विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार दुनिया भर में लगभग 46.6 करोड़ लोगों को कान से कम सुनाई देना या बहरापन है। बहरेपन के कई अलग-अलग कारण हैं। यह उम्र बढ़ने की प्रक्रिया का एक हिस्सा हो सकता है या यह कान की कमजोर नसें, तेज शोर, कान में संक्रमण, विषाक्त पदार्थों के प्रभाव या चोट के कारण भी हो सकता है। कुछ प्रकार के बहरेपन को ठीक किया जा सकता है। लेकिन उनमें से अधिकांश को ठीक नहीं किया जा सकता है और हमें उसे रोकने में सावधानी बरतनी चाहिए।

बहरेपन के प्राथमिक प्रकार क्या हैं?

इससे पहले कि हम आगे पढ़ें, हमें बहरेपन के प्रकारों को जानना चाहिए। बहरेपन के 3 प्राथमिक प्रकार हैं।

  1. संवेदी बहरापन (Sensorineural Hearing Loss)
  2. प्रवाहकीय बहरापन (Conductive Hearing Loss)
  3. मिश्रित बहरापन (Mixed Hearing Loss)

बहरेपन के सामान्य कारण क्या हैं?

  • बढ़ती उम्र के कारण बहरापन सबसे आम कारण है।
  • लगातार तेज आवाज के संपर्क में रहना (जैसे उच्च मात्रा में संगीत सुनना, ध्वनि प्रदूषण या काम से संबंधित शोर)
  • विभिन्न स्वास्थ्य स्थितियां, जैसे हृदय रोग या मधुमेह
  • कुछ दवाओं के दुष्प्रभाव, जैसे एस्पिरिन और कुछ एंटीबायोटिक्स
  • आनुवांशिकी के कारण बहरापन

बहरेपन के कारणों और उपचार के बारे में विस्तार से पढ़िए।

आइए हम कारणों को बेहतर तरीके से समझें, ताकि हम सावधानी बरत सकें।

जैसे-जैसे हम बूढ़े होते जाते हैं हमारे शरीर के अंग भी बूढ़े होते जाते हैं। हमारे अंग 100% दक्षता पर कार्य करने की क्षमता खो देते हैं। हमारे आंतरिक कान में हजारों छोटे नाजुक बाल होते हैं, ये बाल कोशिकाएं ध्वनि को संकेतों में परिवर्तित करती हैं जो श्रवण तंत्रिकाओं की मदद से हमारे मस्तिष्क में संचारित होती हैं। हमारी बढ़ती उम्र की वजह से बालों की कोशिकाएं और नसें कमजोर हो जाती हैं, इससे हमारे कानों की सुनने की क्षमता कम हो जाती है। इस प्रकार के बहरेपन को संवेदी बहरापन कहा जाता है।

हालांकि उम्र बढ़ने के कारण बहरापन हमारे नियंत्रण में नहीं है, हम सावधानी बरत सकते हैं ताकि सुनने के नुकसान की गति धीमी हो जाए।

उम्र से संबंधित बहरेपन को धीमा करने के लिए हमें क्या सावधानियां बरतनी चाहिए?

हमारे कान को अच्छी तरह से काम करने के लिए पौष्टिक भोजन की आवश्यकता होती है। हमें उन खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए जो निम्नलिखित प्रोटीन्स, खनिजों और अन्य में समृद्ध हैं।

खनिज (Minerals)

  • पोटेशियम
  • मैग्नीशियम
  • जस्ता (Zinc)

विटामिन (Vitamins)

  • विटामिन बी 12 (vitamin B12)
  • विटामिन C और E (vitamin C & E)
  • विटामिन डी (vitamin D)

अन्य पोषक तत्व और पूरक

  • ओमेगा 3 फैटी एसिड (Omega 3 Fatty Acids)

बहरेपन को धीमा करने के लिए अन्य सावधानियां क्या हैं?

जब हम महसूस करते हैं कि हम बहरेपन से पीड़ित हैं, तो हमें एक ऑडियोलॉजिस्ट से परामर्श करना चाहिए। चूंकि उम्र से संबंधित बहरेपन को ठीक करने के लिए कोई दवा नहीं है, हमें कान की मशीन का उपयोग करना चाहिए। एक कान की मशीन, अभिसरण को आरामदायक बना देगी और तनाव से बचाएगी। बहरापन बढ़ने का एक मुख्य कारण तनाव भी है।

क्या ध्वनि प्रदूषण बहरापन का कारण बनता है?

