ब्लॉग » स्वास्थ्य ब्लॉग » गुर्दा और मूत्रविज्ञान » यूरिक एसिड क्या है, इसके बढ़ने के लक्षण, और सही इलाज
Uric Acid in Hindi, Uric Acid Treatment in Hindi, Uric Acid Diet Chart in Hindi, Uric Acid Ke Lakshan

यूरिक एसिड क्या है, इसके बढ़ने के लक्षण, और सही इलाज

क्या आपने कभी महसूस किया है कि आपकी माता, पिता या घर के किसी बुजुर्ग के जोड़ों में दर्द की शिकायत रहती है? या उनके पैरों की उंगलियों, एड़ियों और घुटनों में दर्द और सूजन रहती है? या फिर वे गठिया के शिकार हैं ? तो सतर्क हो जाएँ ये सभी लक्षण उनके शरीर में यूरिक एसिड (Uric Acid in Hindi) के बढ़ने के कारण हो सकते हैं।

यूरिक एसिड अत्यधिक मात्रा शरीर में विभिन्न प्रकार की बीमारियां लाती है। आइये जानते हैं कि क्या होता है यूरिक एसिड, इसको कम कैसे करें और नियंत्रण में लाने के लिए डाइट चार्ट।

Uric Acid in Hindi – यूरिक एसिड क्या होता है?

यूरिक एसिड खाद्य पदार्थों के पाचन से उत्पन्न एक प्राकृतिक अपशिष्ट उत्पाद है जिसमें प्यूरिन होता है। जब हमारे शरीर में प्यूरिन टूटता है तो यूरिक एसिड पाया जाता है। कुछ खाद्य पदार्थों में उच्च स्तर में प्यूरिन पाए जाते हैं जैसे:

  • कुछ मीट
  • एक प्रकार की मछली
  • सूखे सेम
  • बीयर

इसके अलावा हमारे शरीर में भी प्यूरिन बनते और टूटते हैं।

आम तौर पर हमारा शरीर किडनी की सहायता से यूरिक एसिड को फ़िल्टर करता है और मूत्र के साथ शरीर से बाहर निकल देता है। यदि आप अपने भोजन में बहुत अधिक प्यूरिन का सेवन करते हैं, या यदि आपका शरीर इस यूरिक एसिड से काफी तेजी से छुटकारा पाने में असमर्थ है, शरीर में इसकी मात्रा बढ़ने लगती है और ब्लड में यूरिक एसिड का निर्माण होने लगता है।

यदि यूरिक एसिड का लेवल बहुत बढ़ जाता है तो उस स्थिति को हाइपर्यूरिसीमिया के रूप में जाना जाता है। यूरिक एसिड के बढ़ने से शरीर की विभिन्न मांसपेशियों में सूजन आ जाती है, जिसके कारण दर्द होने लगता है और यह दर्द बढ़ने लगता है इससे गाउट नामक बीमारी हो सकती है जो दर्दनाक जोड़ों का कारण बनती है। यह ब्लड और मूत्र को भी एसिडिक बना सकता है।

यूरिक एसिड के इक्क्ठा होने के कारण – Uric Acid Ke Karan

यूरिक एसिड कई कारणों से शरीर में इकट्ठा हो सकता है। इनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

  • कुछ प्रकार के आहार के कारण शरीर में यूरिक एसिड इकट्ठा हो सकता है
  • कुछ मामलो में यह आनुवंशिक होता है
  • मोटापा या अधिक वजन होने के कारण भी यह समस्या हो सकती है
  • यदि आप बहुत अधिक तनावग्रस्त रहते हैं तो भी आपके शरीर में यूरिक एसिड इकट्ठा हो सकता है

कुछ स्वास्थ्य डिसऑर्डर भी यूरिक एसिड के बढ़ने का कारण बन सकते हैं:

  • किडनी की बीमारी से यूरिक एसिड बढ़ सकता है
  • मधुमेह/डायबिटीज के कारण भी यूरिक एसिड बढ़ता है
  • हाइपोथायरायडिज्म
  • कुछ प्रकार के कैंसर या कीमोथेरेपी भी यूरिक एसिड के बढ़ने का कारण होती हैं
  • सोरायसिस – जो एक त्वचा रोग होता है के कारण यूरिक एसिड बढ़ सकता है

