ब्लॉग » संक्रामक रोग » खसरा होने के कारण, लक्षण और इसके लिए टीकाकरण – Measles Meaning in Hindi
Measles Meaning in Hindi, Measles in Hindi, Measles rubella in Hindi

खसरा होने के कारण, लक्षण और इसके लिए टीकाकरण – Measles Meaning in Hindi

हमारे आस पास के वातावरण में कितने ही वायरस फैले हुए हैं जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक सिद्ध हो सकते हैं। यदि बात की जाये संक्रमण और हवा के माध्यम से फैलने वाली बिमारियों की तो सामन्य फ्लू तो सबसे आम है ही साथ ही चिकन पॉक्स, खसरा, मम्प्स इत्यादि बीमारियां भी काफी खतरनाक होती हैं। इस लेख में हम मीजल्स के बारे में बतायेंगे जिसे खसरा (Measles Meaning in Hindi) के नाम से भी जाना जाता है।

एक समय था जब खसरा के वायरस को मिटा दिया गया था परन्तु इसके वेक्सीन विरोधी आंदोलन के बढ़ने के कारण, खसरा जल्दी और आसानी से फैलने लगा है। अभी यह विश्व के कई देशों में फ़ैल चुका है जो विशेषकर छोटे और 15 वर्ष की आयु तक के बच्चों के लिए घातक होता है। आइये जानते हैं मीजल्स का मतलब (Measles in Hindi), कारण, लक्षण और इसका इलाज कैसे किया जाये।

क्या होता है मीजल्स और रूबेला? What is Measles Meaning in Hindi and Measles Rubella in Hindi

खसरा एक अत्यधिक वायरल बीमारी है जो तेजी से फैल सकती है, यह पैरामीक्सोवायरस परिवार के वायरस द्वारा सीधे संपर्क में आने या संक्रमित व्यक्ति के खाँसने , छींकने से उनकी सांस की बूंदों के माध्यम से फैलता है। यह श्वसन पथ और फिर शरीर के बाकी हिस्सों को संक्रमित करता है जिसमें संक्रमण के 10-12 दिनों के बाद लक्षण दिखाई देते हैं। इसमें तेज बुखार, लाल चकत्ते, खांसी, बहती नाक और लाल और पानी वाली आंखें शामिल हैं। यह निमोनिया सहित अंधापन, एन्सेफलाइटिस, गंभीर दस्त या डायरिया और गंभीर श्वसन संक्रमण जैसी जटिलताओं का कारण बन सकता है। यदि रोगी का इम्यून सिस्टम कमजोर है तो खसरे से रोगी की मृत्यु भी हो सकती है। 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में इस बीमारी की आशंका सबसे अधिक होती है। हालांकि, यह केवल मनुष्यों को प्रभावित करता है और जानवरों को नहीं।

खसरे के एक बार होने के बाद, वह व्यक्ति अपने जीवनकाल के लिए खसरे से प्रतिरक्षा हासिल कर लेता है। उस व्यक्ति के जीवन में फिर से खसरा होने की सम्भावना लगभग न के बराबर होती है।

रूबेला या जर्मन मीजल्स भी एक संक्रामक लेकिन थोड़ा कम वायरल रोग है जो बच्चों और युवा वयस्कों को प्रभावित करता है। इसके लक्षणों में चकत्ते, हल्का बुखार, जी मिचलाना और आँख आना शामिल हैं। रूबेला अपने आप में उच्च जोखिम वाला इन्फेक्शन नहीं होता है, लेकिन गर्भावस्था के दौरान मीजल्स रूबेला इन्फेक्शन भ्रूण के लिये गंभीर जोखिम पैदा कर सकता है क्योंकि 90% मामलों में, वायरस भ्रूण को ट्रांसमिट हो जाता है। इसके परिणामस्वरूप गर्भपात, या शिशु को जन्मजात रूबेला सिंड्रोम (CRS) हो सकता है। CRS के कारण शिशु में बहरापन, विकलांगता, हृदय दुर्बलता, आटिज्म और अन्य जन्म दोष पैदा हो सकते है। WHO के अनुसार, भारत में हर साल CRS के कारण लगभग 40,000 बच्चे जन्म दोष के साथ पैदा होते हैं।

मीजल्स के लक्षण 

मीजल्स या खसरे के लक्षण में बुखार आना तो सामन्य है ही साथ ही खाँसी, नाक बहना, या आँख आना इन तीनो में से भी एक लक्षण दिखाई दे सकता है। सामन्यतः खसरे के लक्षण इन्फेक्शन के 9 से 11वें दिन के बाद दिखाई देना प्रारम्भ होते हैं। आइये जानते हैं इसके लक्षण क्या क्या हैं-

