ब्लॉग » स्वास्थ्य ब्लॉग » मस्तिष्क स्वास्थ्य » Seizure Meaning in Hindi – सिजुरे का मतलब हिंदी में

Seizure Meaning in Hindi – सिजुरे का मतलब हिंदी में

यदि आपके सिर में कभी कोई गम्भीर चोट लगी है तो आपको ऐसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है जिसमे आपको आपके मस्तिष्क में अकस्मात विद्युत गतिविधि में बदलाव का अनुभव होगा। इनके कारण आप अपने मस्तिष्क की प्रवृतियों में कुछ अनियंत्रित परिवर्तन महसूस कर सकते हैं, इस प्रकार के अकस्मात परिवर्तन को दौरे (Seizure in Hindi) पड़ना कहा जाता है। आइये जानते हैं seizure Meaning in Hindi और किस प्रकार शुरू होते हैं? उससे पहले आइये नजर डालते हैं सिजुरे से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों पर

सिजुरे से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

  • यह एक बीमारी नहीं है अपितु एक लक्षण होता है।
  • एपिलेप्सी और सिजुरे दोनों अलग अलग मस्तिष्क से जुडी समस्याएं हैं।
  • सिजुरे/दौरे शुरू होने से ठीक पहले कई लोगों में असामान्य उत्तेजना होती है।
  • कम से कम 10 % लोगों के जीवन में किसी न किसी समय दौरा अवश्य पड़ा होता है, जबकि 26 लोगों में से 1 को मिर्गी का विकास हो सकता है।
  • यदि आपको दौरे पड़ते हैं इसका मतलब यह नहीं है कि आपको मिर्गी भी हो सकता है।
  • यदि आवश्यक हो, तो दवाएं आमतौर पर दौरे को रोकने में मदद कर सकती हैं।
  • जरूरी नहीं कि आप आजीवन दौरे की समस्या से पीड़ित रहें।

Seizure Meaning in Hindi – सिजुरे/दौरे क्या होते हैं?

दौरे मस्तिष्क में अचानक और अनियंत्रित होने वाली विद्युत गड़बड़ी के कारण होते है। यह रोगी के व्यवहार, गति, भावनाओं और चेतना के स्तरों में परिवर्तन का कारण बन सकता है। यदि रोगी को दो या अधिक बार दौरे पड़ने की शिकायत होती है या बार बार दौरे पड़ रहे हैं, यह मिर्गी के दौरे हो सकते हैं। ऐसी स्थिति में तुरंत डॉक्टर को दिखाएँ।

जितना आपको लगता है, दौरे उससे भी कहीं ज्यादा आम समस्या होती है। दौरे किसी स्ट्रोक, सिर की अंदरूनी चोट, किसी संक्रमण जैसे मेनिन्जाइटिस या किसी अन्य बीमारी के बाद हो सकते हैं। हालांकि, कभी कभी दौरों के पड़ने का कारण अज्ञात भी हो सकता है। ज्यादातर दौरे 30 सेकंड से दो मिनट तक रहते हैं। यदि किसी रोगी को पांच मिनट से अधिक समय तक दौरे पड़ते हैं तो यह एक आपातकाल चिकित्सा का विषय है।

आइये जानते हैं सिजुरे कितने प्रकार के होते हैं और सिजुरे डिसऑर्डर क्या होता है?

सिजुरे कितने प्रकार के होते हैं?

दौरे कई प्रकार के होते हैं, जो काफी हद तक गंभीर हो सकते हैं। इसके भिन्न प्रकार पूरी तरह इस बात पर निर्भर करते हैं कि ये मस्तिष्क में कहां और कैसे शुरू हुए हैं। जितना आप सोच सकते हैं ये उससे कहीं अधिक आम समस्या होती है।

डॉक्टर आमतौर उनके मस्तिष्क में उत्त्पन्न होने की जगह और कारण के आधार पर दौरे को या तो फोकल या सामान्यीकृत, इन दो रूप में वर्गीकृत करते हैं। यदि दौरे उत्त्पन्न होने का कारण अज्ञात हो तब इन्हे शुरुआत के रूप में भी वर्गीकृत किया जा सकता है।