तेज आवाज के संपर्क में आने से हमारे कानों को होने वाला नुकसान बहरेपन का दूसरा सबसे बड़ा कारण है।

80 db से ऊपर का शोर स्तर, हमारे कानों के लिए हानिकारक होता है। आइए हम घरेलू उपकरणों और दैनिक स्थितियों के शोर के स्तर के बारे में जानें।

  • हेयर ड्रायर 70 dB
  • वॉशिंग मशीन 78 dB
  • सड़क यातायात का शोर 85 – 90 dB
  • ट्रक 100 dB
  • एम्बुलेंस सायरन लगभग 120 dB

यदि आप लगातार इन ध्वनियों को सुन रहे हैं तो बहरेपन की संभावना बढ़ जाएगी।

शोर प्रेरित बहरेपन से खुद को कैसे बचाएं?

बहरेपन से बचाने के लिए हमें निम्न सावधानियां बरतनी चाहिए।

  • इयरप्लग या कान सुरक्षा उपकरण का उपयोग करें
  • 60:60 नियम का पालन करें – यदि आप एक संगीत प्रेमी हैं, तो 60% से अधिक वॉल्यूम सेटिंग में संगीत नहीं सुनें। 60 मिनट तक लगातार सुनने के बाद आपको अपने कानों को आराम देना चाहिए।
  • यदि आप कारखाने के कर्मचारी हैं और शोर का स्तर अधिक है, तो ईयर प्लग का उपयोग करें।

प्रवाहकीय बहरापन क्या है?

प्रवाहकीय बहरापन एक प्रकार का बहरापन है जो ध्वनि को बाहरी कान से भीतरी कान तक जाने के लिए रोकता है। अधिकांश मामलों में, प्रवाहकीय बहरापन इलाज योग्य है। निम्नलिखित प्रवाहकीय बहरेपन के लक्षण और कारण हैं।

प्रवाहकीय बहरेपन के क्या लक्षण हैं?

  • कान का दर्द या कान में दर्द
  • बंद कान या दबाव
  • कान से ख़राब गंध आना
  • अपरिचित ध्वनियाँ

प्रवाहकीय बहरेपन के क्या कारण हैं?

  • कान में मैल इकठ्ठा होना
  • एक बाहरी तत्व या निकाय द्वारा बाधा
  • पानी के कारण संक्रमण
  • बाहरी कान की विकृत रचना
  • कान के पर्दे में छेद

प्रवाहकीय बहरेपन के इलाज क्या हैं?

बहरेपन का इलाज निम्नलिखित तरीको से किया जा सकता है :-

  • अगर कान की समस्या या बहरापन किसी प्रकार के इन्फेक्शन की वजह से है तो उसे दवाइयों से ठीक किया जा सकता है|
  • अगर कान का बहरापन कान के पर्दें के फटने की वजह से हो तो उसे सर्जरी करके ठीक किया जा सकता है|
  • कान का मैल भी कभी-कभी सुनने की समस्या का कारण बन सकता है, तो कान के मैल को हटाकर भी बहरेपन का इलाज किया जा सकता है|
  • कान की मशीन का उपयोग करके भी कान की समस्या को या बहरेपन को कम किया जा सकता है|
  • अगर आपके कानों में बार-बार संक्रमण हो रहा है तो सर्जरी की आवश्यकता पड़ सकती है|
  • प्रवाहकीय बहरेपन को ठीक किया जा सकता है बशर्ते तत्काल चिकित्सा परामर्श किया जाता है, देरी उपचार को जटिल बना देगा।

अपने खुद के डॉक्टर न बनें। कुछ सामान्य दवाएं जैसे कि एस्पिरिन केमिस्ट के पास उपलब्ध हैं, अगर निर्धारित खुराक से अधिक ली जाए तो भी बहरापन हो सकता है।

अन्य बीमारियाँ जो बहरेपन का कारण बन सकती हैं।

कुछ बीमारियाँ जो नीचे दी गई हैं, वे सीधे हमारे कानों से संबंधित नहीं हैं फिर भी वे बहरेपन का कारण बन सकती हैं।

हमें उचित कदम उठाना चाहिए ताकि ये रोग नियंत्रित रहें और हमारी सुनने की शक्ति पर कोई असर न पड़े।

अधिक जानकारी और मुफ्त व्यक्तिगत मार्गदर्शन के लिए आज ही क्रेडीहेल्थ मेडिकल एक्सपर्ट्स से +918010994994 पर संपर्क करें या नीचे दिए गये लिंक पर क्लिक करें

[button size=”medium” color=”transparent_credi” class = “custom_button transparent_credi” link=”https://www.credihealth.com/medical-assistance?utm_source=blog_article&utm_medium=bottom_button&utm_campaign=book_appointment” icon=”” target=”true”]कॉलबैक का अनुरोध करें [/button]

0 Shares:
You May Also Like