ब्लॉग » स्वास्थ्य ब्लॉग » महिलाओं का स्वास्थ » डिंबक्षरण या ओवुलेशन साइकिल, पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी होती है
Ovulation meaning in hindi, Ovulation in hindi, Ovulation symptoms in hindi, Ovulation period in hindi

डिंबक्षरण या ओवुलेशन साइकिल, पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी होती है

यदि आप जीवन में अभी या बाद में गर्भवती होना चाहती हैं? तो यह जानना महत्वपूर्ण है कि आपका ओवुलेशन पीरियड कब होता है। डिंबक्षरण या ओवुलेशन के बारे में गलत जानकारी आपके गर्भाधान की आपकी बाधाओं को बढ़ा सकती है। अब प्रश्न यह उठता है की डिंबक्षरण या ओवुलेशन (Ovulation Meaning in Hindi) और ओवुलेशन पीरियड क्या होता है?

यह वह समय होता है जब अंडे स्पर्म से मिलने के लिए तैयार होते हैं, और यही वह समय होता है जब आप आसानी से गर्भधारण कर सकती हैं। पर इसके लिए आवश्यक है कि आपको यह पता हो कि आपका ओवुलेशन पीरियड कब होगा। आइये जानते हैं किस प्रकार यह पूरी प्रक्रिया होती है और इसके क्या लक्षण होते हैं, अर्थात कैसे पहचाने अपना ओवुलेशन पीरियड?

ओवुलेशन से जुड़े रोचक तथ्य

  • डिंबक्षरण तब होता है जब अंडाशय से एक परिपक्व अंडा निकलता है
  • मासिक धर्म चक्र पर निर्भर करता है
  • रेगुलर पीरियड न होने पर ओवुलेशन का समय अलग होता है
  • ओवुलेशन मासिक धर्म चक्र के १२ वें और १६ वें दिनों के बीच होता है
  • डिंबक्षरण के लक्षणों को पहचान कर ओवुलेशन पीरियड का पता लगाया जा सकता है
  • ओवुलेशन पीरियड के समय बढ़ जाता है शरीर का तापमान
  • डिंबक्षरण के दौरान सेक्स करने से बढ़ती हैं प्रेग्नेंट होने की सम्भावना

ओवुलेशन क्या होता है? – Ovulation Meaning in Hindi

गर्भधारण के लिए कब ट्राय करना है, इसका पता लगाने के लिए आवश्यक है कि आपको अपना ओवुलेशन पीरियड पता हो। डिंबक्षरण एक महिला के मासिक धर्म चक्र का वह चरण है जब अंडाशय से एक अंडा (अंडाणु) निकलता है, जो स्पर्म से मिलने के लिए तैयार होता है। आमतौर पर एक महिला के पीरियड्स २८ दिन के बाद आते है, तो उसके अनुसार मासिक धर्म या पीरियड ख़त्म होने के १२ वें दिन से १६ वें दिन तक का समय एक महिला के लिए गर्भधारण का सबसे सही समय माना जाता है। यदि इस समय के दौरान आप सेक्स करते हैं तो आपके गर्भधारण की सम्भावना सबसे अधिक होती है। परन्तु यदि आपके पीरियड्स रेगुलर नहीं होते हैं तो आपके ओवुलेशन पीरियड का पता लगाना थोड़ा कठिन हो सकता है। आइये जानते हैं कि क्या होती है यह पूरी प्रक्रिया-

Ovulation meaning in hindi, Ovulation in hindi, Ovulation symptoms in hindi, Ovulation period in hindi

