ब्लॉग » महिलाओं का क्लब » जानिए क्या और कैसे होता है IVF Treatment

जानिए क्या और कैसे होता है IVF Treatment

पूरी दुनिया में, IVF Treatment [ आईवीएफ (विट्रो निषेचन में)] (IVF in Hindi) को बांझपन का इलाज करने का मुख्य तरीका माना जाता है। शायद ही ऐसा कोई होगा जिसे IVF के बारे में ज्ञात न हो। आईवीएफ उन परिवारों के लिए एकमात्र रास्ता है, जिसके बच्चे नहीं हो पाते। इसका इस्तेमाल पहली बार इंग्लैंड में 1978 में किया गया था। हालांकि, 200 साल पहले इस तरह के प्रयास किए गए थे, जिसका प्रमाण आज भी मिलता है। IVF (IVF Meaning in Hindi) Treatment को टेस्ट ट्यूब बेबी Treatment के नाम से भी जाना जाता है। आइये जानते हैं IVF Treatment in Hindi क्या होता है, कैसे होता है और इसके सफल होने की दर क्या है?

What is IVF Meaning in Hindi – IVF का मतलब क्या होता है?

आज, IVF (IVF in Hindi) व्यावहारिक रूप से एक घरेलू शब्द बन चुका है। लेकिन बहुत साल पहले यह बांझपन के लिए एक रहस्यमय प्रक्रिया थी जिसे तब “टेस्ट ट्यूब बेबी” के रूप में जाना जाता था। 1978 में इंग्लैंड में पैदा हुए लुईस ब्राउन, इस तरह के पहले बच्चे थे जो अपनी मां के गर्भ के बाहर किसी अन्य गर्भ से पैदा हुए थे।

IVF Meaning in Hindi – IVF का पूरा नाम इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (In Vitro Fertilization) है जिसे बहुत से लोग टेस्ट ट्यूब बेबी के नाम से भी जानते हैं। आर्टिफिशियल गर्भाधान की सरल प्रक्रिया के विपरीत (जिसमें गर्भाशय में शुक्राणु रखा जाता है और गर्भधारण सामान्य रूप से होता है), आईवीएफ (IVF in Hindi) में लैब्स में शरीर के बाहर एग और स्पर्म को जोड़ा जाता है। एक बार जब भ्रूण बन जाता है तो, उस भ्रूण को सरोगेट मां के गर्भाशय में रखा जाता है। (IVF in Hindi) IVF एक जटिल और महंगी प्रक्रिया है; बांझपन वाले जोड़ों में से केवल 5% ही इसे करवा पाते हैं। हालांकि, 1981 में यू.एस. में इसकी शुरुआत के बाद, आईवीएफ और इसी तरह की अन्य तकनीकों के परिणामस्वरूप करीबन 200,000 से अधिक बच्चे पैदा हो चुके हैं।

वैसे तो IVF (IVF Meaning in Hindi) के परिणाम ज्यादातर अच्छे ही होते हैं पर कई बार ऐसे मामले सामने आते हैं जिनमे टेस्ट ट्यूब से निषेचन एक से अधिक गर्भावस्था की ओर चला जाता है, और एक की जगह जुड़वां या तीन गुना गर्भ धारण हो जाता है। ऐसी अवस्था में उस महिला के कहने पर अनावश्यक भ्रूण को समाप्त किया जा सकता है। लेकिन इसमें भी खतरा बना रहता है बहुत बार इससे शेष की मृत्यु और बाद में गर्भपात होने का भी दर बना रहता है।

“IVF (IVF Treatment in Hindi) प्रक्रिया की सफलता लगभग 30-35% है।”

When To Perform IVF in Hindi – IVF कब किया जाता है?