यूरिक एसिड बढ़ने के लक्षण – Uric Acid Ke Lakshan

  • बहुत बार उच्च यूरिक एसिड के कोई लक्षण दिखाई नहीं देते।
  • खान पान के साथ यदि लाइफस्टाइल में अत्यधिक परिवर्तन होता है तो भी यूरिक एसिड बढ़ सकता है
  • यदि आपके ब्लड में यूरिक एसिड का लेवल काफी ऊंचा हो गया है, और आप ल्यूकेमिया या लिम्फोमा के लिए कीमोथेरेपी से गुजर रहे हैं, तो आपके ब्लड में उच्च यूरिक एसिड स्तर से किडनी की समस्या, या गठिया के लक्षण हो सकते हैं।
  • यदि किसी प्रकार के कैंसर से पीड़ित हैं, तो आपको बुखार, ठंड लगना, थकान हो सकती है और आपके यूरिक एसिड का लेवल बढ़ सकता है (ट्यूमर कैंसर सिंड्रोम के कारण)
  • यदि यूरिक एसिड के क्रिस्टल आपके जोड़ों में जमा हो गए हैं, तो आपको एक जोड़ों में सूजन महसूस हो सकती है जिसे “गाउट” कहा जा सकता है। (नोट गाउट सामान्य यूरिक एसिड स्तर के साथ भी हो सकता है)।
  • आपको किडनी की समस्याएं (गुर्दे की पथरी), या पेशाब के साथ समस्याएं हो सकती हैं
  • जोड़ों के दर्द के साथ उठने बैठने में परेशानी होना
  • हाथ और पैर की उँगलियों में सूजन के साथ दर्द होना

यदि ये लक्षण दिखाई देते हैं, तो इस बात का ध्यान रखना अत्यंत आवश्यक है कि जिन वस्तुओं के सेवन से यूरिक एसिड बढ़ता है उनका सेवन निषेध कर देना चाहिए । इसके अलावा आइये जानते हैं कि यूरिक एसिड का इलाज किस प्रकार किया जा सकता है और इसके लिए किस प्रकार के डाइट चार्ट (यूरिक एसिड डाइट चार्ट – Uric Acid Diet Chart in Hindi) का अनुसरण करना चाहिए।

यूरिक एसिड का इलाज

बढे हुए यूरिक एसिड के स्तर को नियंत्रित करने के लिए आप अपने डॉक्टर से सलाह ले सकते है और कुछ प्राकृतिक उपायों को करके भी इसे नियंत्रित किया जा सकता है आइये जानते हैं यूरिक एसिड का इलाज (Uric Acid Ka Ilaj) करने के तरीके –

दवाओं की सहायता से

  • आपका डॉक्टर आपको नॉन -स्टेरायडल एंटी इंफ्लामेटरी (एनएसएआईडी) एजेंट और इबुप्रोफेन दे सकता है जो गठिया से संबंधित दर्द में राहत प्रदान करती हैं।
  • इस बात का ध्यान रखना अधिक महत्वपूर्ण है कि टाइलेनॉल का सेवन इसकी दैनिक खुराक से अधिक न हो, क्योंकि इससे आपके लीवर को नुकसान हो सकता है।
  • यूरिकोसुरिक ड्रग्स: ये दवाएं यूरेट के पुन: अवशोषण को अवरुद्ध करने का काम करती हैं, जिससे यूरिक एसिड क्रिस्टल को आपके टिस्सु में जमा होने से रोका जा सकता है।

यूरिक एसिड डाइट चार्ट का पालन करके – Uric Acid Diet Chart in Hindi

इस समस्या को नियंत्रित करने के लिए एक विशेष यूरिक एसिड डाइट चार्ट  है जिसका कठोरता से पालन करने पर त्वरित परिणाम मिलते हैं। आहार परिवर्तन के अलावा, आप आहार और व्यायाम के संयोजन के माध्यम से यूरिक एसिड को नियंत्रित करने के तरीके भी पा सकते हैं। इसलिए, नियमित व्यायाम एक अन्य कारक है जो पाचन प्रक्रिया में मदद करता है लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आप किस तरह का भोजन लेते हैं। इसे नियंत्रित करने के लिए, आपको अपने प्यूरिन के सेवन पर नजर रखने की जरूरत है जो दिन के दौरान लगभग 600-1000 मिलीग्राम है। यूरिक एसिड डाइट चार्ट आपको दिन में इसे 100-150 मिलीग्राम तक सीमित करने में मदद करेगा ।