Measles Meaning in Hindi, Measles in Hindi, Measles rubella in Hindi

  • बहती नाक
  • शुष्क खाँसी
  • आँख आना, आई फ्लू, आँखों की पलके सूजना
  • आँखों में जलन और पानी आना
  • प्रकाश से परेशानी होना
  • छींकना
  • लाल और कत्थई रंग के चकत्ते
  • कोप्लिक के धब्बे, या मुंह, गाल, या गले के अंदरूनी हिस्से में छाले
  • सामान्यीकृत शरीर में दर्द
  • ग्रंथियों में सूजन आना या दर्द होना
  • सर दर्द की समस्या
  • भूख ना लगना
  • थकान और चक्कर आना

इसमें अक्सर बुखार रहता है। यह हल्के गंभीर से लेकर 40.6 डिग्री सेंटीग्रेड तक हो सकता है। यह कई दिनों तक भी रह सकता है, और चकत्तों के दिखाई देने पर यह कम ज्यादा हो सकता है।

अधिकांशतः बचपन में निकलने वाले सभी चकत्ते मीजल्स के नहीं होते हैं, लेकिन फिर भी बच्चे को एक डॉक्टर को दिखाना चाहिए अगर:

  • माता-पिता को संदेह है कि बच्चे को खसरा हो सकता है
  • लक्षणों में सुधार नहीं होता है, या वे और खराब हो जाते हैं
  • बुखार 38º सेंटीग्रेड (orC) या 100.4ah फ़ारेनहाइट (ºF) से अधिक हो
  • अन्य लक्षण समाप्त हो जाएँ, लेकिन बुखार बना रहता है तब

मीजल्स के प्रकार 

मीजल्स मुख्यतः 2 प्रकार के होते है, जो इस प्रकार हैं-

खसरा: यह रूबोला वायरस के कारण होने वाला, खसरे का मानक रूप है।

रूबेला, या जर्मन खसरा: यह रूबेला वायरस के कारण होता है।यह आमतौर पर अधिक घातक नहीं होता, लेकिन युवा बच्चों की तुलना में यह अजन्मे शिशुओं के लिए अधिक जोखिमकारी हो सकता है, यदि महिला गर्भवती होने पर वायरस के संपर्क में आ जाती है तो।

यह न तो संक्रामक होता है और न ही मानक खसरे जितना गंभीर है।

मीजल्स के होने के कारण

मीजल्स या खसरा रूबेला वायरस के इन्फेक्शन के कारण होता है। यह वायरस संक्रमित बच्चे या वयस्क के नाक और गले के बलगम में रहता है। यह रोग दानों के दिखने के 4 दिन पहले अधिक संक्रामक होता है, और लगभग 4 से 5 दिनों तक यह संक्रामक बना रहता है।

यह संक्रमण निम्न से फैलता है:

  • संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से
  • संक्रमित लोगों के पास होने पर यदि वे खाँसते या छींकतें हैं
  • एक ऐसी सतह को छूने से, जहां संक्रमित व्यक्ति के बलगम की बूंदें पड़ी हों और फिर उंगलियों को मुंह में डालने से, या नाक या आंखों को रगड़ने से

मीजल्स का इलाज – Treatment for Measels in Hindi

खसरा का कोई विशिष्ट उपचार नहीं है। यदि कोई जटिलताएं नहीं हैं, तो निर्जलीकरण को रोकने के लिए डॉक्टर आराम और बहुत सारे तरल पदार्थों को लेने की सलाह देंगे। इसके लक्षण आमतौर पर 7 से 10 दिनों के भीतर चले जाते हैं।

इसके अलावा निम्नलिखित उपाय इसके इलाज में मदद कर सकते हैं:

  • यदि आपके बच्चे का तापमान बहुत अधिक है, तो उसके शरीर के तापमान को कम करने की कोशिश करनी चाहिए, लेकिन ध्यान रखें तापमान बहुत कम भी नहीं होना चाहिए ।
  • टाइलेनॉल या इबुप्रोफेन बुखार और दर्द को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है। 16 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को एस्पिरिन नहीं लेना चाहिए।
  • लोगों को बच्चे के पास धूम्रपान नहीं करना चाहिए।
  • धूप का चश्मा, मंद रोशनी या कमरे में अंधेरा रखने से रोगी को आराम मिल सकता है, क्योंकि खसरा प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता बढ़ाता है।
  • यदि आंखों के चारों ओर कड़ापन आ जाता है, तो एक गर्म और नम कपड़े से धीरे से साफ करें।
  • खांसी की दवा खसरे की खांसी से राहत नहीं देती। ह्यूमिडिफ़ायर या कमरे में पानी का एक कटोरा रखने से इसमें मदद मिल सकती है। यदि बच्चा 12 महीने से अधिक है, तो एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच नींबू का रस और दो चम्मच शहद मिलाकर देने से राहत मिल सकती है। शिशुओं को शहद न दें।
  • बुखार में निर्जलीकरण हो सकता है, इसलिए बच्चे को बहुत सारे तरल पदार्थ पिलाते रहना चाहिए।
  • एक बच्चा जो संक्रामक अवस्था में है, उसे स्कूल से दूर रखना चाहिए और दूसरों के साथ घनिष्ठ संपर्क से बचना चाहिए, विशेष रूप से उन लोगों को जिन्हें टीकाकरण नहीं हुआ है या जिन्हें खसरा कभी नहीं हुआ है।
  • विटामिन ए की कमी वाले और 2 साल से कम उम्र के बच्चे जिन्हें खसरा है, उन्हें विटामिन ए की खुराक से फायदा हो सकता है। ये जटिलताओं को रोकने में मदद कर सकते हैं, लेकिन ये सप्लीमेंट केवल डॉक्टर की सलाह के बाद लिया जाना चाहिए।
  • एंटीबायोटिक्स खसरे के वायरस के खिलाफ मदद नहीं करते, लेकिन कभी-कभी एक अतिरिक्त जीवाणु संक्रमण विकसित होने पर उन्हें भी लिया जा सकता है।

मीजल्स का निवारण 

जिन लोगों को उनके जीवनकाल में एक बार खसरा हो चुका है वे सामान्य रूप से इसके लिए इम्यून हो जाते हैं, और उन्हें यह दोबारा नही होता। जो लोग इसके लिए इम्यून नहीं होते हैं उन्हें खसरे का टीका लगवाने के लिए विचार करना चाहिए।

खसरे के लिए वेक्सिनेशन/टीकाकरण

  • खसरे के निवारण के लिए MMR वेक्सिनेशन किया जाता है, जो (खसरा, गलसुआ और रूबेला खसरा) तीनो के लिए प्रभावी होता है। MMR का टीका बच्चे को 12 से 15 महीने के बीच में नियमित रूप से दिया जाता है, साथ ही बच्चे को 4 से 6 साल की आयु में उसके स्कूल जाने से पहले बूस्टर शॉट भी दिए जाते हैं।
  • यद्धपि एक बच्चा जन्म के कुछ महीनो के बाद तक अपनी माँ की इम्युनिटी के कारण सुरक्षित रहता है, और यह केवल तभी संभव हो सकता है जब उसकी माँ प्रतिरक्षित हो। किन्तु कई बार 12 महीने से पहले भी टीकाकरण की सलाह दी जाती है, या 6 महीने की आयु या उससे भी पहले ऐसा तब होता है जब वे लोग किसी ऐसे क्षेत्र में रहते हो जहाँ खसरा फैला हुआ हो।
  • WHO की एक रिपोर्ट के अनुसार MMR वेक्सीन के कारण करीबन 79 % तक खसरे से होने वाली मौतों में कमी आई है।

मीजल्स में क्या खायें ? 

मीजल्स में एक हेल्दी डाइट का पालन करके इसके दुष्प्रभावों को रोका जा सकता है। तीव्र चरण के दौरान, फलों के आहार का पालन करना आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करेगा। जब रोगी का तापमान सामान्य स्तर पर पहुंच जाता है, तो पुष्टिकरण चरण में, स्वस्थ खाद्य पदार्थों का सेवन करें। खसरा  आहार में लगभग 8 गिलास पानी पीना शामिल करें, साथ ही अन्य तरल पदार्थ जैसे नींबू के रस का पानी, जौ का रस, संतरे का जूस, नारियल पानी। इसे अलावा निम्न आहार को शामिल करें-

  • संतरे, और अंगूर जैसे विटामिन C से भरपूर खाद्य
  • पालक, हरी पत्तेदार सब्जियां, आदि विटामिन A से भरपूर उत्पाद
  • चिकनाई वाले भोजन, वसा और परिष्कृत वस्तुओं से युक्त भोजन से परहेज करें।
  • कॉफी और कोल्डड्रिंक जैसे कैफीन युक्त और मीठे पेय पदार्थों का सेवन नहीं करना।
  • आधा कप पानी में थोड़ा अदरक, दो-तीन पत्ते तुलसी (तुलसी) और पुदीने की पत्तियों को उबाल कर, इस मिश्रण को पीने से इम्युनिटी में सुधार किया जा सकता है।

और पढ़ें : Chicken Pox in Hindi – चिकन पॉक्स (छोटी माता) के कारण, लक्षण और इलाज

Need Guidance in choosing right doctor?

REQUEST CALLBACK
Subscribe