IVF (IVF in Hindi) सहायता बांझपन के उन रूपों में प्रभावी है, जब गर्भधारण (Learn How To Get Pregnant in Hindi – गर्भवती कैसे हों) को रोकने वाले कारण को खत्म करना संभव नहीं है। उदाहरण के लिए, एक्टोपिक गर्भावस्था के बाद, जब किसी महिला की एक या दोनों फैलोपियन ट्यूब हटा दी जाती हैं या सूजन संबंधी बीमारियों के बाद, जब फैलोपियन ट्यूबों की पेटेंसी टूट जाती है और इसे सही करना असंभव होता है, तब IVF (IVF Meaning in Hindi) की सहायता से बाँझपन को दूर किया जा सकता है।

कुछ अन्य समस्याएं जिनके लिए IVF (IVF in Hindi) का सहारा लिया जा सकता है इस प्र्रकार हैं-

  • एंडोमेट्रिओसिस (Endometriosis)
  • कम शुक्राणुओं की गणना करता है
  • गर्भाशय या फैलोपियन ट्यूबों के साथ समस्याएं
  • अंडाशय के साथ समस्याएं
  • एंटीबॉडी की समस्याएं जो शुक्राणु या अंडों को नुकसान पहुंचाती हैं
  • गर्भाशय ग्रीवा में घुसना या जीवित रहने के लिए शुक्राणु की अक्षमता
  • अस्पष्ट प्रजनन समस्या

अगर आप पूर्ण ट्यूबल ब्लॉकेज से जूझ रहीं हैं तो IVF (IVF Meaning in Hindi) आपके लिए एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। यह यह उन मामलों के लिए सबसे अच्छा विकल्प है जिनमे प्रजनन दवाओं, सर्जरी, और कृत्रिम गर्भाधान जैसी अन्य विधियां काम नहीं करती हैं।

How to perform IVF Treatment in Hindi – IVF ट्रीटमेंट कैसे किया जाता है?

IVF Treatment (IVF Treatment in Hindi) और भ्रूण स्थानांतरण प्रक्रिया में कुल पांच स्टेप होते हैं, जो इस प्रकार हैं:

स्टेप 1: अंडे के उत्पादन को प्रोत्साहित करने के लिए महिला को प्रजनन दवाएं दी जाती हैं। इस प्रक्रिया में कई अंडे बन सकते हैं क्योंकि सारे अंडे प्रजनन योग्य नहीं होते। ओवरी की जांच के लिए एक ट्रांसवेजिनल अल्ट्रासाउंड किया जाता है, और हार्मोन के स्तर की जांच के लिए ब्लड टेस्ट किया जाता है।

स्टेप 2: एग्स के बन जाने पर सर्जरी की सहायता से, और अल्ट्रासाउंड की सहायता लेकर उन एग्स को पेल्विक कैविटी या श्रोणि गुहा से बाहर निकला जाता है। दर्द और असुबिधा को कम करने के लिए कुछ दवाएं भी दी जाती हैं।

स्टेप 3: इस स्टेप में पुरुष को स्पर्म देने के लिए कहा जायेगा जिससे उस एग को निषेचित किया जायेगा।

स्टेप 4: इन्सेमीनेशन नामक प्रक्रिया में शुक्राणु और अंडे को एक साथ मिश्रित किया जाता है और निषेचन को प्रोत्साहित करने के लिए एक प्रयोगशाला में रखा जाता है। कुछ मामलों में जहां निषेचन की कम संभावना है, इंट्रासाइप्लाज्स्मिक स्पर्म इंजेक्शन (ICSI) का उपयोग किया जा सकता है। इस प्रक्रिया के माध्यम से, निषेचन करने के लिए स्पर्म को सीधे अंडा में इंजेक्ट कर दिया जाता है। और यह देखा जाता है कि निषेचन और सेल विभाजन सही से हो रहा है या नहीं। एक बार ऐसा होने पर, फर्टिलाइज़्ड एग को भ्रूण माना जाता है।

