ब्लॉग » स्वास्थ्य ब्लॉग » क्रेडी त्वचा क्लिनिक » स्केबीज (खाज) होने के लक्षण और इलाज – Scabies Meaning in Hindi

स्केबीज (खाज) होने के लक्षण और इलाज – Scabies Meaning in Hindi

Scabies meaning in hindi is खाज,जो त्वचा की ऐसी स्थितियों में से एक है जिनके कारण शरीर में खुजली और चकत्ते पड़ जाते हैं । यह एक प्रकार की त्वचा सम्बन्धी स्थिति है, जो कि सॉर्कोप्टस स्कैबी, एक आठ-पैर वाली सूक्ष्मदर्शी घुन के कारण होती है। यह एक प्रकार का संक्रामक रोग है जो करीबी और शारीरिक संपर्क के माध्यम से यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में बहुत आसानी से फैल सकता है।

इसके इस प्रकार से संक्रामक होने के कारण इसके घर, चाइल्ड केयर ग्रुप, स्कूल क्लास, नर्सिंग होम या जेल जैसी जगहों पर जल्दी फैलने की संभावना अधिक हो जाती है। यदि किसी व्यक्ति को खाज की शिकायत होती है, या किसी खाज वाले इंसान के संपर्क में आने पर उसी समय इलाज करना चाहिए। आइये जानते हैं Scabies in Hindi, Scabies symptoms in hindi और scabies treatment in hindi क्या हो सकते हैं-

खाज के कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

खाज के विषय में कुछ महत्वपूर्ण तथ्य इस प्रकार हैं-

  • हालाँकि स्कैबीज के घुन को खाने और जीवित रहने के लिए जीवित त्वचा की आवश्यकता होती है, फिरभी यह 48 से 72 घंटों तक त्वचा के बिना भी जीवित रह सकता है।
  • खाज के रोगियों को होने वाली खुजली और लाल चकते, खाज के माइट्स के अंडे और उनके अपशिष्ट के प्रति एलर्जी की प्रतिक्रिया का परिणाम होती है।
  • एक खाज से इन्फेक्टेड व्यक्ति में औसतन 15 से 20 घुन/माइट्स उपस्थित होते हैं।
  • गंभीर और लगातार खुजली खाज या स्कैबीज का प्रमुख लक्षण होता है
  • यौन संपर्क सेक्सुअली एक्टिव लोगों में स्कैबीज के संक्रमण का सबसे आम कारण है, इसलिए भी खाज को यौन संचारित रोग (STD) कहा जाता है, हालांकि STD के सभी मामलों में स्केबीज कारण नहीं होता है।

scabies meaning in hindi, scabies symptoms in hindi, scabies in hindi, scabies treatment in hindi

Scabies Meaning in Hindi – स्केबीज का मतलब हिंदी में

खाज एक प्रकार का और अत्यधिक संक्रामक त्वचा रोग है, जो एक विशेष प्रकार के कीट, माइट (सरकोपिट्स स्कैबी) के कारण होता है। माइट्स एक प्रकार के छोटे आठ पैर वाले परजीवी होते हैं जिनकी लम्बाई 1/3 मिलीमीटर होती है।स्कैबीज के कारण मनुष्य की त्वचा में खुजली, जलन और लाल चकत्ते पड़ जाते हैं जो अधिकतर रात के समय में और भी बदतर होने लगते हैं।

मादा माइट्स के द्वारा मनुष्यों में संक्रमण फैलता है जिसकी लम्बाई 0.3 मिमी-0.4 मिमी होती है; जबकि नर माइट्स इसके आकार के लगभग आधे होते हैं। खाज की यह समस्या किसी भी वर्ग, जाति, आयु व आर्थिक स्थिति के लोगों को प्रभावित कर सकती है। हर साल स्कैबीज की यह समस्या लाखों लोगों को प्रभावित करती है।

यह इतना अधिक संक्रामक होता है, कि आसानी से घनिष्ठ शारीरिक संपर्क के माध्यम से फैल जाता है जैसे कि यदि संक्रमित व्यक्ति के बिस्तर, कपड़े, और फर्नीचर को छूने या साझा करने मात्र से ही यह फ़ैल जाता है। स्केबीज की समस्या से संसार में करीबन 300 मिलियन से अधिक मनुष्यों को संक्रमित होते हैं। यह बीमारी सार्वजानिक स्थानों पर जाने से सबसे अधिक मात्रा में फैलती है।

स्कैबीज वैसे तो त्वचा के किसी भी हिस्से में फ़ैल सकता है परन्तु कुछ विशिष्ट स्थानों पर इसके लक्षण अत्यधिक और स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ते हैं जो इस प्रकार हैं – नाखूनों में, हाथों में, वस्त्रों से ढके रहने वाले स्थानों पर इत्यादि। आइये जानते हैं स्कैबीज को कैसे पहचाने और इसके लक्षण क्या हो सकते हैं –

