधि के दौरान कभी-कभी रेक्टम या वेजाइना में विकसित होते हैं।

रक्त संक्रमण से: कुछ मामलों में, HIV का वायरस ब्लड ट्रांस्फ्यूज़न के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे में संचरित किया जा सकता है। इसलिए सबसे ज्यादा जरूरी है की किसी से ब्लड लेते समय उसका HIV के लिए ब्लड टेस्ट अवश्य कराये, इसके अलावा जिन ब्लड बैंक और अस्पतालों में HIV एंटीबॉडी के लिए जांच की जाती है, वहां HIV फैलने का खतरा बहुत कम होता है।

एक ही सुई कई व्यक्तियों द्वार्रा इस्तेमाल करने से: दूषित इंट्रावेनस ड्रग पैराफेरेलिया (सुई और सिरिंज) साझा करना आपको HIV और अन्य संक्रामक बीमारियों जैसे हेपेटाइटिस इत्यादि का शिकार बना सकता है।

गर्भावस्था या प्रसव के दौरान या स्तनपान के माध्यम से: HIV से इन्फेक्टेड मां इसके वायरस को अपने बच्चों को पास कर सकती हैं। एचआईवी पॉजिटिव मातायें जो गर्भावस्था के दौरान इस इन्फेक्शन का इलाज करा लेती हैं, उनके बच्चों को HIV से इन्फेक्टेड होने का खतरा बहुत कम हो जाता है।

यहां यह ध्यान रखना भी अत्यंत आवश्यक है की किन किन वजह से HIV नहीं फैलता है:

  • त्वचा से त्वचा संपर्क
  • हाथ मिलाकर, चुंबन, या चुंबन
  • हवा या पानी
  • भोजन या पेय पदार्थ साझा करने से
  • लार, आँसू, या पसीना (जब तक HIV वाले व्यक्ति के खून से मिश्रित न हो)
  • एक शौचालय, तौलिए, या बिस्तर साझा करना
  • मच्छर या अन्य कीड़े के काटने से

HIV ke Lakshan in Hindi – HIV के लक्षण

HIV के लक्षणों (HIV Symptoms in Hindi) के बारे में इस लेख में विस्तार से नीचे दिया गया है। आइये जानते हैं क्या और कैसे होते हैं HIV के लक्षण (HIV ke Lakshan in Hindi)

HIV Symptoms in Hindi – HIV के लक्षण हिंदी में

HIV के लक्षण (HIV Symptoms in Hindi) भिन्न भिन्न प्रकार के होते हैं, जो इस प्रकार से हैं-

HIV symptoms in Hindi, HIV ke Lakshan in Hindi, HIV AIDS Symptoms in Hindi
HIV AIDS Symptoms

HIV के प्रारम्भिक लक्षण- Early HIV Symptoms in Hindi:

HIV के संक्रमण के पहले कुछ हफ्तों को तीव्र संक्रमण चरण या एक्यूट इन्फेक्शन स्टेज कहा जाता है। इस दौरान, वायरस तेजी से पुन: उत्पन्न होता है। व्यक्ति का इम्यून सिस्टम HIV एंटीबॉडी का उत्पादन करके प्रतिक्रिया देता है। ये प्रोटीन होते हैं जो संक्रमण से लड़ने में सहायता करते हैं।

इस स्टेज के दौरान, कुछ लोगों में पहले कोई लक्षण (HIV ke Lakshan in Hindi) दिखाई नहीं देते है। हालांकि, वायरस के संपर्क के बाद पहले या दूसरे महीनों में कई लोग HIV के लक्षण अनुभव करते हैं, लेकिन अक्सर उन्हें यह नहीं पता नहीं होता कि वे लक्षण (HIV Symptoms in Hindi) HIV के कारण हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इस स्टेज के लक्षण फ्लू या अन्य मौसमी वायरस के समान ही होते हैं। वे हल्के से गंभीर हो सकते हैं, और अक्सर ये लक्षण (HIV Symptoms in Hindi) आते जाते रहते हैं।

एचआईवी के शुरुआती लक्षणों (Early Symptoms in Hindi) में शामिल हो सकते हैं:

  • बुखार आना – Fever Hindi Meaning
  • ठंड लगना
  • लिम्फ नोड्स में सूजन
  • सामान्य दर्द और पीड़ा
  • त्वचा पर लाल चकत्ते
  • गले में खराश
  • सरदर्द
  • जी मिचलाना – Nausea Meaning in Hindi
  • पेट की ख़राबी