फोकल सिजुरे

फोकल दौरे मस्तिष्क के एक क्षेत्र में असामान्य विद्युत गतिविधि से उत्पन्न होते हैं। इस प्रकार के दौरों की ख़ास बात यह होती है कि इसमें रोगी अपनी चेतना खो भी सकता है और नहीं भी।

आइये इन दोनों प्रकारों के बारे जानकारी लेते हैं –

1. चेतना की हानि के साथ फोकल सिजुरे: इस प्रकार के दौरों में चेतना या जागरूकता का परिवर्तन या हानि शामिल होती है। इस प्रकार के दौरे पड़ने पर आप निम्न लक्षण देख सकते हैं- एकटक किसी वस्तु की और देखना, सामन्य व्यव्हार न करना या आप बार बार हाथ रगड़ना, चबाना, निगलने या धीरे धीरे चलना इन सभी को दोहरा सकते हैं।

2. चेतना की हानि के बिना फोकल सिजुरे: इस प्रकार के दौरे मुख्य रूप से रोगी की भावनाओं को परिवर्तित करने के लिए जाने जाते हैं, ये वस्तुओं को देखने, सूंघने, महसूस करने, स्वाद या ध्वनि को बदलने का तरीका बदल सकते हैं, लेकिन आप चेतना नहीं खोते हैं। इस प्रकार के सिजुरे के परिणामस्वरूप शरीर के किसी हिस्से की अनैच्छिक मरोड़ हो सकती है, जैसे कि हाथ या पैर, और सहज संवेदी लक्षण जैसे झुनझुनी, चक्कर और चमकती रोशनी।

फोकल बरामदगी के लक्षण अन्य न्यूरोलॉजिकल विकारों के साथ भ्रमित हो सकते हैं, जैसे कि माइग्रेन, नार्कोलेप्सी या किसी प्रकार की मानसिक बीमारी।

सामान्यीकृत सिजुरे

मस्तिष्क के सभी क्षेत्रों को शामिल करने वाले दौरे को सामान्यीकृत सिजुरे कहा जाता है। विभिन्न प्रकार के सामान्यीकृत सिजुरे में शामिल हैं:

  1. अनुपस्थित सिजुरे: अनुपस्थित सिजुरे या एब्सेंस सिजुरे, को पहले पेटिट माल सिजुरे के रूप में जाना जाता था, जो अक्सर बच्चों में होते है। इसके मुख्य लक्षणों में किसी वस्तु को एकटक देखना, शरीर की सूक्ष्म हरकतें जैसे आँख झपकना, चटकारे लेना इत्यादि में परेशानी होना शामिल हैं। इस प्रकार के दौरे क्लस्टर्स में हो सकते हैं जो जागरूकता में नुक्सान का कारण बन सकते हैं।
  2. टॉनिक सिजुरे: टॉनिक दौरे आपकी मांसपेशियों की अकड़न का कारण बन सकते हैं। ये दौरे आम तौर पर आपकी पीठ, हाथ और पैरों की मांसपेशियों को प्रभावित करते हैं जिसके कारण आप जमीन पर गिर सकते हैं।
  3. एटोनिक सिजुरे: एटोनिक सिजुरे, जिसे ड्रॉप सिजुरे के नाम से भी जाना जाता है, मांसपेशियों के नियंत्रण के नुकसान का कारण बन सकते हैं, जो आपको अचानक गिरने या नीचे गिरने का कारण बन सकता है।
  4. क्लोनिक सिजुरे: क्लोनिक सिजुरे बार बार और लयबद्ध होने वाले मांसपेशी संचार के साथ जुड़े हुए होते हैं। ये दौरे आमतौर पर गर्दन, चेहरे और बाहों को प्रभावित करते हैं।
  5. मायोक्लोनिक दौरे: मायोक्लोनिक दौरे आमतौर पर आपके हाथों और पैरों के अचानक संक्षिप्त झटके या चिकोटी के रूप में दिखाई देते हैं।
  6. टॉनिक-क्लोनिक दौरे: टॉनिक-क्लोनिक सिजुरे, जिसे पहले ग्रैंड माल सिजुरे के नाम में जाना जाता था, एक प्रकार के मिरगी के दौरे होते हैं और यह चेतना के अचानक नुकसान, शरीर में अकड़न और झटकों का कारण बन सकता है, और कभी-कभी मूत्राशय के नुकसान या आपकी जीभ को काट सकता है।

