coronavirus in Hindi, Muths and Facts about Coronavirus in Hindi

कोरोनावायरस से जुडी ये बातें, जानिए सच है या झूठ : Coronavirus Myths And Facts

कोरोनावायरस रोग (COVID-19) इतनी तेजी से सारे संसार में फैल चुका है कि इस पर काबू पाना अत्यन्त कठिन हो चुका है। अलग अलग देशों की सरकारें इस दिशा में भरसक प्रयास कर रह हैं और सभी देशों के डॉक्टर्स और वैज्ञानिक इसके इलाज की खोज में लगे हुए हैं। लोग डरे हुए है और जिस कारण इसके बारे में प्रसारित किसी भी जानकारी पर वे आँख मूँद कर विश्वास कर रहे हैं। ऐसे में यह जानना बहुत महत्वपूर्ण है कि कोरोना वायरस से जुडी कौन सी बात सच है और कौन सी नहीं।

आज हम आपको और आपके परिवार को स्वस्थ और सुरक्षित रखने में मदद करने के लिए जानकारी को स्पष्ट करने में मदद करेंगे। नीचे दी गयी समस्त जानकारी WHO यानि world Health organization द्वारा प्रसारित की गयी है और हमारे डॉक्टरों द्वारा सत्यापित की गयी है।

सबसे पहले हम आपको बताएंगे की आपके द्वारा सुनी गयी बातों में क्या सच है और क्या झूठ?

कोरोना वायरस से जुड़े सच और झूठ

1. COVID-19 को ठीक करने के लिए टीका उपलब्ध है: झूठ
सच: अभी तक कोरोनावायरस का कोई टीका उपलब्ध नहीं है। वैज्ञानिकों ने पहले से ही एक पर काम करना शुरू कर दिया है, लेकिन इसके लिए वैक्सीन बनाने में जो मानव में सुरक्षित और प्रभावी है, इसमें कई महीने लगेंगे।

2. आप ब्लीच के साथ गरारा करके, एसिटिक एसिड या स्टेरॉयड लेने या आवश्यक तेलों, नमक पानी, इथेनॉल या अन्य पदार्थों का उपयोग करके स्वयं को COVID -19 से बचा सकते हैं: झूठ

सच: इनमें से कोई भी अनुशंसा आपको COVID-19 से नहीं बचा सकती है, और इनमें से कुछ आपके लिए खतरनाक हो सकते हैं। कोरोनावायरस (और अन्य वायरस) से खुद को बचाने के सर्वोत्तम तरीकों में निम्न शामिल हैं:

  • साबुन और गर्म पानी का उपयोग करते हुए, अपने हाथों को बार-बार और अच्छी तरह से धोना।
  • बीमार, छींकने या खांसने वाले लोगों के साथ निकट संपर्क से
    बचें।
  • इसके अलावा, बीमार होने पर घर में रहकर अपने कीटाणुओं को फैलने से बचा सकते हैं।

3. कोरोनावायरस को जानबूझकर लोगों द्वारा फैलाया गया है: झूठ
सच: समय के साथ-साथ नये नये वायरस फ़ैल सकते हैं। कभी-कभी, एक बीमारी का प्रकोप तब होता है जब किसी जानवर जैसे कि सुअर, चमगादड़ या पक्षी से वायरस आम होता है और इंसानों में फ़ैल जाता है। इसी संभावना से कोरोनोवायरस का जन्म हुआ।

4. क्या चीन से आने वाले उत्पादों को ऑर्डर करना या खरीदना किसी व्यक्ति को बीमार कर सकता है: झूठ
सच: शोधकर्ता नए कोरोनावायरस के बारे में अधिक जानने के लिए अध्ययन कर रहे हैं जैसे कि यह लोगों को कैसे संक्रमित करता है। वैज्ञानिकों के अनुसार इस तरह के अधिकांश वायरस किसी प्रकार की सतहों पर बहुत लंबे समय तक जीवित नहीं रहते हैं, इसलिए यह संभावना नहीं है कि आपको एक पैकेज से COVID ​​-19 हो सकता है जो कि कई दिनों या हफ्तों पहले भेजा गया था। यह बीमारी संक्रमित व्यक्ति की छींक या खांसी से होने वाली बूंदों से सबसे अधिक फैलती है, इस सम्बन्ध में अधिक जानकारी डेली निकल कर आ रही है।

5. फेस मास्क आपको COVID-19 से बचा सकता है: झूठ
सच: कुछ प्रकार के मास्क (जैसे कि एन 95) और ऐसे ही कुछ मॉडल आपके डॉक्टर या नर्स के लिए सही होते हैं क्योंकि वे संक्रमित मरीजों की देखभाल करते हैं।
यदि आपको कोई सांस की बीमारी नहीं है तो आप हल्के डिस्पोजेबल सर्जिकल मास्क न पहने क्योंकि वे कसकर फिट नहीं होते हैं, और छोटे संक्रमित बूंदों को नाक, मुंह या आंखों में प्रवेश करने से रोक नहीं पाएंगे। इसके अलावा, जिन लोगों के हाथों में वायरस होता है, वे यदि मास्क के ऊपर से अपना चेहरा छूते हैं, तो वे संक्रमित हो सकते हैं।
सांस की बीमारी वाले लोग इन मास्क को पहन सकते हैं ताकि दूसरों को संक्रमित करने की संभावना कम हो सके।