स्केबीज के लक्षण – Scabies Symptoms in Hindi

स्केबीज या खाज के लक्षणों की शुरुआत इस बात पर निर्भर करती है कि कोई व्यक्ति पहले भी कभी माइट्स के संपर्क में आया है नहीं। पहली बार जब कोई व्यक्ति खाज के माइट्स के संपर्क में आता है तो, तो लक्षणों को विकसित होने में करीबन 2 से 6 सप्ताह तक का समय लग सकता है।

खुजली के लक्षणों में निम्न शामिल हैं:

  • खुजली: यह लक्षण अधिकतर रात में बदतर, गंभीर और तीव्र हो सकता है। खुजली खाज के सबसे आम लक्षणों में से एक है।
  • चकत्ते: जब माइट त्वचा में घुस जाते हैं, तो ये त्वचा में रेखाएँ बना देते है, जो त्वचा की ऊपरी परतों में सबसे अधिक पाए जाते हैं, और पित्ती, किसी के काटने, गांठें, फुंसी या पपड़ीदार त्वचा के रूप में दिखाई देते हैं। इसके आलावा इसमें छाले भी हो सकते हैं।
  • घावों: माइट्स के त्वचा में घुस जाने के बाद, व्यक्ति की त्वचा में संक्रमित क्षेत्रों में घाव हो जाते हैं। आमतौर पर स्टैफिलोकोकस ऑरियस के साथ किसी अन्य संक्रमण के कारण भी घाव हो सकते हैं।
  • मोटी परतें: क्रस्टेड स्कैबीज़, जिन्हें नॉर्वेजियन स्कैबीज़ के रूप में भी जाना जाता है, गंभीर खाज का एक रूप होता है, जिसमें त्वचा की परत के भीतर सैकड़ों से हजारों माइट्स और मैट्स के अंडे होते हैं, यह एक गंभीर लक्षण होता है।

scabies meaning in hindi, scabies symptoms in hindi, scabies in hindi, scabies treatment in hindi

ज्यादातर लोग जो, क्रेस्टेड स्केबीज से प्रभावित होते हैं, उनकी त्वचा पर भूरे, मोटे, और फटे हुए क्रस्ट्स दिखाई दने लगते हैं। अलग हुए और फटे हुए क्रस्ट्स में रहने वाले माइट्स एक सप्ताह से ज्यादा तक मानव संपर्क की आवश्यकता के बिना रह सकते हैं।

वयस्कों और बड़े बच्चों में संक्रमण निम्न अंगों पर दिखाई देता है:

  • उंगलियों के बीच में
  • नाखूनों के आसपास
  • बगल
  • कमर
  • कलाई के अंदरूनी हिस्से
  • कोहनी के भीतरी भाग में
  • पांवों के तलवे में
  • स्तन, विशेष रूप से निपल्स के आसपास के क्षेत्र
  • पुरुष जननांग
  • नितंबों
  • घुटने
  • कन्धों के शिरों पर

वहीं शिशुओं और छोटे बच्चों के शरीर में खाज का संक्रमण निम्न स्थानों पर दिखाई दते हैं:

  • खोपड़ी
  • चेहरा
  • गर्दन
  • हाथों की हथेलियाँ
  • पांवों के तलवे

कभी-कभी, यह बच्चे के शरीर के अधिकांश हिस्से में फ़ैल जाता है। खुजली से पीड़ित शिशुओं में चिड़चिड़ापन और सोने और खाने में कठिनाई के लक्षण विशेष रूप से दिखाई देते हैं।

स्केबीज के फैलने के कारण

स्केबीज, सार्कोपिट्स स्कैबी माइट के द्वारा होने वाला एक संक्रमण है, जिसे मानव खुजली माइट के रूप में भी जाना जाता है। एक बार त्वचा में घुसने के बाद मादा माइट अपने द्वारा बनाई गयी सुरंग में अपने अंडे को रख देती है। एक बार अण्डे से निकलने के बाद माइट्स का लार्वा त्वचा की सतह पर चला जाता है और और शरीर के अन्य हिस्सों में फ़ैल जाता है साथ ही यह रोगी संपर्क के माध्यम से दूसरे व्यक्ति के पूरे शरीर में या किसी अन्य होस्ट में भी फैल जाता है।

यह न केवल मनुष्यों को अपितु कुत्ते और बिल्ली जैसे जानवरों को भी प्रभावित करता है। हालांकि, प्रत्येक प्रजाति माइट्स की एक अलग प्रजाति को होस्ट करती है, और जबकि मनुष्य गैर-मानव पशु माइट्स के साथ संपर्क करने के लिए एक हल्के, क्षणिक त्वचा की प्रतिक्रिया का अनुभव कर सकते हैं।

