गुरूवार , अगस्त 16 2018
ब्लॉग » स्वास्थ्य ब्लॉग » टॉ़यफायड के लक्षण – Symptoms of Typhoid in Hindi
typhoid symptoms in hindi - typhoid ke lakshan - symptoms of typhoid in hindi
typhoid symptoms in hindi - typhoid ke lakshan - symptoms of typhoid in hindi

टॉ़यफायड के लक्षण – Symptoms of Typhoid in Hindi

टाइफॉयड एक जीवाणु संक्रमण है जो Bacteria (जीवाणु) के कारण होता, जिसे साल्मोनेला टाइफी के नाम से जाना जाता है। टाइफॉयड को आंत्रज्वर के नाम से भी जाना जाता है। टाइफॉयड के दो प्रमुख लक्षण (Symptoms of Typhoid in Hindi) बुखार और लाल चकत्ते(Rashes) हैं। टाइफॉयड के लक्षणों (Symptoms of Typhoid in hindi) में उच्च बुखार, दस्त और उल्टी शामिल है। यह आपके जीवन के लिए घातक हो सकता है। आइये टाइफॉयड के लक्षणों (Symptoms of Typhoid in hindi) और टाइफॉयड बुखार (Typhoid fever symptoms in hindi) के लक्षणों के बारे में और अधिक जानकारी लेते हैं।

टाइफॉयड क्या है? What is Typhoid in Hindi

टाइफॉयड बुखार (Typhoid fever symptoms in hindi), बुखार से जुड़ी एक गंभीर संक्रामक बीमारी है जो प्रायः साल्मोनेला टाइफी बैक्टीरिया के कारण होती है। यह साल्मोनेला पैराटाइफी के कारण भी हो सकता है, जो एक संबंधित जीवाणु है जो आम तौर पर कम गंभीर बीमारी का कारण होता है। इस बीमारी के बैक्टीरिया दूषित पानी या भोजन माध्यम से किसी व्यक्ति में आते हैं और फिर क्षेत्र के अन्य लोगों में फैल जाते है। इसके लक्षण (symptoms of Typhoid in hindi) प्रायः छठे दिन से तीसवें दिन तक रहते हैं। औद्योगिक देशों में टाइफॉयड बुखार(Typhoid fever symptoms in Hindi) दुर्लभ है लेकिन विकासशील देशों में एक यह बीमारी एक महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्वास्थ्य मुद्दा है।

और पढ़िए: डेंगू बुखार के लक्षण aur Chikungunya ke lakshan.

टाइफॉयड के कारण- Causes of Typhoid

टाइफाइड (typhoid fever meaning in hindi) आमतौर पर, कोलेरा के समान ही दूषित पानी या भोजन से संचरित होता है। जो लोग संक्रमित होते हैं वे अपने मल और मूत्र में जीवित जीवाणुओं को बाहर निकाल देते हैं। आमतौर पर टाइफाइड के मरीजों में इसके लक्षण (Symptoms of Typhoid in Hindi) जल्दी से विकसित नहीं होते, इसलिए उन्हें पता ही नहीं होता कि उन्हें अतिरिक्त सावधानी बरतने की आवश्यकता है। अगर वे अपने हाथों को सही तरीके से नहीं धोते हैं, तो टाइफोइड बैसिलस बैक्टीरिया को भोजन या पानी सहायता से वहां से किसी दूसरे व्यक्ति में स्थानांतरित किया जा सकता है। इसके अलावा, इसे सीधे दूषित उंगलियों के माध्यम से भी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलाया जा सकता है।

टाइफॉयड के लक्षण- Symptoms of Typhoid in Hindi

टाइफाइड बुखार के मुख्य लक्षण(Symptoms of Typhoid in Hindi) निम्नलिखित हैं:

आमतौर पर बैक्टीरिया के संपर्क में आने के बाद इसके लक्षण (Symptoms of Typhoid in hindi) 6 से 30 दिनों के बीच में दिखाई देते हैं। टाइफॉयड के दो प्रमुख लक्षण बुखार (typhoid fever symptoms in hindi) और लाल चकत्ते (Rashes) हैं। टाइफॉयड बुखार (typhoid fever symptoms in hindi) विशेष रूप से उच्च(mostly high) होता है,और धीरे-धीरे यह 104 डिग्री फ़ारेनहाइट तक, या 39 से 40 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ सकता है। लाल चकत्ते,जो हर मरीज को प्रभावित नहीं करते है, ये विशेष रूप से गर्दन और पेट पर लाल रंग के धब्बे होते हैं।

टाइफॉयड के अन्य लक्षणों में (Typhoid ke lakshan in hindi) शामिल हैं:

  • दुर्बलता (weakness)
  • पेट में दर्द
  • कब्ज (Constipations)
  • सिर दर्द
  • अपर्याप्त भूख (Poor Appetite)
  • सिरदर्द (migraine in hindi)
  • दस्त (Diarrhea)
  • सामान्यीकृत दर्द और पीड़ा
  • सुस्ती (Lethargy)
  • आंतों में रक्तस्राव या छिद्रण (बीमारी के दो से तीन सप्ताह बाद)
  • थकान (fatigue meaning in hindi)

कभी-कभी, इसके लक्षणों (Typhoid ke lakshan in hindi) में भ्रम, दस्त और उल्टी भी सम्मलित हो सकते हैं, लेकिन यह आमतौर पर गंभीर नहीं होते।

टाइफॉयड के उपचार- Treatments of Typhoid

आमतौर पर टाइफॉयड के लक्षण (Symptoms of Typhoid in Hindi) 6 से 30 दिनों के बीच में दिखाई दे जाते हैं ,इसके लक्षण मरीज में दिखाई देते ही तुरन्त उपचार कराना चाहिये। टाइफॉयड के लिए एकमात्र प्रभावी उपचार एंटीबायोटिक्स है। टाइफॉयड के उपचार के लिए ciprofloxacin (for non-pregnant adults) और ceftriaxone एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल सबसे अधिक किया जाता है। एंटीबायोटिक्स के अलावा, पर्याप्त पानी पीने से भी इसके इलाज में फायदा मिलता है।अधिक गंभीर मामलों में, जहां आंत्र छिद्रित (bowel has become perforated) हो जाती है, सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

इसके अलावा टीकाकरण की सहायता से भी टायफॉइड से बचा जा सकता है
अभी तक के दो प्रकार के टीके उपलब्ध हैं, लेकिन अभी भी एक और प्रभावशाली टीके की आवश्यकता है। इन दोनों टीकों में से लाइव, मौखिक टीका ज्यादा प्रभावशाली है। 3 वर्षों के बाद भी, यह अभी भी व्यक्तियों को 73 प्रतिशत संक्रमण से बचाता है। हालांकि, इस टीके के दुष्प्रभाव अधिक हैं। मौजूदा टीके उतने प्रभावी नहीं हैं क्योंकि गरीब देशों में टाइफॉयड इतना प्रचलित है की इसके प्रसार को रोकने के लिए और बेहतर तरीके खोजने के लिए अधिक शोध करने की आवश्यकता है।