स्टेप 5: फर्टिलाइजेशन के 3 से 5वें दिन भ्रूण को महिला के गर्भाशय में रखा जाता है। भ्रूण को गर्भाशय में रखने के लिए एक पतली ट्यूब या कैथेटर का प्रयोग किया जाता है। अधिकतर महिलाओं के लिए यह प्रोसीजर थोड़ा ज्यादा दर्ददायक होता है, जबकि कुछ महिलाओं को इसमें थोड़ा कम दर्द होता है। यदि प्रक्रिया सफल होती है, तो आमतौर पर छह से दस दिन के अंदर इम्प्लांटेशन हो जाता है।

Side Effects of IVF Treatment in Hindi – IVF Treatment के साइड इफेक्ट्स

यधपि IVF ट्रीटमेंट (IVF Treatment in Hindi) कुछ महिलाओं के लिए अत्यंत पीड़ादायक हो सकता है, वहीं कुछ महिलायें कुछ दिन बाद ही सामान्य जीवन व्यतीत कर सकती हैं। IVF ट्रीटमंट (IVF in Hindi) के कभी कभी कुछ साइड इफेक्ट्स भी होते हैं-

  • IVF प्रक्रिया (IVF in Hindi)  के बाद ब्लड के रंग का फ्लूड पास करना
  • हल्के क्रैम्प्स ना
  • पेट फूलना
  • कब्ज या Constipation Meaning in Hindi
  • स्तन कोमलता

IVF (IVF Meaning in Hindi) के बाद से कोई भी लक्षण महसूस करते हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

  • हैवी वेजिनल ब्लीडिंग
  • पेल्विक पैन
  • यूरिन में ब्लड आना
  • 100.5 °F (38 °C) से ज्यादा बुखार आना Fever Hindi Meaning

फर्टिलिटी के लिए जो दवाइयां दी जाती हैं उनके कुछ दुष्परिणाम इस प्रकार हैं:

Success Rate of IVF in Hindi – IVF की सफलता दर

आईवीएफ के लिए सफलता दर कई कारकों पर निर्भर करती है, जैसे बांझपन, जिसके लिए आप IVF (IVF Meaning in Hindi) प्रक्रिया कर रहे हैं, और आपकी उम्र। CDC सभी सहायक प्रजनन तकनीक (एआरटी) प्रक्रियाओं के लिए राष्ट्रीय आंकड़े एकत्रित कटरा है जिसमे IVF, GIFT, और ZIFT शामिल हैं , हालांकि IVF (IVF in Hindi) अब तक का सबसे आम तरीका पाया गया है; यह 99% प्रक्रियाओं के लिए जिम्मेदार है। 2009 की सबसे हालिया रिपोर्ट में पाया गया:

  • गर्भावस्था सभी चक्रों के औसत में करीबन 29.4% महिलाओं महिलाओं (महिला की उम्र के आधार पर उच्च या निम्न) में सफलता पूर्वक गर्भ धारण किया है।
  • इस प्रक्रिया से करीबन 22.4% सफलतापूर्वक जन्म हुए थे।

Risk Associated to IVF Treatment in Hindi – IVF Treatment से जुड़े रिस्क

अधिकांश चिकित्सा प्रक्रियाओं के साथ, कुछ न कुछ जोखिम जुड़े होते हैं। आमतौर पर OHSS से अधिक गंभीर लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • उलटी और जी मिचलाना Ya Nausea Meaning in Hindi
  • पेशाब की आवृत्ति घट जाना
  • साँस कम आना
  • बेहोश हो जाना
  • गंभीर पेट दर्द और सूजन
  • 3-5 दिनों के अंदर करीबन 10 पाउंड वजन बढ़ जाना

यदि आप उपरोक्त इनमें से किसी भी लक्षण का अनुभव करते हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

अगर आप अपनी प्रजनन क्षमता और गर्भधारण की संभावनाओं को बढ़ाने के लिए परीक्षण या विकल्पों की तलाश में हैं, आज ही अपने पास के IVF एक्सपर्ट(IVF Specialist in Bangalore) से अपॉइंटमेंट बुक करायें।

इसके बारे में भी विस्तार से पढ़ें: How to Choose the Right IVF Doctor & Hospital
इसके बारे में भी विस्तार से पढ़ें: Risks and Side Effects of IVF