क्योंकि ये लक्षण सामान्य फ्लू के समान हो होते हैं इसलिए पीड़ित इनके लिए डॉक्टर के पास जाना जरूरी नहीं समझते और यदि वे डॉक्टर को दिखाते भी हैं तो डॉक्टर भी इन लक्षणों (HIV Symptoms in Hindi) को सामान्य फ़्लू के तरह ही लेता है और इसके लिये HIV की जाँच नहीं करता।

इस समय पीड़ित व्यक्ति में लक्षण (HIV ke Lakshan in Hindi) दिखाई दे या नहीं फिर भी इस दौरान वायरल लोड (वायरल लोड रोगी के ब्लड में HIV की मात्रा होती है) बहुत अधिक होता है। अगर वायरल लोड बहुत अधिक मात्रा में है इसका मतलब यह होता है कि HIV वायरस का संचरण आसानी से हो सकता है।

HIV के लक्षण क्लीनिकल लेटेंसी स्टेज में – Clinical Latency Stage of HIV Symptoms in Hindi:

HIV के संक्रमण के 1 महिने बाद, HIV की क्लीनिकल लेटेंसी स्टेज शुरू होती है। HIV की यह स्टेज कुछ सालों तक और लम्बे समय तक भी चल सकती है। कुछ लोगों में इस स्टेज में भी HIV के लक्षण (HIV ke Lakshan in Hindi) दिखाई नहीं देते, जबकि कुछ लोगों में थोड़े थोड़े लक्षण दिखाई देने लगते हैं। जो लक्षण (HIV Symptoms in Hindi) दिखाई भी देते हैं उनसे HIV का पता लगाना लगभग नामुमकिन ही होता है, और न ही ये एक विशेष बीमारी की और इशारा करते हैं।

इन अनौपचारिक लक्षणों (HIV Symptoms in Hindi) में शामिल हो सकते हैं:

  • सिरदर्द और अन्य दर्द और पीड़ा
  • लिम्फ नोड्स में सूजन
  • लम्बे समय के लिए बुखार का आना और जाना
  • रात को पसीना
  • थकान – Fatigue Meaning in Hindi
  • जी मिचलाना – Nausea in Hindi
  • उल्टी
  • दस्त – Diarrhea in Hindi
  • वजन घटना
  • त्वचा पर लाल चकत्ते हो जाना
  • वेजिनल इन्फेक्शन
  • निमोनिया
  • दाद

HIV के शुरुआती चरण के साथ, HIV अभी भी स्पष्ट लक्षणों के बिना भी संक्रामक होता है और किसी अन्य व्यक्ति को हो सकता है। हालांकि, पीड़ित व्यक्ति को पता नहीं चलेगा कि वह HIV से ग्रस्त हो चूका है जब तक कि वे परीक्षण न कराये। अगर किसी व्यक्ति में ये लक्षण (HIV AIDS Symptoms in Hindi) दिखाई देते हैं और उन्हें लगता है कि वे HIV के संपर्क में आ चुके हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि वे परीक्षण अवश्य करायें।

“शायद आपको ये पता न हो की महिलाओं और पुरुषों में भी HIV के लक्षण (HIV ke Lakshan in Hindi) भिन्न भिन्न होते हैं। ज्यादातर महिलाओं और पुरुषों में HIV के लक्षण समान होते हैं, परन्तु वे अलग-अलग जोखिमों के आधार पर अलग-अलग हो सकते हैं, यदि उनके पास एचआईवी है। यहां हमने महिलाओं और पुरुषों में HIV के लक्षणों (HIV Symptoms in Hindi) के बारे में विस्तार से बताया है।”

HIV के लक्षण पुरुषों में – HIV Symptoms in Men:

HIV के लक्षण व्यक्ति व्यक्ति में अलग होते हैं, लेकिन वे पुरुषों और महिलाओं में समान होते हैं। ये लक्षण (HIV Symptoms in Hindi) आ सकते हैं और जा सकते हैं या प्रगतिशील रूप से खराब हो सकते हैं।

यदि कोई व्यक्ति HIV के संपर्क में आ गया है, तो वे अन्य सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इन्फेक्शन(STIs) के संपर्क में भी आ सकते हैं। इनमें गोनोरिया, क्लैमिडिया, सिफिलिस, और ट्राइकोमोनीसिस शामिल हैं। महिलाएं की तुलना में पुरुषों में STIs के लक्षण (जननांगों पर घाव) जल्दी दिखाई देते हैं। हालांकि, पुरुष आमतौर पर महिलाओं के जैसे चिकित्सा देखभाल नहीं लेते हैं। पुरुषों में HIV के लक्षण इस प्रकार हैं-