डिंबक्षरण या ओवुलेशन प्रक्रिया

डिंबक्षरण की प्रक्रिया आमतौर पर हर मासिक धर्म चक्र के समय एक बार होती है जब हार्मोन एक अंडा जारी करने के लिएओवरी को ट्रिगर करता है। आप केवल तभी गर्भवती हो सकती हैं जब एक स्पर्म अंडे को निषेचित करेगा। ओवुलेशन आमतौर पर आपके मासिक धर्म की अवधि शुरू होने के १२ वें दिन से १६ वें पर होता है। अंडे आपके ओवरी में होते हैं। विज्ञानं के अनुसार जब एक कन्या का जन्म होता है तब उस समय उसकी ओवरी में करीबन 2 करोड़ अंडे होते हैं जो आपके पीरियड्स शुरू होने की आयु तक आते-आते करीबन ५००,००० बचते हैं। प्रत्येक मासिक धर्म चक्र के पहले भाग के दौरान, एक अंडा विकसित और परिपक्व होता है। जैसे-जैसे आपका ओवुलेशन पीरियड करीब आते है, आपके शरीर में एस्ट्रोजन नामक एक हार्मोन पैदा होने लगता है, जो आपके यूटेरस की लाइनिंग/ सतह को मोटा करता है और स्पर्म के लिए अनुकूल वातावरण बनाने में मदद करता है। ये हाई एस्ट्रोजन का लेवल एक अन्य हार्मोन में अचानक वृद्धि को ट्रिगर करता है जिसे ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (LH) कहा जाता है। ‘LH’ में वृद्धि ओवरी से परिपक्व अंडे के बाहर निकलने का कारण बनती है – जिसे ओवुलेशन कहते हैं। सामान्य रूप से, LH वृद्धि के २४ से ३६ घंटे बाद ओवुलेशन होता है, यही वजह है कि LH में वृद्धि होना फर्टिलिटी होने के अधिक चान्सेस के बारे में बताता है। ओवुलेशन के २४ घंटे बाद तक ही अंडे को फर्टाइल/निषेचित किया जा सकता है। यदि यह फर्टिलाईज़ नहीं होता है तो यह गर्भाशय की लाइनिंग में मिल जाता है (अंडा इसके साथ खो जाता है) और आपके पीरियड्स की अवधि शुरू हो जाती है। जो अगले मासिक धर्म/पीरियड्स की शुरुआत का प्रतीक होता है।

ओवुलेशन के लक्षण

डिंबक्षरण की प्रक्रिया के दौरान हमारा शरीर हमे कई प्रकार के संकेत देता है, जो यह बताने के लिए काफी होते हैं कि हमारा ओवुलेशन पीरियड आ चुका है। बस जरुरत होती है इन संकेतों और लक्षणों(Ovulation Symptoms in Hindi) को पहचानने की। आइये जानते हैं क्या होते हैं वो लक्षण

  • LH में वृद्धि
  • तापमान बढ़ना
  • ओवुलेशन दर्द
  • सलाइवा/लार में बदलाव
  • सर्वाइकल म्यूकस/ग्रीवा बलगम में परिवर्तन

LH में वृद्धि

जैसे ही एक महिला ओवुलेशन (Ovulation in Hindi) के करीब पहुंचती है, उसका शरीर एस्ट्रोजन नामक एक हार्मोन की बढ़ती मात्रा पैदा करता है, जिसके कारण उसके गर्भाशय/वॉम्ब की परत मोटी हो जाती है और इसे स्पर्म के रहने के अनुकूल वातावरण बनाने में मदद करता है। ये उच्च एस्ट्रोजन का स्तर एक अन्य हार्मोन में अचानक वृद्धि को ट्रिगर करता है जिसे ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (LH) कहा जाता है। यह LH वृद्धि उसके अंडाशय से परिपक्व अंडे की रिहाई का कारण बनता है – यह ओवुलेशन है। एलएच सर्जन के 24 से 48 घंटे बाद ओवुलेशन सामान्य रूप से होता है, यही वजह है कि एलएच सर्ज पीक फर्टिलिटी का अच्छा भविष्यवक्ता होता है।

शरीर का तापमान बढ़ना

ओवुलेशन के बाद एक महिला के शरीर का तापमान ०.४ से १.० डिग्री सेल्सियस तक बढ़ जाता है। यह वृद्धि आम तौर पर बहुत कम नोटिस करने योग्य होती है, लेकिन एक सटीक थर्मामीटर द्वारा इसका पता लगाया जा सकता है।

ओवुलेशन दर्द

लगभग पांच में से एक महिला को ओवुलेशन के समय दर्द होता है। दर्द ओवुलेशन से पहले, इसके दौरान या बाद में भी हो सकता है। इस ओवुलेशन दर्द के कई कारण हैं-

  • ओवुलेशन से ठीक पहले, फॉलिकल की वृद्धि से ओवरी की सतह में खिंचाव हो सकता है, जिससे दर्द हो सकता है।
  • ओवुलेशन के समय, फूटे हुए अंडे के फॉलिकल से द्रव/रक्त निकलता है जो पेट की लाइनिंग में जलन पैदा कर सकता है।

ऐसा हो सकता है कि एक महीने ओवुलेशन का दर्द एक तरफ हो और दूसरे महीने दूसरी तरफ या हर बार एक ही तरफ हो। यह आम तौर पर केवल कुछ मिनटों तक रहता है, लेकिन यह लंबे समय तक भी रह सकता है, संभवतः २४ से ४८ घंटों तक, और तेज ऐंठन, या विशिष्ट दर्द हो सकता है। यह शायद ही कभी गंभीर दर्द के रूप में वर्णित होता है।