 6. COVID-19 वायरस गर्म और वातावरण वाले क्षेत्रों में नहीं फैलता है : झूठ
सच: WHO के अनुसार अभी तक इस बात की कोई पुष्टि नहीं हुई है और अब तक के मामलों से भी पता चलता है कि, COVID-19 वायरस गर्म मौसम वाले या गरम वातावरण में भी फ़ैल सकता है। यदि आप कोरोना वायरस से स्वयं को बचाना चाहते हैं तो इसका सबसे अच्छा तरीका है अपने हाथों को बार-बार पानी और साबुन से अच्छी तरह से साफ करना। ऐसा करने से आप अपने हाथों पर लगे वायरस को खत्म कर सकते हैं और इसके संक्रमण से बच सकते हैं, इसके अलावा अपनी आंखों, मुंह और नाक को छूने से बचे।

7. गर्म पानी से स्नान करने से कोरोनावायरस से बचा जा सकता है: झूठ
सच: गर्म पानी से स्नान करने से आप COVID-19 को होने से नहीं रोक पाएंगे। आपके नहाने या शॉवर के तापमान को अगर नकार दिया जाये फिर भी आपके शरीर का सामान्य तापमान लगभग 36.5 ° C से 37 ° C तक रहता है। दरअसल, बेहद गर्म पानी से नहाना हानिकारक हो सकता है, क्योंकि यह आपको जला सकता है। COVID-19 से खुद को बचाने का सबसे अच्छा तरीका है अक्सर अपने हाथों की सफाई करना। ऐसा करने से आप अपने हाथों पर लगने वाले वायरस को खत्म कर सकते हैं और संक्रमण से बच सकते हैं।

8. हैंड ड्रायर कोरोनोवायरस को मारने में प्रभावी हैं: झूठ
सच: नहीं, 2019-nCoV को मारने में हैंड ड्रायर्स कारगर नहीं हैं। कोरोनावायरस के खिलाफ खुद को बचाने के लिए, आपको अक्सर अपने हाथों को अल्कोहल-युक्त सेनेटाइजर से साफ करना चाहिए या उन्हें साबुन और पानी (कम से कम 20 सेकण्ड तक साबुन हाथों में रखें) से धोना चाहिए। एक बार जब आपके हाथ साफ हो जाते हैं, तो आपको कागज़ के तौलिये या गर्म हवा के ड्रायर का उपयोग करके उन्हें अच्छी तरह से सुखाना चाहिए।

9. थर्मल स्कैनर का प्रयोग करके कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों का पता लगाया जा सकता है: झूठ
सच: थर्मल स्कैनर्स सम्भवतः केवल उन लोगों का पता लगाने में सक्षम हैं, जिन्हे कोरोनोवायरस के संक्रमण के कारण तेज़ बुखार है। हालांकि, यह उन लोगों का पता नहीं लगा सकते जो इससे संक्रमित हैं क्योंकि संक्रमित लोगों के बीमार होने और बुखार आने से पहले कम से कम 2 से 10 दिन लगते हैं। यही कारण है की बाहर से आने वाले लोगों को होम क्वारंटीन की सलाह दे जाती है।

10. शरीर पर अल्कोहोल या क्लोरीन का छिड़काव कोरोनावायरस को मार सकता है: झूठ
सच: नहीं, ऐसा नहीं है। आपके शरीर पर अल्कोहोल या क्लोरीन का छिड़काव करने से या अल्कोहोल का सेवन करने से आपके शरीर में पहले से मौजूद वायरस नहीं फैलेंगे। इस प्रकार का छिड़काव कपड़े या आपके आंख, मुंह इत्यादि के लिए हानिकारक सिद्ध हो सकता है।

11. क्या कोरोनोवायरस केवल बूढ़े लोगों को ही प्रभावित करता हैं: झूठ
सच: कोरोनोवायरस (2019-nCoV) से सभी उम्र के लोग संक्रमित हो सकते हैं। बूढ़े लोग, और पहले से मौजूद चिकित्सा स्थितियों (जैसे अस्थमा, मधुमेह, हृदय रोग) के लोग वायरस से गंभीर रूप से बीमार होने के लिए अधिक कमजोर दिखाई देते हैं।

डब्ल्यूएचओ सभी उम्र के लोगों को सलाह देता है कि वे खुद को वायरस से बचाने के लिए कदम उठाएं, उदाहरण के लिए अच्छे हाथ की स्वच्छता और अच्छे श्वसन स्वच्छता का पालन करके।

आइये जानते हैं कोरोना वायरस कौनसी सतह पर कितने समय तक जीवित रह सकता है?

एक नए विश्लेषण में पाया गया कि कोरोना वायरस हवा में 3 घंटे तक, तांबे पर 4 घंटे तक, कार्डबोर्ड पर 24 घंटे और प्लास्टिक और स्टेनलेस स्टील पर 72 घंटे तक बना रह सकता है। यह अध्ययन मूल रूप से 11 मार्च को प्रीप्रिंट डेटाबेस मेडरिक्स में प्रकाशित किया गया था, और अब द न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में 17 मार्च को एक संशोधित संस्करण प्रकाशित किया गया था।

सुरक्षित रहें सतर्क रहें!

कोरोना वायरस से जुडी अन्य जानकारी के लिए क्रेडीहेल्थ से जुड़े रहिये।

इसे भी पढ़ें: कोरोनावायरस होम क्वारंटाइन: जानिए कैसे करें इसकी तैयारी?

कोरोना वायरस के बारे में अधिक सलाह और जानकारी के लिए, हमारे चिकित्सा विशेषज्ञ से बात करें। क्रेडीहेल्थ द्वारा सही विशेषज्ञ चिकित्सक और क्लिनिक चुनने में सहायता प्राप्त करें, विभिन्न अस्पतालों से उपचार लागत की तुलना और समय पर चिकित्सा पायें

कॉल बेक का अनुरोध करें

[[[[“field6″,”contains”,”Other”]],[[“show_fields”,”field8″]],”and”]]
1
Step 1

Get FREE Medical Assistance

keyboard_arrow_leftPrevious

Nextkeyboard_arrow_right