सिजुरे डिसऑर्डर क्या होता है – What Is Seizure Disorder In Hindi

मस्तिष्क के विद्युत संकेतों में बदलाव को दौरे कहा जाता है। सिजुरे (सीज़र/सीशॅज़अ) डिसऑर्डर वह समस्या होती है जिसके कारण किसी व्यक्ति को दौरे पड़ते हैं। मनुष्य का मस्तिष्क नर्व सेल्स या तंत्रिका कोशिकाओं से बना होता है और नर्व सेल्स इन विद्युत संकेतों के माध्यम से एक दूसरे से बात करती हैं। यदि बहुत सारी नर्व सेल्स एक साथ बहुत सारे संकेत भेजती हैं, तब उस स्थिति में दौरे पड़ते हैं।

दौरे पड़ने के दौरान, एक व्यक्ति के साथ निम्न समस्याएं हो सकती हैं:

  • नीचे गिरने ​​और शरीर का जोर से हिलना
  • बेहोश या भ्रमित हो जाना

आमतौर पर कुछ मिनटों के बाद, तंत्रिका कोशिकाएं सामान्य रूप से व्यवहार करना शुरू कर देती हैं और व्यक्ति वापस सामान्य हो जाता है।

आमतौर पर सिजुरे डिसऑर्डर्स को दवा से नियंत्रित किया जा सकता है, लेकिन दौरे के कारण आपके दैनिक जीवन पर प्रभाव पड़ सकता है। अच्छी खबर यह है कि आप अपने डॉक्टर के साथ मिलकर दौरों के नियंत्रण और दवा के दुष्प्रभावों को संतुलित करने के लिए काम कर सकते हैं।

दौरे पड़ने के कारण

मनुष्य के मस्तिष्क में तंत्रिका कोशिकायें (न्यूरॉन्स) विद्युत आवेगों को बनाते, एक दूसरे को भेजते और एक दूसरे से प्राप्त करते हैं, यह पूरी प्रक्रिया मस्तिष्क की तंत्रिका कोशिकाओं को संवाद करने की अनुमति देती है। यदि किसी कारणवश यह संचार बाधित होता है तब उस स्थिति में दौरे आते हैं और यह समस्या उसका कारण बन जाती है।

यदि दौरों के मुख्य कारण की बात की जाये तो यह मिर्गी होता है। लेकिन यह जरुरी नहीं है कि प्रत्येक दौरे का कारण अपस्मार या मिर्गी ही हो। कभी-कभी दौरे पड़ने के लिए निम्न कारक भी उत्तरदायी हो सकते हैं:

  • तेज बुखार, जैसे कि मेनिन्जाइटिस से होने वाला संक्रमण
  • नींद की कमी
  • निम्न रक्त सोडियम (हाइपोनेट्रेमिया), जो मूत्रवर्धक चिकित्सा के साथ हो सकता है
  • दवाएँ, जैसे कि कुछ दर्द निवारक, एंटी डिप्रेसेंट या धूम्रपान बंद करने वाली थेरेपी
  • सिर का आघात जो मस्तिष्क में रक्तस्राव के एक क्षेत्र का कारण बनता है
  • स्ट्रोक
  • मस्तिष्क का ट्यूमर (ब्रेन ट्यूमर)
  • एम्फ़ैटेमिन या कोकीन जैसे अवैध या मनोरंजक दवाएं
  • शराब का दुरुपयोग, निकासी या चरम नशा के समय के दौरान
  • दिमाग में चोट या रसोली के कारण
  • गुर्दे या जिगर के काम न करने के कारण
  • अल्ज़ाइमर के कारण
  • जन्म के दौरान रक्त की कमी या जन्म के समय किसी बीमारी के उपस्थित होने से

दौरे पड़ने के लक्षण क्या होते हैं?