सलाइवा/लार में बदलाव

एक स्टडी के अनुसार एक महिला की लार उसके शरीर में हार्मोन एस्ट्रोजन की मात्रा के अनुसार बदल जाती है। एक महिला के मासिक चक्र के दौरान, ओवुलेशन से कुछ दिन पहले एस्ट्रोजेन की मात्रा में एक बड़ी वृद्धि होती है और दूसरी छोटी वृद्धि उसके पीरियड के कुछ दिन पहले होती है।

सर्वाइकल म्यूकस/ग्रीवा बलगम में परिवर्तन

एक महिला के पीरियड्स के दौरान, सर्वाइकल म्यूकस (सर्विक्स में ग्रंथियों द्वारा बनाया गया एक स्राव) के प्रकार और मात्रा में बदलाव आता है। यह चिपचिपा या खिंचावदार, सफेद या क्लॉउडी हो सकता है। ओवुलेशन तक अग्रणी दिनों में यह स्पष्ट और खिंचाव में बदल जाता है (और अक्सर इसकी तुलना अंडे के सफेद भाग से की जाती है जिस कारण इसका नाम – ‘एग वाइट सर्वाइकल म्यूकस’ है)। यह म्यूकस स्पर्म के लिए सहायक होता है और स्पर्म को अंडे तक पहुंचने में मदद करता है।

सेक्स के लिए इच्छा बढ़ना

ओवुलेशन के संकेतों की बात करें तो, आपका शरीर ओवुलेशन के दृष्टिकोण के अनुसार फर्टिलिटी बढ़ने के कई संकेत देता है। ओवुलेट करने से पहले सेक्स करने की इच्छा प्रबल हो जाती है। इस समय एक महिला की कामेच्छा बढ़ती है। अगर आपने कभी सोचा है कि पूरे महीने सेक्स वैक्स और वेन्स की आपकी इच्छा क्यों होती है, तो यह एक बड़ा कारण है।

और पढ़ें : First Time Sex Can Cause Pregnancy

कुछ महिलाओं को ओवुलेशन (Ovulation in Hindi) के दौरान पेट के निचले भाग में हल्का हल्का दर्द होता है जो कुछ सेकंड से कुछ घंटों तक रह सकता है। यह महिलाओं के लिए फर्टिलाइजेशन फेज का पता लगाने का एक सबसे उत्कृष्ट सुराग हो सकता है। कुछ महिलाओं में ओवुलेशन के दौरान स्पॉटिंग होती है, जिससे यह जानना आसान हो जाता है कि महिला का फर्टिलाइजेशन पीरियड कब है।

इसके अलावा, उम्र महिला की फर्टिलिटी को निर्धारित करने में एक बड़ी भूमिका निभाती है, बड़ी उम्र की महिलाएं युवा महिलाओं की तुलना में कम फर्टाइल होती हैं। एक आदर्श शरीर का वजन होना, पौष्टिक और अच्छी तरह से संतुलित भोजन करना, जीवन शैली में बदलाव को अपनाना और फर्टिलाइजेशन पीरियड के दौरान सेक्स करने से गर्भाधान की संभावनायें बढ़ाई जा सकती हैं।

और पढ़ें : Learn How To Get Pregnant in Hindi – गर्भवती कैसे हों

Ovulation Meaning in Hindi; कुछ ऐसे कारक भी हैं जो फर्टिलिटी को प्रभावित करते हैं जैसे कि मोटापा, दंपत्ति का स्वास्थ्य, तनाव इत्यादि। तो गर्भधारण के लिए आवश्यक है कि वह दम्पति स्वस्थ हो और किसी प्रकार का तनाव न हो। यदि आप 12वें से 16वें दिन के बीच के लक्षणों(Ovulation Symptoms in Hindi) और संकेतों को समझ जाएँगी तो आप आसानी से अपने ओवुलेशन पीरियड(Ovulation Period in Hindi) के बारे में जान सकती हैं और उस समय सेक्स करके आसानी से प्रेग्नेंट हो सकती हैं। यहां यह ध्यान में रखना अत्यंत आवश्यक है कि क्या आपके पीरियड्स 28 से 35 दिन के अंतराल पर आते हैं या नहीं। यदि आपके पीरियड्स अनिश्चित होते हैं तो अपने डॉक्टर से सलाह लें।

किसी भी प्रकार की प्रेग्नेंसी और अन्य महिलाओं से सम्बंधित समस्या के लिए आज ही अपने नजदीकी गायनोकॉलोजिस्ट (Best Gynaecologist in India) से अपॉइंटमेंट बुक करें।

गयनेकोलॉजिस्ट का चयन करने के लिए क्रेडीहेल्थ मेडिकल एक्सपर्ट से फ्री में बात करने के लिए यहां क्लिक करें –

कॉल बैक का अनुरोध करें

Need Guidance in choosing right doctor?

REQUEST CALLBACK
Subscribe