स्केबीज अत्यधिक संक्रामक रोग है जो सीधे त्वचा से त्वचा के संपर्क के माध्यम से, संक्रमित व्यक्ति का तौलिया इस्तेमाल करने से, बिस्तर, या फर्नीचर के इस्तेमाल से फ़ैल सकता है। माइट्स से इन्फेक्टेड होने वाले लोगों में शामिल हैं:

  • डे केयर या स्कूल जाने वाले बच्चे
  • छोटे बच्चों के माता-पिता
  • यौन रूप से सक्रिय युवा वयस्क और कई यौन साझेदारों वाले लोग
  • कम देखभाल सुविधाओं के निवासी
  • बूढ़े वयस्कों
  • वे लोग जो इम्युनोकॉम्प्रोमाइज्ड होते हैं, जैसे एचआईवी/ एड्स, ट्रांसप्लांट प्राप्तकर्ता, और अन्य इम्युनोसप्रेसेन्टिव दवायें लेने वाले लोग

इसके बारे में भी पढ़ें: HIV AIDS Kaise Hota Hai in Hindi

स्केबीज के निवारण

खाज के माइट्स के पुन: संक्रमण और प्रसार को रोकने के लिए, आप निम्नलिखित कदम उठा सकते हैं:

  • सभी कपड़े, तौलिए, लिनेन इत्यादि को ड्राई क्लीन या धोते समय गर्म साबुन के पानी का इस्तेमाल करें और तेज धुप में सुखाएं।
  • ऐसी वस्तुएं जिनको धोया नहीं जा सकता उन्हें एक प्लास्टिक के बेग में अलग बांध कर रखें उन वस्तुओं को रखें।
  • दिन के समय पर पूरे घर को वैक्यूम क्लीनर से साफ़ करें, साथ ही कालीन, आसनों, असबाब आदि भी वैक्यूम क्लीनर से साफ़ करें और कचरे को बैग में बंद करके फेंक दें। वैक्यूम क्लीनर के कनस्तर को अच्छी तरह से साफ करें।
  • यदि आपको ऐसा लगता है कि आपको भी खाज हो सकता है, या खाज का जोखिम हो सकता है, तो खाज का अनुबंध करने के लिए, तुरंत किसी अच्छे डर्मेटोलॉजिस्ट से बात करें।

स्केबीज के परीक्षण और निदान

  • स्कैबीज़ को कभी-कभी डर्मेटाइटिस या एक्जिमा समझ लिया जाता है क्योंकि ये भी त्वचा के रोगों की श्रेणी में आती हैं और त्वचा में खुजली होना और लाल चकत्ते पड़ जाना इनके मुख्य लक्षण होते है ।
  • इस प्रकार के त्वचा सम्बन्धी रोगों के लिए अपने चिकित्सक के पास जाना चाहिए क्योंकि किसी भी प्रकार की ओटीसी दवाइयां इससे सम्पूर्ण राहत नहीं पहुंचा सकती।
  • स्केबीज की जांच के लिये आपका डॉक्टर त्वचा की जांच करके या माइक्रोस्कोप (सूक्ष्म परीक्षा माइट्स या उनके अंडे की उपस्थिति निर्धारित कर सकती है) की सहयता से त्वचा के स्क्रैपिंग (स्किन स्क्रेपिंग टेस्ट्स) को देखकर खुजली का निदान कर सकता है।
  • स्केबीज माइट्स की आनुवंशिक जानकारी के लिये पॉलीमरेज़ चेन रिएक्शन (PCR) परीक्षण किया जाता है। हालांकि आमतौर पर इस परीक्षण का उपयोग नहीं किया जाता है।
  • स्किन बायोप्सी के द्वारा भी माइट्स की पहचान की जा सकती है जो कि त्वचा रोग के अन्य कारणों के होने पर किया जाता है।

स्केबीज के लिए उपचार विकल्प

स्केबीज के उपचार में सबसे महत्वपूर्ण होता है दवाओं की सहायता से इसके संक्रमण को समाप्त करना। आपके डॉक्टर के द्वारा निर्धारित क्रीम और लोशन की सहयता से आप इससे होने वाली खुजली को कम कर सकते हैं।

आपका डॉक्टर दवा को अपने शरीर पर गर्दन के नीचे लगाने के लिए सलाह देगा, इस दवा को कम से कम 8 से 10 घंटे तक छोड़ दें। कुछ उपचारों में पुनरावर्ती की आवश्यकता होती है। यदि कोई नई बूर और दाने व चकत्ते दिखाई देते हैं, तो उस उपचार को दोहराया जाना चाहिए।