  • जी मिचलाना
  • उल्टी
  • लगातार दस्त
  • अत्यंत थकावट
  • तेजी से वजन घटाना
  • खांसी और सांस लेने में तकलीफ
  • बुखार, ठंड लगना, और रात में पसीना आना
  • फंगल इन्फेक्शन
  • मुंह या नाक में, जननांगों पर, या त्वचा के नीचे चकत्ते और घाव हो जाना
  • बगल, गले या गर्दन में लिम्फ नोड्स में सूजन
  • याद न रहना, भ्रम, या न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर

इसके बारे में भी विस्तार से पढ़ें: Most Common HIV Symptoms in Men
इसके बारे में भी विस्तार से पढ़ें: HIV AIDS In Hindi – जानिये कैसे होता है HIV से AIDS

HIV के लक्षण महिलाओं में – HIV Symptoms in Women:

HIV से पीड़ित पुरुषों और महिलाओं दोनों में STIs इन्फेक्शन होने की सम्भावना बहुत अधिक होती है। हालांकि, पुरुषों में महिलाओं की तुलना में उनके जननांगों में छोटे छोटे घाव या अन्य परिवर्तन थोड़े ज्यादा हो सकते हैं।

इसके अलावा HIV से पीड़ित महिलाओं में ये खतरे और बढ़ जाते हैं-

  • वेजिनल यीस्ट इन्फेक्शन
  • अन्य वेजिनल इन्फेक्शन जैसे बैक्टीरियल इन्फेक्शन
  • पेल्विक इन्फ्लैमटॉरी डिसीज (PID)
  • मेनस्ट्रॉल साइकिल में परिवर्तन
  • HPV जिसके कारण वार्ट्स (Meaning of Warts) या सर्वाइकल कैंसर (Cervical Cancer in Hindi) हो सकता है

Symptoms of HIV AIDS in Hindi – HIV AIDS के लक्षण हिंदी में

एड्स अक्वायर्ड इम्यूनोडेफिशियेंसी सिंड्रोम को बताता है। इस स्थिति में, HIV के कारण रोगी का इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है जिसे आम तौर पर कई सालों तक सही नहीं किया जा सकता है। जब किसी व्यक्ति में HIV की जाँच की जाती है तो यदि वह एंटीरेट्रोवायरल थेरेपी के साथ जल्दी इलाज करा लेता है है, तो आमतौर वह व्यक्ति एड्स (HIV AIDS Symptoms in Hindi) से ग्रस्त नहीं होगा।

HIV से ग्रस्त लोग एड्स तब विकसित करते हैं जब शुरूआती दिनों में उनमे HIV के लक्षण (HIV AIDS Symptoms in Hindi) विकसित नहीं होते या वो इनका सही समय पर इलाज नहीं कराते या HIV के बारे में पता होने के बाद भी वो एंटीरेट्रोवायरल थेरेपी नहीं लेते हैं। इसके अलावा उन लोगो को एड्स हो सकता है अगर उनके ऊपर एंटीरेट्रोवायरल थेरेपी का कोई प्रभाव नहीं पड़ता।

HIV AIDS के कुछ लक्षण (HIV AIDS Symptoms in Hindi) इस प्रकार हैं –

  • बुखार
  • लिम्फ नोड्स में क्रोनिक सूजन, विशेष रूप से बगल, गर्दन और ग्रोइन के
  • अत्यंत थकावट
  • रात को पसीना आना
  • त्वचा के नीचे या मुंह में, नाक, या पलकों में काले splotches
  • मुंह और जीभ, जननांग, या अनल में घाव हो जाना
  • त्वचा में घाव, या चकत्ते हो जाना
  • आवर्ती या पुराने दस्त
  • तेजी से वजन घटना
  • न्यूरोलॉजिकल समस्याएं जैसे स्मृति हानि, और भ्रम की समस्या
  • चिंता और डिप्रेशन

एंटीरेट्रोवायरल थेरेपी वायरस को नियंत्रित कर सकती है और आमतौर पर एड्स (HIV AIDS Symptoms in Hindi) होने से रोकती है। एड्स के अन्य संक्रमण और जटिलताओं का भी इलाज किया जा सकता है। वह उपचार व्यक्ति की व्यक्तिगत जरूरतों के अनुरूप होना चाहिए।
इसके बारे में भी विस्तार से पढ़ें: Condom Use for Male and Female

अगर आपको लगता है कि आप एचआईवी से संक्रमित हो चुके हैं या वायरस के संपर्क में आने के जोखिम में हैं, तो जल्द से जल्द अपने नजदीकी डॉक्टर (AIDS Doctor in Pune) को दिखायें।