दौरे के लक्षण बहुत हल्के से गंभीर तक हो सकते हैं जो बहुत बार दौरे पड़ने के प्रकार भी निर्भर करते हैं। दौरे या सिजुरे के संकेत और लक्षण शामिल हैं:

  • अस्थायी भ्रम (कन्फ्यूजन)
  • डेड्रीमिंग (दिन में स्वप्न देखना)
  • हाथ और पैर में अनियंत्रित अकड़न और मरोड़ प्रवाह
  • चेतना या जागरूकता का नुकसान (बेहोश होना)
  • संज्ञानात्मक या भावनात्मक लक्षण, जैसे डर, चिंता या डेजा वु (किसी घटना का ऐसे प्रतीत होना जैसे यह पहले घट चुकी हो)
  • शरीर में जकड़न आना और झटके लगना
  • किसी जगह या वस्तु को एकटक देखते रहना
  • सांस लेने में तकलीफ होना
  • लार टपकना

और पढ़िए : Epilepsy Meaning in Hindi – मिर्गी के दौरे के कारण, लक्षण और इलाज

दौरे पड़ने पर क्या करें

यदि आपके किसी सेज सम्बन्धी को दौरे पड़ते हैं या किसी व्यक्ति को आपके सामने दौरा पड़े तो उसके लिए आप निम्न सम्भव उपाय कर सकते हैं-

  • घबराएं नहीं – अधिकांश दौरे एक या दो मिनट में अपने आप रुक जाते हैं
  • व्यक्ति को उन चीजों से दूर रखें जो चोट का कारण बन सकती हैं (जैसे कि सीढ़ियाँ या नुकीली वस्तुएं)
  • व्यक्ति के गले के आस पास यदि तंग कपड़े हैं तो उन्हें खोल दें
  • व्यक्ति को एक तरफ करवट करा दे
  • व्यक्ति के सिर के नीचे तकिया रखें
  • दौरे के समाप्त होने तक व्यक्ति के साथ रहें
  • जितना जल्दी हो सके डॉक्टर को बुलायें

दौरे पड़ने पर लोगों द्वारा कही सुनी बातों पर भरोसा न करे और तुरंत ही डॉक्टर को दिखाएँ, साथ ही इन बातों का भी ध्यान रखें:

  • व्यक्ति के मुंह में चम्मच या कुछ और न रखें
  • व्यक्ति की जीभ को पकड़ने की कोशिश न करें

दौरों का निदान

दौरे पड़ने के तुरंत बाद डॉक्टर को दिखाएँ, डॉक्टर आपके लक्षणों और चिकित्सा इतिहास की पूरी तरह से समीक्षा करेगा। आपका डॉक्टर आपके दौरे का कारण निर्धारित करने के लिए कई टेस्ट करने के लिए भी कह सकता है और इसका मूल्यांकन कर सकता है कि आपको फिर से दौरे आने की कितनी संभावना है।

टेस्ट में शामिल हो सकते हैं:

  1. न्यूरोलॉजिकल टेस्ट्स: मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र में कोई समस्या है तो नहीं यह निर्धारित करने के लिए आपका डॉक्टर आपके व्यवहार, मोटर क्षमताओं और मानसिक कार्य का परीक्षण करने के लिए न्यूरोलॉजिकल टेस्ट कर सकता है।
  2. रक्त परीक्षण: आपका डॉक्टर संक्रमण, आनुवांशिक स्थितियों, ब्लड शुगर लेवल या इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन के संकेतों की जांच के लिए आपके ब्लड का एक नमूना ले सकता है।
  3. लंबर पंक्चर: यदि आपके डॉक्टर को यह लगता है कि आपके दौरे का कारण किसी प्रकार का संक्रमण है तो वह टेस्ट के लिए मस्तिष्कमेरु द्रव का एक नमूना निकालने की आवश्यकता हो सकती है।
  4. इलेक्ट्रोएन्सेफलोग्राम (ईईजी): इस परीक्षण में, डॉक्टर एक पेस्ट जैसे पदार्थ के साथ आपकी खोपड़ी में इलेक्ट्रोड संलग्न करते हैं। इलेक्ट्रोड आपके मस्तिष्क की विद्युत गतिविधि को रिकॉर्ड करते हैं, जो ईईजी रिकॉर्डिंग पर लहराती रेखाओं के रूप में दिखाई देता है। ईईजी के द्वारा एक पैटर्न दिखाया जा सकता है जो डॉक्टरों को बताता है कि क्या दौरा फिर से होने की संभावना है। ईईजी परीक्षण के द्वारा डॉक्टर यह भी समझने में सक्षम हो जाता है कि यह दौरा एपिलेप्सी के कारण है या नहीं।
  5. कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी स्कैन): सीटी स्कैन आपके मस्तिष्क की क्रॉस-अनुभागीय छवियों को प्राप्त करने के लिए एक्स-रे का उपयोग करता है। सीटी स्कैन मस्तिष्क में असामान्यताओं (जैसे कि ट्यूमर, रक्तस्राव और अल्सर)को प्रकट कर सकता है जो दौरों का कारण हो सकता है।
  6. मेग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग (MRI): एमआरआई स्कैन आपके मस्तिष्क का विस्तृत दृश्य बनाने के लिए शक्तिशाली मैग्नेट और रेडियो तरंगों का उपयोग करता है। इसके द्वारा आपका डॉक्टर आपके मस्तिष्क में घावों या असामान्यताओं का पता लगाने में सक्षम हो सकता है जिससे दौरे पड़ सकते हैं।
  7. पोजीट्रान एमिशन टोमोग्राफी (पीईटी): पीईटी स्कैन बहुत ही कम मात्रा में रेडियोधर्मी सामग्री का उपयोग करता है जिसे मस्तिष्क के सक्रिय क्षेत्रों की कल्पना करने और असामान्यताओं का पता लगाने में मदद करने के लिए एक नस में इंजेक्ट किया जाता है।

दौरों का इलाज

दौरों का इलाज काफी हद तक इसके होने के कारणों पर निर्भर करता है, आइये जानते हैं भिन्न प्रकार के दौरों का इलाज किस प्रकार करें-

  • यदि किसी व्यक्ति को दौरा पहली बार आया है तो उसे डॉक्टर के पास ले जाएँ, डॉक्टर भिन्न प्रकार के टेस्ट्स जैसे ब्लड टेस्ट, सीटी स्केन, मेग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग (MRI), इलेक्ट्रोएन्सेफलोग्राम (ईईजी) इत्यादि और लक्षणों की पहचान करेगा। केवल एक बार दौरे आने से डॉक्टर उसका इलाज नहीं कर सकता इसके लिए कम से कम 2 या अधिक दौरों की आवश्यकता होगी।
  • यदि दौरे आने का कारण किसी प्रकार का संक्रमण है तो उसका इलाज उस संक्रमण को समाप्त करके किया जा सकता है।
  • यदि दौरे मिर्गी के कारण आ रहे हैं तो रोगी की दवाओं में परिवर्तन की आवश्यकता है।

वैसे ज्यादातर दौरे दवाइयों की सहायता से दूर हो जाते हैं, परन्तु यदि दवाओं का रोगी पर कोई असर नहीं हो रहा है तो डॉक्टर सर्जरी की सलाह दे सकता है। दौरों के इलाज में सबसे इष्टतम लक्ष्य दौरों को रोकने के लिए सबसे अच्छा संभव इलाज ढूंढना है, जिसके सबसे कम साइड इफेक्ट हों। आइये जानते है दौरों के लिए और क्या संभव इलाज हो सकते हैं –