यूरिक एसिड डाइट चार्ट

Uric Acid in Hindi, Uric Acid Treatment in Hindi, Uric Acid Diet Chart in Hindi, Uric Acid Ke Lakshan

यह डाइट चार्ट बताता है कि यूरिक एसिड के अत्यधिक उत्पादन को नियंत्रित करने के लिए क्या खाना चाहिए और क्या नहीं। यहां, नीचे यूरिक एसिड बढ़ने पर खाये जाने वाले खाद्य पदार्थ दिए गए हैं और व्यक्तिगत यूरिक एसिड डाइट चार्ट(Uric Acid Diet Chart in Hindi) के माध्यम से यूरिक एसिड को नियंत्रित करने के तरीके के बारे में बताया गया है:

क्या खायें:

  1. एप्पल साइडर सिरका: यूरिक एसिड से पीड़ित लोगों को स्थिति में सुधार करने के लिए एक गिलास पानी के साथ 3 बड़े चम्मच एप्पल साइडर सिरका लेना चाहिए।
  2. फ्रेंच बीन जूस: यह सबसे प्रभावी घरेलू उपाय है, इसे दिन में दो बारलेने से उच्च यूरिक एसिड के उत्पादन में कमी आती है।
  3. चेरी: चेरी सिर्फ केक की सजावट के काम ही नहीं आती है बल्कि यह एक प्रकार की अच्छी औषधि के रूप में भी जानी जाती है क्योंकि इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी पदार्थ होते हैं जो यूरिक एसिड के क्रिस्टलीकरण और इसे जोड़ों में जमा होने से रोकता है जिससे दर्द और सूजन होती है।
  4. जामुन: चेरी के अलावा, स्ट्रॉबेरी, ब्लूबेरी और जामुन जो एंटी इन्फ्लामेट्री गुणों से समृद्ध होते हैं, आपके शरीर में उच्च यूरिक एसिड सामग्री को ठीक करने के लिए सुपर आवश्यक हैं।
  5. लौ फैट वाले डेयरी उत्पाद: ऐसा माना जाता है कि डेयरी उत्पाद शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ाते हैं। आप दूध के स्थान पर सोया या बादाम का दूध पी सकते हैं जो कि प्रोटीन से भरपूर होता है, साथ ही सोया चंक्स को पनीर के स्थान पर और बहुत कुछ। इसका अर्थ यह नहीं है कि हम आपको कम प्रोटीन लेने का सुझाव दे रहे हैं परन्तु यदि आपके शरीर में यूरिक एसिड का लेवल बढ़ रहा है तो लौ फैट वाले डेयरी उत्पादों का प्रयोग करें।
  6. भरपूर मात्रा में पानी पियें: जितना हो सके भरपूर मात्रा में अपने शरीर को हाइड्रेटेड रखें इससे आप अपने शरीर से यूरिक एसिड को आसानी से निकल सकते हैं इसके लिए कुछ समय पश्चात् पानी पीते रहना चाहिए
  7. ऑलिव ऑयल: कोल्ड-प्रेस्ड तकनीक से बने ऑलिव ऑयल से खाना पकाने से आपके गाउट को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी क्योंकि इसमें एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं।  इसके बारे में भी पढ़ें: Olive Oil In Hindi
  8. पिंटो बीन्स: पिंटो बीन्स में फोलिक एसिड होता है जो यूरिक एसिड के लेवल को कम करने के लिए एक महत्वपूर्ण पदार्थ है। आप भी अपने यूरिक एसिड को कम करने के लिए अपने आहार में सूरजमुखी के बीज और दाल शामिल कर सकते हैं।
  9. अन्य: ऊपर वर्णित आहार के अलावा, ताजा सब्जियों का रस, निम्बू, अजवाइन, उच्च फाइबर वाले भोजन, केले , ग्रीन टी, ज्वार और बाजरा जैसे अनाज, टमाटर, ककड़ी और ब्रोकोली, विशेष रूप से यूरिक एसिड के हाई लेवल का इलाज (Uric Acid Ka Ilaj) करने में मदद कर सकते हैं। इसलिए, यदि आप यूरिक एसिड को नियंत्रित करने के तरीके के बारे में चिंतित हैं, तो दिए गए उत्पादों का सेवन करें।