क्योंकि खाज बहुत ही आसानी से फैलता है, इसलिए आपके डॉक्टर आपके घर के सभी सदस्यों और अन्य करीबी सदस्यों के लिए उपचार की सिफारिश कर सकते हैं, भले ही उनमे स्केबीज के संक्रमण के कोई संकेत हों या न हों।

आमतौर पर स्केबीज के लिए निर्धारित दवाएं निम्नलिखित हैं:

पर्मेथ्रिन क्रीम (एलिमाइट): पर्मेथ्रिन एक सामयिक क्रीम है जिसमें ऐसे केमिकल्स होते हैं जो माइट्स और उनके अंडों को मारते हैं। यह आमतौर पर वयस्कों, गर्भवती महिलाओं और 2 महीने और उससे अधिक उम्र के बच्चों के लिए सुरक्षित माना जाता है।

लिंडेन लोशन: यह दवा एक प्रकार का रासायनिक उपचार भी है – जो केवल उन लोगों के लिए अनुशंसित है जो अन्य अनुमोदित उपचारों को बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं या जिनके लिए अन्य उपचार काम नहीं करते हैं। यह दवा 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों, गर्भवती महिलाएं, या कोई भी जिसका वजन 110 पाउंड (50 किलोग्राम) से कम है, के लिए सुरक्षित नहीं होती।

क्रोटामिटॉन (यूरैक्स): यह दवा क्रीम और लोशन दोनों के रूप में उपलब्ध होती है। इसे 2 दिन में एक बार दिन के समय में लगाया जाता है। इस दवा का प्रयोग बच्चों, वयस्कों, 65 वर्ष और उससे अधिक, गर्भवती महिलाओं के लिए निषेध होता है। क्रोटामाइटन के द्वारा किये गए उपचार अधिकतर असफल ही रहते हैं।

हालाँकि ये दवाएँ माइट्स को तुरंत मार देती हैं, परन्तु स्केबीज से होने वाली खुजली कई हफ्तों तक पूरी तरह से नहीं रुकती है।

खाज के इलाज के लिए किस डॉक्टर को दिखाएँ

स्केबीज या खाज का उपचार कई अलग-अलग प्रकार के स्वास्थ्य डॉक्टर्स द्वारा किया जा सकता है। इस स्थिति का उपचार आमतौर पर प्राइमरी केयर डॉक्टरों द्वारा किया जाता है, जिसमें बाल रोग विशेषज्ञ (पीडियाट्रिशन), आंतरिक-चिकित्सा विशेषज्ञ (इंटरनल मेडिसिन डॉक्टर) और परिवार के चिकित्सक शामिल होते हैं। यदि आपको त्वचा के कुछ लक्षण जैसे लाल चकत्ते, खुजली इत्यादि दिखाई देते हैं तो ऐसे में त्वचा रोग विशेषज्ञ (डर्मेटोलॉजिस्ट) या बाल त्वचा रोग विशेषज्ञ (पीडियाट्रिशन डर्मेटोलॉजिस्ट) से इलाज करा सकते हैं। यदि रोगी की हालत अत्यधिक गंभीर हो तब ऐसे हालात में सबसे पहले आपातकालीन-चिकित्सा चिकित्सक द्वारा इलाज कराया जा सकता है।

हालाँकि इन इलाजों की सहायता से आपकी स्केबीज कुछ समय में समाप्त हो जाएगी परन्तु यह रात भर में ठीक नहीं होगी और आप काफी समय तक खुजली का अनुभव कर सकते हैं। आपके उपचार के दौरान स्वस्थ आदतों को अपनाने से आपको परिणाम तेजी से देखने में मदद मिल सकती है। यदि हो सके तो थोड़ा ज्यादा आराम करें, व्यायाम करें और जितना हो सके स्वास्थ्यवर्धक भोजन करें क्योंकि ये सभी कारक आपको जल्दी ठीक होने में मदद करेंगे।

इसके बारे में भी पढ़ें: Fungal Infection in Hindi – फंगल इन्फेक्शन क्या है? उसके कारण और उपाय

इस तथ्य से सावधान रहें कि स्केबीज (Scabies meaning in hindi) एक संक्रामक रोग है तो यह सुनिश्चित करने के लिए उपाय करें कि आप दूसरों को संक्रमित न करें। प्रत्येक दिन बेहतर होने पर ध्यान दें और अपना हर संभव ध्यान रखें।

स्केबीज/खाज या त्वचा सम्बन्धी किसी भी समस्या के लिए आज ही अपने नजदीकी डर्मेटोलॉजिस्ट को दिखाएँ या आज ही इंडिया के बेस्ट डर्मेटोलॉजिस्ट डॉक्टर के साथ अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए यहाँ क्लिक करें-

अपॉइंटमेंट बुक करें

Need Guidance in choosing right doctor?

REQUEST CALLBACK