दवाइयों की सहायता से

दौरों के इलाज के लिए अक्सर एंटी-सिजुरे दवाओं का उपयोग किया जाता है। एंटी-सिजुरे दवाओं के लिए बहुत सारे विकल्प उपलब्ध हैं। यदि आप दवाओं की सहायता से दौरों का इलाज करना चाहते हैं तो आवश्यक है कि आप और आपका डॉक्टर उस दवा की खोज करे जो आपके दौरों को सही ढंग से सही करेगी और जिसका दुष्प्रभाव सबसे कम हो। कुछ मामलों में, आपका डॉक्टर एक से अधिक दवाओं की सिफारिश भी कर सकता है।

आपका डॉक्टर आपकी स्थिति, दौरे की आवृत्ति, आपकी आयु और अन्य कारकों पर विचार में रखते हुए आपके लिए दवा निर्धारित करेगा। आपका डॉक्टर आपके द्वारा ली जा रही किसी भी अन्य दवाओं की भी समीक्षा करेगा, जिससे वह यह सुनिश्चित कर सके कि कोई अन्य दवा जैसे मिर्गी की दवा इत्यादि बीच में प्रतिरोध तो नहीं उत्तपन्न नहीं कर रहीं।

सर्जरी और अन्य विकल्पों की सहायता से

यदि किसी रोगी के लिए एंटी-सिजुरे दवाएं प्रभावी नहीं हैं, तो इसके इलाज के लिए अन्य उपचार विकल्प भी हो सकते हैं:

सर्जरी: यदि किसी रोगी की सर्जरी की जाती है तो इसका मुख्य लक्ष्य होता है दौरों को होने से रोकना। इस प्रक्रिया में सर्जन आपके मस्तिष्क के उस क्षेत्र का पता लगाते हैं, जहां से दौरे शुरू होते हैं और सर्जरी की सहायता से उसे हटा देगा। सर्जरी उन लोगों के लिए अच्छा विकल्प हो सकती है, जिनके दिमाग में हमेशा एक ही जगह पर दौरे पड़ते हैं।

वेगस तंत्रिका उत्तेजना: इस विकल्प में डॉक्टर रोगी की छाती की त्वचा के नीचे एक उपकरण प्रत्यारोपित करता है जो उसके गले में वेगस तंत्रिका को उत्तेजित करता है, जो  मस्तिष्क को संकेत भेजते हैं जो कि दौरे को रोकता है। वेगस तंत्रिका उत्तेजना के साथ, आपको दवा लेने की आवश्यकता भी पड़ सकती है, लेकिन आप खुराक को कम करने में सक्षम हो सकते हैं।

आहार चिकित्सा: ऐसी डाइट का सेवन करें जो वसा ज्यादा मात्रा में हो और कार्बोहाइड्रेट कम हो, जैसे किटोजेनिक आहार, इस डाइट प्लान के सहायता से दौरों को नियंत्रित किया जा सकता है और यह दौरों में कुछ सुधार भी कर सकता है। कुछ डाइट प्लान जिनमे उच्च-वसा, कम-कार्बोहाइड्रेट आहार पर विविधताएं होती हैं, जैसे लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स और संशोधित एटकिन्स आहार, हालांकि कम प्रभावी होती हैं और केटोजेनिक आहार के समान प्रतिबंधात्मक नहीं होती, फिर भी काफी लाभ प्रदान कर सकते हैं।

और पढ़िए : Keto Diet India & Vegetarian Keto Diet Plan India

सिजुरे या दौरे के किसी भी लक्षण या मस्तिष्क से सम्बंधित किसी भी समस्या के लिए आज ही अपने नजदीकी न्यूरोलॉजिस्ट को दिखाएँ या आज ही इंडिया के बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट डॉक्टर के साथ अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए यहाँ क्लिक करें-

अपॉइंटमेंट बुक करें

Need Guidance in choosing right doctor?

REQUEST CALLBACK