क्या न खायें:

  1. प्यूरिन से भरपूर खाद्य पदार्थ: प्यूरिन से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे रेड मीट, समुद्री भोजन, ऑर्गन मीट और कुछ प्रकार के सेम और परिष्कृत कार्बोहाइड्रेट और सब्जियां जैसे शतावरी, मटर, मशरूम और गोभी खाने से बचें।
  2. फ्रक्टोज युक्त पदार्थों का सेवन कम करें: एक शोध के अनुसार फ्रक्टोज युक्त पदार्थों का सेवन करने से आपको गठिया होने का खतरा दुगुना हो जाता है इसलिये जितना हो सके फ्रक्टोज युक्त पदार्थों के सेवन से बचें।
  3. अल्कोहोल का सेवन कम करें: खासकर यदि आप यूरिक एसिड की समस्या से परेशान रहते है तो अल्कोहोल का सेवन न करे, क्योंकि यह आपके शरीर को डिहाइड्रेट कर देता है। बीयर में यीस्‍ट भरपूर होता है, इसलिए इसके सेवन से दूर रहना चाहिये।आप चाहें तो वाइन का सेवन कर सकते हैं क्योंकि यह यूरिक एसिड के स्‍तर को प्रभावित नहीं करती।

व्यायाम की सहायता से यूरिक एसिड पर नियंत्रण

नियमित रूप से यूरिक एसिड डाइट चार्ट का पालन करने के अलावा, यदि आप इसे कुछ हल्के व्यायामों को भी अपने जीवन में जोड़तें हैं तो यह आपके लिए बहुत उपयोगी साबित हो सकता है। लेकिन खुद को अधिक तनाव में न रखें क्योंकि व्यायाम/अभ्यास करने से स्थिति खराब नहीं होनी चाहिए। नीचे कुछ व्यायामों की एक सूची है जो आपके यूरिक एसिड को नियंत्रित करने में आपकी मदद कर सकती है:

  1. जोड़ों की कठोरता को कम करने और जोड़ों को गतिशीलता प्रदान करने के लिए आप गति वाले अभ्यास कर सकते हैं।
  2. योग और ताई ची जैसी ताकत वाले व्यायाम बहुत उपयोगी साबित हो सकते हैं। प्रारंभिक चरणों में जटिल अभ्यासों का प्रयास न करें। इसे बाद के लिए रखें।
  3. सहनशक्ति और मजबूती बढ़ाने वाले व्यायाम।
  4. प्राथमिक स्ट्रेचिंग वाले अभ्यासभी कर सकते हैं।

यूरिक एसिड डाइट डाइट चार्ट, व्यायाम और अन्य स्वस्थ जीवन शैली में परिवर्तन लेकर यूरिक एसिड के बढे हुए लेवल के कारण होने वाली गाउट, गठिया और अन्य बीमारियों में सुधार हो सकता है। हालांकि, ये घरेलू उपाय हमेशा आवश्यक चिकित्सा उपचार की जगह नहीं ले सकते। अपने चिकित्सक द्वारा निर्देशित सभी निर्धारित दवाएं लें। आहार, व्यायाम और दवाओं का सही संयोजनसे आप यूरिक एसिड के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते है

इसके बारे में भी पढ़ें: How To Control Uric Acid By Adopting A Uric Acid Diet Menu

यदि आप यूरिक एसिड से परेशान हैं तो आज ही अपने नजदीकी डॉक्टर (Best Urologist in India) से अपॉइंटमेंट बुक करें, या क्रेडीहेल्थ मेडिकल एक्सपर्ट से फ्री में बात करने के लिए यहां क्लिक करें –

कॉल बैक का अनुरोध करें

 

Need Guidance in choosing right doctor?

REQUEST CALLBACK
Subscribe